Breaking
  • तीन तलाक बिल: मेनका गांधी ने कहा- कानून की आवश्यकता पर नहीं उठाए सवाल
  • अब सरकार से बड़े आर्थिक सुधार की उम्मीद होगी बेमानी: एसोचैम
  • बलूचिस्तान: क्वेटा में चर्च के पास धमाका, चार घायल
  • INDvSL तीसरा वनडे: भारत ने टॉस जीतकर लिया गेंदबाजी का फैसला
  • असम के धेमाजी में आया 4.2 तीव्रता का भूकंप
  • सुरक्षा बलों ने बारामुला के पट्टन इलाके में सर्च ऑपरेशन किया लॉन्च
  • पाकिस्तान सरकार ने जाधव की पत्नी और मां के वीजा को किया मंजूर
  • कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने पार्टी सांसद और पद अधिकारियों को दिया डिनर का न्योता
  • मध्यप्रदेश: कांग्रेस नेता कमल नाथ पर बंदूक तानने वाले पुलिस कांस्टेबल के खिलाफ FIR दर्ज
  • अमृतसर, जालंधर और पटियाला की 32 नगर परिषदों और नगर पंचायतों पर मतदान हुआ शुरू
  • गुजरात चुनाव: आज 6 बूथों पर फिर से होगा मतदान

मध्य प्रदेश विधानसभा में बच्चियों से रेप करने पर फांसी की सजा के लिए विधेयक पारित

  |  Updated On : December 04, 2017 05:23 PM
मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (फाइल फोटो)

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (फाइल फोटो)

ख़ास बातें
  •  देश का पहला राज्य, जहां बलात्कार के मामले में इस तरह के कानून को विधानसभा से मंजूरी दी गई
  •  हाल ही में एनसीआरबी के जारी रिपोर्ट में बलात्कार के मामले में मध्य प्रदेश का पहला स्थान आया था

भोपाल:  

मध्य प्रदेश विधानसभा ने 12 साल या उससे कम उम्र की लड़कियों के साथ बलात्कार के दोषियों को फांसी की सजा देने के विधेयक को सर्वसम्मति से सोमवार को पारित कर दिया है।

इससे पहले मध्य प्रदेश कैबिनेट ने 26 नवंबर को इस बिल को अपनी मंजूरी दी थी। साथ ही गैंगरेप के दोषियों को भी फांसी की सजा को विधानसभा से मंजूरी मिली है।

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने विधानसभा में कहा कि दोबारा किया गया (आदतन) छेड़छाड़ एक गैर-जमानती अपराध होगा और अपराधियों को दंड दिया जाएगा।

शिवराज ने विधानसभा में कहा, 'जो लोग 12 साल की मासूम बच्ची का बलात्कार करते हैं, वो मनुष्य नहीं पिशाच हैं और उन्हें जीने का अधिकार नहीं है।'

बता दें कि मध्य प्रदेश देश का पहला राज्य बन गया है, जहां बलात्कार के मामले में इस तरह के कानून को विधानसभा से मंजूरी दी गई है। सोमवार को विधानसभा से पारित हुए विधेयक को केंद्र सरकार के पास भेजा जाएगा।

दण्ड संहिता की धारा 376 AA और 376 DA के रूप में संशोधन किया गया और सजा में वृद्धि के प्रस्ताव को मंजूरी दी गई थी। इसके अलावा लोक अभियोजन की सुनवाई का अवसर दिए बिना जमानत नहीं होगी।

और पढ़ें: शिवराज ने अनाथालय के बच्चों से कहा, खूब खेलो-पढ़ो और आसमां छू लो

मध्य प्रदेश सरकार ने सख्त फैसला लेते हुए महिलाओं का पीछा करने, छेड़छाड़, निर्वस्त्र करने, हमला करने और बलात्कार का आरोप साबित होने पर आरोपियों के जमानत की राशि बढ़ाकर एक लाख रुपये कर दी थी।

साथ ही शादी का प्रलोभन देकर शारीरिक शोषण करने के आरोपी को सजा के लिए 493(क) में संशोधन करके संज्ञेय अपराध बनाने के प्रस्ताव को मंजूरी दी गई है।

हाल ही में राष्ट्रीय अपराध रिकॉर्ड ब्यूरो (एनसीआरबी) के जारी रिपोर्ट में बलात्कार के मामले में मध्य प्रदेश का पहला स्थान आया था। जहां साल 2016 में राज्य के अंदर बलात्कार के 4,882 मामले दर्ज किए गए, जो कि देश में कुल दर्ज बलात्कार के मामलों का 12.5% है।

और पढ़ें: मध्य प्रदेश बलात्कार के मामलों में शीर्ष पर, जानिए कौन से राज्य हैं टॉप-5 में

RELATED TAG: Madhya Pradesh, Mp Government, Rape Convicts, Rape, Gang Rape, Shivraj Singh Chauhan, Crime,

देश, दुनिया की हर बड़ी ख़बर अब आपके मोबाइल पर, डाउनलोड करें न्यूज़ स्टेट एप IOS ओर Android यूज़र्स इस लिंक पर क्लिक करें।

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें

न्यूज़ फीचर

मुख्य ख़बरे

वीडियो

फोटो