BREAKING NEWS
  • गिरफ्तारी के बाद भी नीरव मोदी के प्रत्यर्पण में लगेगा लंबा समय : ब्रिटिश कानूनविद- Read More »
  • नहीं बाज आ रहा पाकिस्तान, भारतीय राजनयिकों को एजेंसियां कर रही परेशान, भारत ने जताई आपत्ति- Read More »
  • असीमानंद के बरी किए जाने के फैसले पर महबूबा मुफ्ती ने उठाए सवाल, 'भगवा आतंक' के प्रति दोहरापन क्यों?- Read More »

जानें अपने अधिकार: कानून आपको देता है रोजी-रोटी कमाने का अधिकार

News State Bureau  |   Updated On : December 12, 2017 11:56 PM
फैक्ट्री में काम करते हुए कर्मचारी (फाइल)

फैक्ट्री में काम करते हुए कर्मचारी (फाइल)

ख़ास बातें

  •  भारत के प्रत्येक नागरिक को उसकी पसंद के मुताबिक रोजी-रोटी कमाने का हक है
  •  भारतीय संविधान में इसे 'काम के अधिकार' के तहत परिभाषित किया गया है

नई दिल्ली:  

भारत के प्रत्येक नागरिक को उसकी पसंद के मुताबिक रोजी-रोटी कमाने का हक है। संविधान में इसे 'काम के अधिकार' के तहत परिभाषित किया गया है। 

भारत के संविधान में अनुच्छेद 41-43 में राज्य को सभी नागरिकों के लिए काम का अधिकार, न्यूनतम मजदूरी, सामाजिक सुरक्षा, मातृत्व राहत और एक शालीन जीवन स्तर सुरक्षित करने के प्रयास करने के अधिकार दिए गए हैं।

रोजी-रोटी कमाने का हक भारतीय संविधान में मूल अधिकारों के रूप में लोगों को दिया गया है। अंतरराष्ट्रीय मानवाधिकारों में भी आर्थिक, समाजिक और सांस्कृतिक अधिकारों के साथ रोजी-रोटी कमाने के हक को सुरक्षित किया गया है।

मानवाधिकार पर घोषित सार्वभौम प्रस्ताव (UDHR) के अनुसार किसी भी व्यक्ति को काम करने के अधिकार से वंचित नहीं किया जा सकता है।

4 अगस्त 2005 में महाराष्ट्र सरकार और शोभा विट्ठल के केस में सुप्रीम कोर्ट ने बताया कि 'काम करने का हक' आर्टिकल 21 में निहित 'जीवन के अधिकार' के तहत सुरक्षित है।

संविधान के अनुच्छेद 41 में लिखा है, बेरोजगारी में, बुढ़ापे में, बीमारी में, विकलांगता की स्थिति में लोगों को उनकी जरूरत के मुताबिक काम करने का हक, शिक्षा का हक और सामाजिक सहायता का हक दिया जाता है।

काम करने के हक को संविधान में मौलिक अधिकारों की श्रेणी में रखा गया है, जिसमें इसे कानूनी मान्यता दी गई है।

HIGHLIGHTS

  • भारत के प्रत्येक नागरिक को उसकी पसंद के मुताबिक रोजी-रोटी कमाने का हक है
  • भारतीय संविधान में इसे 'काम के अधिकार' के तहत परिभाषित किया गया है
First Published: Tuesday, December 12, 2017 11:46 PM

RELATED TAG: Know Your Rights, Right To Work, Human Rights, State Of Maharashtra Vs Shobha Vitthal Kolte Case 2005, News Nation Uc News Campaign, Indian Constitution, Right To Life, Article 21 Of Indian Constitution, Jobs And Employment,

देश, दुनिया की हर बड़ी ख़बर अब आपके मोबाइल पर, डाउनलोड करें न्यूज़ स्टेट एप IOS और Android यूज़र्स इस लिंक पर क्लिक करें।

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज,ट्विटरऔरगूगल प्लस पर फॉलो करें

News State ODI Contest
Newsstate Whatsapp

न्यूज़ फीचर

वीडियो

फोटो