Breaking
  • IPL 2018 FINAL: सनराइजर्स हैदराबाद ने चेन्नई सुपर किंग्स को दिया 179 का लक्ष्य
  • चेन्नई सुपर किंग्स के कप्तान एमएस धोनी ने जीता टॉस, पहले फील्डिंग का फैसला किया
  • मुंबई: गोरेगांव (पश्चिम) एसवी रोड पर टेक्निक प्लस वन की बिल्डिंग में आग लगी
  • केरल: निपाह वायरस के कारण एक अन्य की मौत, मरने वालों की संख्या 14 हुई
  • ओमान चांडी को आंध्र प्रदेश का कांग्रेस प्रभारी नियुक्त किया गया, दिग्विजय सिंह की जगह लेंगे
  • पीएम मोदी 44वीं बार करेंगे मन की बात, छात्रों को दिखाएंगे रास्ता पढ़ें पूरी खबर -Read More »
  • पीएम मोदी दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेसवे पर करेंगे रोड शो, सोलर पावर से लैस हाईवे का करेंगे उद्घाटन -Read More »

भीमा कोरेगांव हिंसा: महाराष्ट्र सरकार ने सभी आरोपियों के खिलाफ दर्ज केस वापस लिया

  |   Updated On : March 14, 2018 07:52 AM
भीमा कोरेगांव हिंसा के बाद महाराष्ट्र बंद की तस्वीर (फाइल फोटो)

भीमा कोरेगांव हिंसा के बाद महाराष्ट्र बंद की तस्वीर (फाइल फोटो)

मुंबई:  

महाराष्ट्र सरकार ने साल के शुरुआत में भीमा कोरेगांव में हुए जातिगत हिंसा में सभी आरोपियों के खिलाफ दर्ज मामलों को वापस ले लिया है। मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने राज्य विधानसभा में मंगलवार को इसकी घोषणा की।

साथ ही राज्य सरकार ने हिंसा के दौरान लोगों को हुए नुकसान पर हर्जाने की राशि भी देने की घोषणा की है।

मुख्यमंत्री ने कहा, 'गंभीर मामलों पर फैसला उपयुक्त सोच विचार करने के बाद समिति के द्वारा लिया जाएगा और वह तीन महीनों में अपनी रिपोर्ट सौंपेगी।'

भीमा कोरेगांव में हुए हिंसा के बाद राज्य भर में हुए बंदी के दौरान महाराष्ट्र पुलिस ने कुल 162 लोगों के खिलाफ 58 मामलों को दर्ज किया था।

क्या है भीमा कोरेगांव हिंसा

बता दें कि 1 जनवरी को पुणे जिले के भीमा-कोरेगांव में हुए दंगे में एक युवक की मौत हो गई थी साथ ही 10 पुलिस कर्मी सहित कई लोग घायल हो गए थे।

महाराष्ट्र में भीमा-कोरेगांव की लड़ाई के 200 साल पूरे होने के मौके पर नए साल के एक दिन पहले दलित समुदाय के लोगों ने कार्यक्रम का आयोजन किया गया था जिसमें कई बड़े लोगों ने 'एल्गार परिषद' में हिस्सा लिया था।

कार्यक्रम के दौरान कुछ लोगों के द्वारा भगवा झंडा लहराते हुए भीड़ की तरफ पत्थर फेंकने के बाद हिंसा शुरू हो गई थी। जिसके बाद पुणे में हर तरफ विरोध प्रदर्शन हुआ।

दलित कार्यकर्ताओं ने 2 जनवरी को मुंबई में भी विरोध प्रदर्शन किया। इसी प्रदर्शन के दौरान एक युवक की मौत हो गई। इस हिंसा के बाद गुजरात के बडगाम से विधायक जिग्नेश मेवाणी और जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय के छात्र उमर खालिद के खिलाफ भी भड़काऊ भाषण देने के आरोप में केस दर्ज किया गया था।

और पढ़ें: यूपी-बिहार उपचुनाव परिणाम आज, 8 बजे से मतगणना शुरू

RELATED TAG: Bhima Koregaon Violence, Bhima Koregaon, Maharashtra Government, Maharashtra, Devendra Fadnavis, Pune, Mumbai,

देश, दुनिया की हर बड़ी ख़बर अब आपके मोबाइल पर, डाउनलोड करें न्यूज़ स्टेट एप IOS ओर Android यूज़र्स इस लिंक पर क्लिक करें।

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें

न्यूज़ फीचर

मुख्य ख़बरे

वीडियो

फोटो