Breaking
  • हार्दिक के कांग्रेस के साथ जाने पर गुजरात डिप्टी CM नितिन ने खोया आपा, पढ़ें खबर -Read More »
  • ब्रहमोस क्रूज़ मिसाइल का सुखोई-30 MKI लड़ाकू विमान से सफल परीक्षण
  • 15 दिसंबर से शुरू हो सकता है संसद का शीतकालीन सत्र- सूत्र
  • अमेरिकी नौसेना का विमान प्रशांत महासागर में दुर्घटनाग्रस्त, 11 लोग थे सवार: AP
  • प्रद्युम्न हत्या मामला: आरोपी छात्र को 14 दिनों के लिए जुवेनाइल होम भेजा गया
  • जेपी ग्रुप को SC से नहीं मिली राहत, कोर्ट ने पैसे जमा कराने की तारीख बताई
  • मुलायम सिंह के 79वें जन्मदिवस समारोह का जश्न, 1 साल बाद दिखे अखिलेश के साथ एक मंच पर
  • गुजरात चुनाव: हार्दिक पटेल बोले - कांग्रेस से टिकट पर कोई मतभेद नहीं, आरक्षण का फॉर्मूला मंजूर
  • केरल हदिया केस: सुप्रीम कोर्ट ने पिता की जल्द सुनवाई की मांग से किया इंकार
  • जम्मू-कश्मीर: शोपियां में अस्पताल परिसर से अनजान लोग उड़ा ले गए ATM -Read More »
  • पाकिस्तान को हाफिज सईद की रिहाई से डर, लग सकते हैं अंतरराष्ट्रीय प्रतिबंध, पढ़ें खबर -Read More »

मध्य प्रदेश: नर्मदा घाटी के हर गांव में सन्नाटा, हर चेहरे पर मायूसी

  |  Updated On : September 17, 2017 12:22 AM
मध्य प्रदेश में जल सत्याग्रह पर बैठीं महिलाएं

मध्य प्रदेश में जल सत्याग्रह पर बैठीं महिलाएं

ख़ास बातें
  •  रविवार को सरदार सरोवर बांध देश को समर्पित करेंगे पीएम मोदी
  •  मध्य प्रदेश में जल सत्याग्रह पर बैठी हैं स्थानीय महिलाएं
  •  सारा इलाका आने वाले दिनों में नर्मदा नदी की भेंट चढ़ने वाला है: अमूल्य निधि (सामाजिक कार्यकर्ता)

 

नई दिल्ली:  

मध्यप्रदेश की नर्मदा घाटी के गांवों में सन्नाटा पसरा हुआ है, हर किसी के चेहरे पर मायूसी छाई हुई है। कोई अपने घर की छत पर, तो कोई मंदिर में और कोई पड़ोसी के ऊंचे मकान में शरण लेकर अपनी ओर आते नर्मदा के पानी को टकटकी लगाए देख रहा है।

ये सरदार सरोवर के सताए लोग हैं। ये लोग केंद्र सरकार के साथ राज्य के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से भी निराश हो चुके हैं। उन्हें लगने लगा है कि 'मेरा कातिल ही, मेरा मुंसिफ है, मेरे हक में क्या फैसला देगा।'

बड़वानी जिले के छोटा बरदा गांव के 48 वर्षीय नरेंद्र यादव की आंखों में आने वाले दिनों का संकट साफ पढ़ा जा सकता है, उसके बावजूद वे किसी भी स्थिति में अपना गांव, घर, द्वार छोड़ने को तैयार नहीं हैं।

वे बताते हैं कि उनका 13 सदस्यों का भरा-पूरा परिवार है, उनके गांव की निचली बस्ती में रहने वालों के मकान नर्मदा के बढ़ते जलस्तर के कारण पानी से घिरने लगे हैं, मगर उन्होंने घर नहीं छोड़ा है।

यादव कहते हैं कि उनके लिए केंद्र और राज्य सरकार, दोनों मर चुकी है, इसलिए उन्होंने शुक्रवार को मुंडन कराया, ब्राह्मण भोज करने के बाद दोनों सरकारों के लिए पिंडदान भी करेंगे। सरकार वह होती है जो अपनी जनता की जान बचाए, मगर ये दोनों सरकारें ऐसी हैं जो हजारों परिवारों की जान लेने को तैयार हैं।

