बॉम्बे हाई कोर्ट ने जताई चिंता, उदारवादी और विरोधी विचारों का खात्मा खतरनाक चलन

  |  Updated On : October 12, 2017 09:00 PM

नई दिल्ली:  

बॉम्बे हाई कोर्ट ने गौरी लंकेश की हत्या का जिक्र करते हुए चिंता जताई है कि देश में विरोधी स्वर और उदारवादी मूल्यों को खत्म किया जा रहा है। कोर्ट में गोविंद पंसारे और नरेंद्र दाभोलकर की हत्या पर दायर एक याचिका की सुनवाई करते हुए ये टिप्पणी की गई।

न्यायमूर्ति एससी धर्माधिकारी और न्यायमूर्ति भारती डांगरे की पीठ ने एक याचिका की सुनवाई करते हुए यह टिप्पणी की। याचिकाकर्ता ने मांग की है कि दाभोलकर और पंसारे की हत्या की मॉनीटरिंग कोर्ट करे।

कोर्ट ने कहा, 'उदारवादी मूल्यों और विचारों के लिये कोई सम्मान नहीं है। उदारवादी सिद्धांतों की सोच वाले लोगों को निशाना बनाया जा रहा है। सिर्फ ऐसी सोच वाले ही नहीं बल्कि ऐसी संस्थाओं को भी निशाना बनाया जा रहा है जो उदारवादी सोच रखती हैं। अब लोग ये सोच रखने लगे हैं कि अगर कोई मेरे विचार से सहमत नहीं तो उसे खत्म कर देना चाहिये।'

कोर्ट ने कहा, 'इस तरह से विरोधी या विपक्ष को मारने का चलन खतरनाक है। इससे देश की बदनामी हो रही है।'

और पढ़ें: आरुषि हत्याकांड: तलवार दंपति बरी, कोर्ट ने कहा-बेटी को नहीं मारा

सीबीआई और महाराष्ट्र की सीआईडी ने दाभोलकर और पानसारे हत्या मामलों में क्रमश: अपनी जांच रिपोर्ट दाखिल की है। पीठ ने कहा कि अभी तक जांच अधिकारी किसी ठोस नतीजे तक पहुंचने में नाकाम रहे हैं।

हाई कोर्ट ने जांच एजेंसियों से कहा, 'जबकि आपके प्रयास वास्तविक हैं, लेकिन सच ये भी है कि मुख्य आरोपी अब भी फरार हैं.... और हर सुनवाई के बीच एक कीमती जान चली जाती है।'

अदालत ने कहा कि बेंगलुरु में एक उदारवादी, समान सोच वाली एक महिला की हत्या हो गयी। पीठ ने कहा कि जांच एजेंसियों को अपनी जांच की लाइन बदलनी चाहिए और हत्यारों को पकड़ने के लिए तकनीक का उपयोग करना चाहिए।

और पढ़ें: हिमाचल चुनाव 9 नवंबर को, 18 दिसंबर को होगी गिनती

RELATED TAG: Gauri Lankesh, Bombay High Court,

देश, दुनिया की हर बड़ी ख़बर अब आपके मोबाइल पर, डाउनलोड करें न्यूज़ स्टेट एप IOS ओर Android यूज़र्स इस लिंक पर क्लिक करें।

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें

न्यूज़ फीचर

मुख्य ख़बरे

वीडियो

फोटो