अमेरिकी सांसद ने बलूचिस्तानियों के ख़िलाफ अत्याचार पर पाकिस्तान को चेताया

अमेरिकी सांसद ने अमेरिका से बलूचिस्तान की आजादी के लिए समर्थन देने की भी मांग की है।

  |   Updated On : October 14, 2017 02:48 AM
बलूचिस्तान की आजादी का समर्थन करे अमेरिका

बलूचिस्तान की आजादी का समर्थन करे अमेरिका

नई दिल्ली:  

पाकिस्तान द्वारा बलूच लोगों पर हो रहे अत्याचार और दमनकारियों नीतियों को लेकर पहली बार अमेरिका के अंदर से आवाज़ उठती दिख रही है। 

गुरुवार को सीनियर अमेरिकी सांसद डेना वॉरोबेकर ने कहा कि पाकिस्तान को नहीं भूलना चाहिए कि 1971 में क्या हुआ। पाकिस्तान द्वारा स्थानीय लोगों के मानवाधिकारों के उल्लंघन का ही नतीजा था कि ईस्ट पाकिस्तान बांग्लादेश बन गया।

अमेरिकी सांसद ने अमेरिका से बलूचिस्तान की आजादी के लिए समर्थन देने की भी मांग की है।

वॉरोबेकर न कहा, 'जब बांग्लादेश के लोग पाकिस्तानी सरकार से थोड़ा आजाद होना चाहते थे, उस समय स्थिति को नियंत्रित किया जा सकता था, लेकिन उस समय पाकिस्तानी सरकार ने बेरहमी से उनका दमन किया।'

उन्होंने कहा, 'इसी तरह की परिस्थितियां अब न सिर्फ बलूच, बल्कि मुहाजिरों यानी कि बंटवारे के बाद भारत से गए लोगों के खिलाफ भी बन रही हैं।'

बलूचिस्तान में पाकिस्तान कर रहा मानवाधिकारों का हनन, आज़ादी के पक्ष में 90% जनता: मीर सुलेमान

उन्होंने कहा, 'मुहाजिर भ्रष्ट, आतंक समर्थित पाकिस्तान सरकार के नियंत्रण में नहीं रहना चाहते हैं। हमें ऐसे लोगों का साथ देना चाहिए जो अपनी आजादी चाहते हैं और उन्हीं मूल्यों पर विश्वास करते हैं, जिन्हें हम मानते हैं।'

उन्होंने कहा, 'यही पाकिस्तान का इतिहास है। अब वे ऐसा बलूच के साथ कर रहे हैं, सिंधियों के साथ कर रहे हैं। पाकिस्तान सरकार में सिर्फ कुछ खास समुदाय के लोगों का ही कब्जा है।'

डेना वॉरोबेकर ये बातें गुरुवार को यूएस हाउस ऑफ रिप्रजेंटेटिव्स में कहीं। बता दें कि बलूचिस्तान पाकिस्तान का सबसे बड़ा प्रांत है, लेकिन यहां की आबादी बहुत कम है।

ट्रंप बोले, पाक ने US के साथ संबंधों का 'अनुचित लाभ' उठाया

First Published: Saturday, October 14, 2017 02:14 AM

RELATED TAG: Balochistan, American Lawmaker, Us, Pakistan, Bangladesh,

देश, दुनिया की हर बड़ी ख़बर अब आपके मोबाइल पर, डाउनलोड करें न्यूज़ स्टेट एप IOS और Android यूज़र्स इस लिंक पर क्लिक करें।

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें

न्यूज़ फीचर

मुख्य ख़बरे

वीडियो

फोटो