और पढ़ें: PM अपने जन्मदिन के मौके पर देश को समर्पित करेंगे सरदार सरोवर बांध

इसी तरह सिमलदा गांव की सरस्वती बाई कहती हैं कि नर्मदा तो उनकी मां है, वह उनकी गोद में समा जाएंगी, मगर जाते-जाते वह उन लोगों को जो इसके लिए जिम्मेदार हैं, उन्हें ऐसी बददुआ देकर जाएंगी कि उनका जीवन नरक बन जाएगा।

सरस्वती आगे कहती हैं कि घर, गांव छोड़ना किसे अच्छा लगता है, मगर सरकार उन्हें ऐसा करने को मजबूर कर रही है। सरकार ने न तो पुनर्वास का इंतजाम किया है और न ही मुआवजा ही दिया है। गांव छोड़ने से अच्छा है कि नर्मदा मैया की गोद में समा जाएं।

अपने जीवन पर गहराए संकट को करीब से देख रहे लोगों ने नर्मदा बचाओ आंदोलन की नेत्री मेधा पाटकर के नेतृत्व में नर्मदा घाट पर शुक्रवार से सत्याग्रह शुरू कर दिया है। इस घाट पर धीरे-धीरे जलस्तर बढ़ रहा है।

मेधा कहती हैं कि यह प्राकृतिक आपदा नहीं है, जलस्तर बारिश की वजह से नहीं बढ़ा है, बल्कि मध्यप्रदेश सरकार ने जबलपुर के बरगी बांध सहित अन्य बांधों से पानी छोड़कर गुजरात के सरदार सरोवर तक पहुंचाया है।

उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान अपने प्रदेश के लोगों को मारकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को खुश करने में लगे हैं। शायद ही दुनिया में ऐसा कोई मुख्यमंत्री हुआ हो, जिसने अपने राज्य की जनता को डुबोकर अपने आका को खुश किया हो।

और पढ़ें: मार्शल ऑफ एयरफोर्स अर्जन सिंह का दिल का दौरा पड़ने से निधन

सामाजिक कार्यकर्ता अमूल्य निधि के मुताबिक, धार और बड़वानी जिले के कई गांव ऐसे हैं, जिनका सारा कारोबार दूसरे जिले के बाजारों से चलता है। उदाहरण के तौर पर धार जिले के चिखल्दा और निसरपुर के बाजार में बड़वानी के लोग आते हैं।

इसी तरह बड़वानी के अंजड़ में धार के लोगों का आना होता है। यह सारा इलाका आने वाले दिनों में नर्मदा नदी की भेंट चढ़ने वाला है।

नर्मदा नदी के बढ़ते जलस्तर के साथ गांव, बाजार, मंदिर, मस्जिद, मजार, हजारों पेड़, महात्मा गांधी के अस्थि कलश का राजघाट और न जाने कितने धार्मिक स्थल धीरे-धीरे डूब में आते जा रहे हैं।

इस नजारे को देखकर उस इलाके के लोगों की आंखों में आंसू भर आते हैं और आसमान व नर्मदा मैया की तरफ देखकर प्रार्थना करने लगते हैं कि 'तू ही हमारी मां है, क्या हमारी जान ले लेगी?

और पढ़ें: मोदी के मंत्री अल्फोंस का बेतुका बयान, 'पेट्रोल-डीजल खरीदने वाले भूखे तो नहीं मर रहे'

RELATED TAG: Sardar Sarovar Dam, Madhya Pradesh, Pm Modi, Medha Patkar, Shivraj Singh Chauhan, Narmada River, Jal Satyagrah, Narmada Bachao Andolan,

देश, दुनिया की हर बड़ी ख़बर अब आपके मोबाइल पर, डाउनलोड करें न्यूज़ स्टेट एप IOS ओर Android यूज़र्स इस लिंक पर क्लिक करें।

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें

न्यूज़ फीचर

मुख्य ख़बरे

वीडियो

फोटो