Breaking
  • कुम्मानम राजशेखरन मिजोरम के नए राज्यपाल के रूप में नियुक्त किये गए
  • जम्मू-कश्मीर: कुलगाम जिले में आतंकियों ने पुलिस पोस्ट पर की फायरिंग
  • IPL 2018: सनराइजर्स हैदराबाद ने कोलकाता को दिया 175 रनों का लक्ष्य
  • केरल में 27 मई से लेकर 29 मई तक भारी बारिश की संभावना
  • IPL 2018: कोलकाता ने टॉस जीतकर पहले गेंदबाजी करने का फैसला किया
  • CBSE 12th Result 2018: कल 12वीं के नतीजे होंगे घोषित, ऐसे करें चेक -Read More »
  • बिग बी ने 'कौन बनेगा करोड़पति' की रिकॉर्डिग शुरू की, शो में ऐसे करें रजिस्ट्रेशन -Read More »
  • कर्नाटक फ्लोर टेस्ट: कुमारस्वामी ने 117 वोटों के साथ जीता विश्वासमत -Read More »
  • होटल विवाद मामले में सेना ने मेजर गोगोई के खिलाफ कोर्ट ऑफ इंक्वायरी के दिये आदेश -Read More »
  • सीबीएसई कक्षा 12 का परीक्षा परिणाम कल घोषित किया जाएगा

वर्ल्ड विजन इंडिया का चौंका देने वाला सर्वे: भारत में हर दूसरा बच्चा यौन उत्पीड़न का शिकार

  |   Updated On : May 18, 2017 12:44 PM

नई दिल्ली:  

देशभर में 12 से 18 वर्ष की आयु के 45,000 बच्चों के बीच हाल ही में किए गए सर्वे में दिमाग को झकझोर देने वाला खुलासा हुआ है। सर्वे के मुताबिक देश में इस आयुवर्ग के बीच का हर दूसरा बच्चा यौन उत्पीड़न का दंश झेलता है। मानवाधिकारों के लिए काम करने वाली संस्था 'वर्ल्ड विजन इंडिया' के इस सर्वे में देशभर के विभिन्न हिस्सों के 45,844 बच्चों से प्रतिक्रिया ली।

सर्वे में यह भी खुलासा हुआ है कि हर पांच में से एक बच्चा खुद को यौन उत्पीड़न के प्रति महफूज नहीं महसूस करता। सर्वे यह भी कहता है कि हर चार में से एक परिवार ने बच्चे के साथ हुए यौन शोषण की शिकायत नहीं की।

इसे भी पढ़ें:  भारत में 5 साल से छोटे 58 फीसदी बच्चे एनिमिया से ग्रसित: सर्वे

वर्ल्ड विजन इंडिया के राष्ट्रीय निदेशक चेरियन थॉमस ने यहां 2021 तक बाल यौन शोषण को पूरी तरह खत्म करने के लिए एक अभियान का आगाज करते हुए कहा, 'हर दूसरा बच्चा यौन शोषण का शिकार होता है, इसके बावजूद इसे लेकर चुप्पी पसरी हुई है। वहीं यह भी अच्छी तरह नहीं पता है कि बच्चे किस हद तक यौन उत्पीड़न झेल रहे हैं।'

संगठन द्वारा शुरू किए गए अभियान 'इट टेक्स द वर्ल्ड टू एंड वॉयलेंस अगेंस्ट चिल्ड्रेन' के तहत देश के 25 राज्यों और एक केंद्र शासित क्षेत्र में रहने वाले एक करोड़ बच्चों को यौन शोषण से मुक्ति दिलाना है।

थॉमस ने कहा, 'हमारे क्षेत्रीय कार्यक्रमों के साथ ही इस अभियान को भी अमल में लाया जाएगा। हम क्षेत्रीय स्तर पर स्वास्थ्य सेवाएं, खासकर कुपोषण और जन्म के शुरुआती दिनों में होने वाली बीमारी, शिक्षा, बाल अधिकार एवं बाल संरक्षण के क्षेत्र में काम करते हैं।'

इसे भी पढ़ें: कहीं आपका बच्चा स्लीप एप्निया का शिकार तो नहीं!

उन्होंने कहा कि हमारे ये क्षेत्रीय कार्यक्रम देश के 186 जिलों में संचालित हैं। थॉमस ने कहा कि इस अभियान से समाज के हर वर्ग के लोगों को जोड़ा जाएगा ताकि बच्चों के लिए सुरक्षित वातावरण सुनिश्चित किया जा सके।

उन्होंने कहा कि बच्चों को विभिन्न पहलुओं के बारे में प्रशिक्षित किया जाएगा, जहां उन्हें सही मंशा से छूने और बुरी मंशा से छूने जैसी अनेक बातें बताई जाएंगी।

आईपीएल 10 से जुड़ी हर बड़ी खबर के लिए यहां क्लिक करें

एंटरटेनमेंट की खबर पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

RELATED TAG: Child Sexual Abuse,

देश, दुनिया की हर बड़ी ख़बर अब आपके मोबाइल पर, डाउनलोड करें न्यूज़ स्टेट एप IOS ओर Android यूज़र्स इस लिंक पर क्लिक करें।

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें

न्यूज़ फीचर

मुख्य ख़बरे

वीडियो

फोटो