Breaking
  • पाकिस्तान सीनेट ने चीनी भाषा को देश की अधिकृत भाषा घोषित करने के प्रस्ताव को दी मंजूरी
  • जम्मू-कश्मीर: पाकिस्तान ने उरी सेक्टर में किया सीजफायर का उल्लंघन, भारी गोलीबारी जारी
  • प्रिया प्रकाश ने तेलंगाना में अपनी फिल्म के खिलाफ दर्ज मामले पर सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की
  • नीरव मोदी केस: लखनऊ, नोएडा और गाजियाबाद में ईडी के छापे
  • मैसूर से उदयपुर तक चलने वाली पैलेस क्वीन हमसफर एक्सप्रेस को पीएम मोदी ने दिखाई हरी झंडी
  • रोटोमैक कंपनी के मालिक विक्रम कोठारी हिरासत में, CBI और ED ने केस दर्ज किया
  • UP: उपचुनावों के लिए BJP ने उम्मीदवारों की लिस्ट जारी की, गोरखपुर से उपेंद्र शुक्ला लड़ेंगे चुनाव
  • रोटोमैक कंपनी के मालिक विक्रम कोठारी के खिलाफ CBI ने दर्ज किया केस, छापेमारी शुरू

सुप्रीम कोर्ट ने यात्री सुरक्षा को लेकर केंद्र सरकार और रेल मंत्रालय को जारी किया नोटिस

  |  Updated On : December 02, 2017 12:26 PM
सुप्रीम कोर्ट (फाइल फोटो)

सुप्रीम कोर्ट (फाइल फोटो)

नई दिल्ली:  

सुप्रीम कोर्ट ने रेल यात्रा के दौरान यात्रियों की सुरक्षा को सुनिश्चित करने की मांग को लेकर दायर याचिका पर केंद्र सरकार और रेल मंत्रालय से जवाब मांगा है। इस याचिका में सुरक्षा उपायों का फिर से मूल्यांकन करने की मांग की गई है।

मुख्य न्यायाधीश दीपक मिश्रा, जस्टिस एएम खानविलकर और जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ की पीठ ने शुक्रवार को इस याचिका पर सुनवाई करते हुए केंद्र सरकार और रेल मंत्रालय को नोटिस जारी किया है।

याचिका में कहा गया है कि ट्रेनों में सुरक्षा उपाय के इंतजाम उचित नहीं है और रेल डिब्बों के भीतर अभी तक सीसीटीवी कैमरे नहीं लगाए गए हैं।

याचिकाकर्ता ने रेलवे सुरक्षा बल (आरपीएफ) के कुछ अज्ञात अधिकारियों द्वारा अगस्त में एक 30 वर्षीय इंजीनियर की कथित हत्या मामले पर सीबीआई जांच की मांग भी की है।

यह भी पढ़ें : तीन तलाक दिया तो हो सकती है 3 साल की जेल, राज्य के पास भेजा गया मसौदा

यह याचिका मृतक इंजीनियर राहुल सिंह की पत्नी द्वारा दायर की गई है। याचिका में कहा गया है कि उनके पति को ट्रेन से बाहर फेंक दिया गया था जब वह दिल्ली से वाराणसी जा रहे थे।

पत्नी के अनुसार ऐसा इसलिए किया गया क्योंकि उनके पति अपने मोबाइल फोन पर आरपीएफ के कथित गैरकानूनी काम को रिकॉर्ड कर रहे थे।

सर्वोच्च अदालत ने इस मसले पर सीबीआई को नोटिस जारी कर 10 हफ्तों के भीतर जवाब दाखिल करने को कहा है।

ट्रेनों में सुरक्षा के मुद्दे को उठाते हुए, याचिकाकर्ता ने कहा है कि 'भारतीय रेलवे की ट्रेनों में सुरक्षा उपाय दयनीय है। यहां किसी को चलती ट्रेन से फेंक देना एक आम घटना है। जहां प्रारंभिक जांच एजेंसियों की लापरवाही के कारण स्तिथि और दयनीय हो जाती है।'

इस याचिका में सुरक्षा उपायों का फिर से मूल्यांकन करने और यात्रियों की सुरक्षा सुनिश्चित करने की मांग की गई है।

यह भी पढ़ें : सोमनाथ विवाद: ओवैसी का BJP-कांग्रेस पर निशाना, कहा-झूठ है 'धर्मनिरपेक्षता' का दावा

RELATED TAG: Supreme Court, Passenger Safety, Ministry Of Railways,

देश, दुनिया की हर बड़ी ख़बर अब आपके मोबाइल पर, डाउनलोड करें न्यूज़ स्टेट एप IOS ओर Android यूज़र्स इस लिंक पर क्लिक करें।

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें

न्यूज़ फीचर

मुख्य ख़बरे

वीडियो

फोटो