Breaking
  • पीएम नरेंद्र मोदी लंदन से जर्मनी पहुंचे, एंजेला मर्केल के साथ करेंगे डिनर
  • CBI ने विधायक कुलदीप सिंह सेंगर को पोक्सो कोर्ट में किया पेश, सात दिन की बढ़ाई कस्टडी
  • IPL 2018 CSK Vs RR: राजस्थान रॉयल्स ने जीता टॉस, गेंदबाजी का फैसला
  • कश्मीरी युवक एनडीए एक्जाम पास करने के बाद हिजबुल मुजाहिदीन में शामिल
  • महाभियोग से न्यायपालिका को डराने की कोशिश कर रही कांग्रेस
  • कर्नाटक विधानसभा चुनाव के लिए बीजेपी ने जारी की उम्मीदवारों की तीसरी लिस्ट
  • कर्नाटक चुनाव: मुख्यमंत्री सिद्धारमैया ने चमुंदेश्वरी विधानसभा से नामांकन दाखिल किया
  • कांग्रेस ने CJI दीपक मिश्रा के खिलाफ महाभियोग प्रस्ताव का नोटिस उप राष्ट्रपति को सौंपा
  • नरोदा पटिया दंगा मामला: गुजरात HC ने पीड़ितों की मुनाफा मांगने की अपील को खारिज किया
  • भारत के श्रीमंत झा ने एशियाई आर्मरेसलिंग चैंपियनशिप के 80 किलोग्राम वर्ग में कांस्य पदक जीता
  • नरोदा पाटिया दंगा मामला: माया कोडनानी को गुजरात HC ने बरी किया, बाबू बजरंगी की सजा बरकरार
  • SC ने महाभियोग को लेकर हो रही मीडिया रिपोर्टिंग पर बैन की मांग पर अटॉनी जनरल 7 मई तक देंगे राय
  • चीफ जस्टिस के खिलाफ महाभियोग की चर्चा को सुप्रीम कोर्ट ने बताया दुर्भाग्यपूर्ण

एआईएमपीएलबी ने कहा, 'महिलाएं तीन तलाक से निकलने का विकल्प चुन सकती हैं'

  |   Updated On : May 18, 2017 06:48 PM

नई दिल्ली:  

ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड (एआईएमपीएलबी) ने गुरुवार को सुप्रीम कोर्ट को बताया है कि उसने फैसला किया है कि वह काजियों के लिए एक दिशा-निर्देश जारी करेगा, जिसमें वे मुस्लिम महिलाओं द्वारा निकाह के लिए अपनी मंजूरी प्रदान करने से पहले उन्हें तीन तलाक प्रथा से बाहर निकलने का विकल्प देंगे।

मुख्य न्यायाधीश न्यायमूर्ति जगदीश सिंह खेहर के नेतृत्व वाली पांच न्यायाधीशों की संवैधानिक पीठ से कहा गया कि एआईएमपीएलबी अपने फैसले के समर्थन में न्यायालय के समक्ष एक हलफनामा दायर करेगा।

पीठ में न्यायमूर्ति रोहिंटन फली नरीमन, न्यायमूर्ति कुरियन जोसेफ, न्यायमूर्ति उदय उमेश ललित तथा न्यायमूर्ति एस.अब्दुल नजीर शामिल हैं।

एआईएमपीएलबी की तरफ से पेश हुए वरिष्ठ वकील कपिल सिब्बल ने कहा कि उनकी बोर्ड के सदस्यों के साथ एक बैठक हुई है, जिसमें उन्होंने देश भर के काजियों को एक दिशा-निर्देश जारी करने का फैसला लिया।

इसे भी पढ़ेंः तीन तलाक पर सुप्रीम कोर्ट में हुई सुनवाई में कब क्या हुआ

उन्होंने कहा कि वधू द्वारा तीन तलाक से बाहर निकलने के चुनाव को निकाहनामे में शामिल किया जाएगा।

एआईएमपीएलबी का यह फैसला शीर्ष अदालत द्वारा यह कहने के एक दिन बाद आया कि निकाह से पहले महिलाओं को तीन तलाक के दायरे से बाहर रखने का विकल्प देने पर बोर्ड को विचार करना चाहिए।

आईपीएल की सभी खबरों को पढ़ने के लिए यहां क्लकि करें

RELATED TAG: Supreme Court, Triple Talaq, Aimplb,

देश, दुनिया की हर बड़ी ख़बर अब आपके मोबाइल पर, डाउनलोड करें न्यूज़ स्टेट एप IOS ओर Android यूज़र्स इस लिंक पर क्लिक करें।

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें

न्यूज़ फीचर

मुख्य ख़बरे

वीडियो

फोटो