Breaking
  • SC ने प्रिवेंशन ऑफ मनी लॉन्ड्रिंग एक्ट के सेक्शन 45 को असंवैधानिक करार दिया
  • पद्मावती को ब्रिटिश सेंसर बोर्ड से मिली मंजूरी, 1 दिसंबर को होगी रिलीज, पढ़ें खबर -Read More »
  • SC में पद्मावती पर नई याचिका दायर, फिल्म को देश के बाहर रिलीज करने पर रोक की मांग
  • त्रिपुरा: पत्रकार हत्या के विरोध में अखबारों ने संपादकीय छोड़ा खाली, पढ़ें खबर -Read More »
  • CM योगी के बयान पर NHRC ने जारी किया नोटिस, मांगा जवाब, पढ़ें खबर -Read More »
  • फॉग और तकनीकी कारणों से 17 ट्रेन देरी से चल रही है, 1 ट्रेन रद्द और 6 के समय में बदलाव

तस्वीरों में देखें, कैसे मध्य प्रदेश में 'सर्व शिक्षा अभियान' हुई हवा हवाई

  |  Updated On : September 14, 2017 05:11 PM
सर्व शिक्षा अभियान के तहत मध्य प्रदेश में खुले में चल रहे स्कूल (फोटो: ANI)

सर्व शिक्षा अभियान के तहत मध्य प्रदेश में खुले में चल रहे स्कूल (फोटो: ANI)

ख़ास बातें
  •  इस स्कूल में पढ़ने वाले बच्चे तेज धूप में बैठ कर पढ़ाई करते हैं
  •  पानी पीने के लिए भी जान जोखिम में डाल कर सड़क पार करते हैं बच्चे

नई दिल्ली:  

एक तरफ जहां मध्य प्रदेश सरकार के शिक्षा मंत्री देशभक्ति जगाने के लिए क्लास में हाजिरी के समय बच्चों को 'यस सर' या 'यस मैडम' के बदले जय हिन्द बोलने का फरमान दे रहे हैं। वहीं दूसरी ओर राज्य के कई बच्चों को पढ़ाई के लिए स्कूल तक मयस्सर नहीं हो रहा और सड़क पर पढ़ने को मजबूर हैं।

जी हां, मध्य प्रदेश के छतरपुर में सर्व शिक्षा अभियान के तहत चल रहे एक ऐसे स्कूल की तस्वीर सामने आई है, जिसमें खुली सड़क पर ही बच्चों को पढ़ाया जा रहा है। इस स्कूल में शौचालय, पानी की व्यवस्था और बिजली जैसी कोई बुनियादी सुविधा नहीं दी गई है और यह स्थिति पिछले 3 सालों से है।

सोचिए तपती धूप में ये बच्चे कैसे पढ़ाई करते होंंगे? सरकारी व्यवस्था पर भले ही इस घटना से कोई फर्क न पड़े लेकिन क्या इन बच्चों के शरीर पर भी असर नहीं पड़ता होग। बच्चों ने कहा कि इन्हें पानी पीने के लिए भी जान जोखिम में डाल कर सड़क पार करना पड़ता है।

वहीं छतरपुर स्कूल का मामला सामने आने के बाद मध्य प्रदेश के शिक्षा मंत्री ने कहा, 'कई स्कूल हैं, जो भाड़े के जगहों पर चल रहे हैं। सीमित संसाधनों में जो हम कर सकते हैं, वो कर रहे हैं। इस मामले की जांच करेंगे।'

और पढ़ें: मध्य प्रदेश के शिक्षा मंत्री का फरमान, हाजिरी के समय 'यस सर' और 'यस मैडम' की बजाय बच्चे बोलें जय हिंद

केन्द्र सरकार ने 'सर्व शिक्षा अभियान' की शुरुआत साल 2001 में ही की थी, जिसके तहत सभी बच्चों को स्कूल के अंदर लाने और उन्हें बुनियादी शिक्षा उपलब्ध कराना था। लेकिन शिक्षा के बंटे स्तर को पाटने में सरकारें नाकाम हैं।

वहीं सरकार ने 86वें संविधान संशोधन के तहत देश के 6-14 साल तक के बच्चों को मुफ्त और अनिवार्य शिक्षा दिलाने को मौलिक अधिकार में शामिल किया था। कई राज्यों में इसकी भी हवा निकली हुई है।

वैसे आपको बता दें कि मध्य प्रदेश की यह भयावह तस्वीर सरकार की शिक्षा नीति की विफलता को हमारे सामने रखती है। राज्य के स्कूल में इतनी शर्मनाक स्थिति होने के बाद भी नेता और मंत्री भाषणों के सप्लाई के अलावा कुछ नहीं कर पा रहे हैं।

और पढ़ें: हिन्दी दिवस : 5 साहित्यकार जो माने जाते हैं हिन्दी भाषा के स्तंभ

RELATED TAG: Madhya Pradesh, Sarva Shiksha Abhiyan, Mp, Chhatarpur Mp, Primary Education, Vijay Shah, Mp Government,

देश, दुनिया की हर बड़ी ख़बर अब आपके मोबाइल पर, डाउनलोड करें न्यूज़ स्टेट एप IOS ओर Android यूज़र्स इस लिंक पर क्लिक करें।

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें

न्यूज़ फीचर

मुख्य ख़बरे

वीडियो

फोटो