Breaking
  • प्रद्युम्न हत्या मामला: आरोपी बस कंडक्टर की जमानत पर फैसला कल तक के लिए सुरक्षित
  • गुजरात चुनाव 2017: बीजेपी ने जारी की 26 उम्मीदवारों की तीसरी सूची
  • वैष्णो देवी दर्शन के लिए नया रास्ता खोलने के NGT के निर्देश पर SC की रोक
  • CWC बैठक: 1 दिसंबर को कांग्रेस पार्टी के नए अध्यक्ष का ऐलान होगा
  • कालेधन पर बड़ी कामयाबी, स्विस सरकार भारत को देगी खातों की जानकारी (पढ़ें खबर) -Read More »

अपराधों के रिकॉर्ड गायब होने पर योगी सरकार को SC की फटकार, अफसरों के खिलाफ कार्रवाई का आदेश

  |  Updated On : July 17, 2017 03:30 PM
सुप्रीम कोर्ट (फाइल)

सुप्रीम कोर्ट (फाइल)

नई दिल्ली:  

उत्तर प्रदेश में अपराधों के रिकॉर्ड गायब होने पर सुप्रीम कोर्ट ने सख्त रवैया दिखाया है। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि हर मामला गंभीर अपराध है। ऐसे में आरोपी रिकॉर्ड के अभाव में बचना नहीं चाहिए।

यूपी सरकार ने आज सुप्रीम कोर्ट को बताया कि गायब रिकॉर्ड वाले केस 1981-1991 के बीच के हैं। इस दौरान केसों की संख्या 74 से 162 तक हो सकती है। सरकार ने यह भी कहा कि कुछ मामलों में अभी सुनवाई चल रही है।

यूपी सरकार ने कोर्ट के सामने यह भी कहा कि इनमें से कुछ के रिकॉर्ड गायब होने के चलते आरोपी बरी हो चुके हैं। कोर्ट ने कहा कि जिन अधिकारियों की लापरवाही की वजह से रिकॉर्ड गायब हुए हैं उन्हें बख्शा नहीं जाएगा। कोर्ट ने कहा कि उन्हें सस्पेंड किया जाएगा।

और पढ़ें: पीएम मोदी ने GST को दिया नया नाम, कहा- 'ग्रोइंग स्ट्रॉन्गर टुगेदर'

मामले की अगली सुनवाई 21 अगस्त को होगी। इस मामले में सुप्रीम कोर्ट ने सीबीआई को भी पक्ष बनाया है। कोर्ट ने पूछा है कि किस-किस अधिकारी की कस्टडी से अहम फाइल गायब हुई है। कोर्ट ने कहा कि कोई किसी भी पद पर बैठा अधिकारी क्यों न हो हम एक झटके में उसे निलंबित करेंगे।

और पढ़ें: पिता ने किया 11 साल की बेटी से बलात्कार, पुलिस ने किया गिरफ्तार

RELATED TAG: Supreme Court, Uttar Pradesh, Crime, Up,

देश, दुनिया की हर बड़ी ख़बर अब आपके मोबाइल पर, डाउनलोड करें न्यूज़ स्टेट एप IOS ओर Android यूज़र्स इस लिंक पर क्लिक करें।

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें

न्यूज़ फीचर

मुख्य ख़बरे

वीडियो

फोटो