Breaking
  • पद्मावती को ब्रिटिश सेंसर बोर्ड से मिली मंजूरी, 1 दिसंबर को होगी रिलीज, पढ़ें खबर -Read More »
  • SC में पद्मावती पर नई याचिका दायर, फिल्म को देश के बाहर रिलीज करने पर रोक की मांग
  • त्रिपुरा: पत्रकार हत्या के विरोध में अखबारों ने संपादकीय छोड़ा खाली, पढ़ें खबर -Read More »
  • CM योगी के बयान पर NHRC ने जारी किया नोटिस, मांगा जवाब, पढ़ें खबर -Read More »
  • फॉग और तकनीकी कारणों से 17 ट्रेन देरी से चल रही है, 1 ट्रेन रद्द और 6 के समय में बदलाव

प्रदर्शनकारी अलगाववादी नेता मीरवाइज़ और यासिन मलिक हिरासत में लिए गए

  |  Updated On : November 15, 2017 09:22 PM
मीरवाइज़ उमर फारुक (फाइल फोटो)

मीरवाइज़ उमर फारुक (फाइल फोटो)

ख़ास बातें
  •  मीरवाइज़ उमर फारुक और मोहम्मद यासीन मलिक को हिरासत में लिया गया
  •  जेकेएलएफ के अबी गजर स्थित कार्यालय के पास प्रदर्शन के बीच हिरासत में लिया गया
  •  घाटी में कथित तौर पर युवाओं के साथ दुर्व्यवहार और जेल भेजे जाने के खिलाफ था प्रदर्शन

नई दिल्ली:  

श्रीनगर में अलगाववादी नेता मीरवाइज़ उमर फारुक और मोहम्मद यासीन मलिक को पुलिस ने हिरासत में ले लिया है। पुलिस ने दोनों अलगाववादी नेताओं को जम्मू-कश्मीर लिबरेशन फ्रंट (जेकेएलएफ) के अबी गजर स्थित कार्यालय के पास प्रदर्शन के चलते हिरासत में लिया गया है।

दोनों नेता शहर के मध्य स्थित लाल चौक जाकर भारी प्रदर्शन के लिए मार्च कर रहे थे। घाटी में कथित तौर पर लोगों के साथ दुर्व्यवहार और युवाओं को जेल में भरे जाने के खिलाफ इस मार्च और प्रदर्शन का आह्वान किया था।

मीरवाइज़, हुर्रियत कांफ्रेंस के उदारवादी गुट का अध्यक्ष है जबकि यासीन मलिक जम्मू-कश्मीर लिब्रेशन फ्रंट (जेकेएलएफ) का अध्यक्ष है। दोनों नेताओं को पुलिस ने अबी गुजर पर हिरासत में ले लिया जब वो समर्थकों के साथ जेकेएलएफ मुख्यालय के बाहर विरोध प्रदर्शन के लिए जा रहे थे।

मनी लॉन्ड्रिंग केस में अलगाववादी नेता शब्बीर शाह, वानी पर आरोप तय

इसी के साथ उनके कई समर्थकों को भी हिरासत में लिया गया है। समर्थक लाल चौक की ओर जाकर ख़ासकर दक्षिण कश्मीर के युवाओं के खिलाफ उत्पीड़न, दुर्व्यवहार और जेल में भेजे जाने के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे थे।

इससे पहले दोनों नेताओं ने साझा प्रेस कॉन्फ्रेंस कर जेकेएलएफ मुख्यालय के बाहर अबी गुजर में 27 नवंबर को पूरी घाटी में पूर्ण हड़ताल का ऐलान किया था।

मीरवाइज़ ने पत्रकारों से कहा था, 'हम सरकार से हमारे राजनीतिक कैदियों के साथ दुर्व्यवहार रोकने के लिए कहेंगे। आंतकवाद के नाम पर लोगों का उत्पीड़न करना बंद करें। उन्हें दक्षिण कश्मीर में उत्पीड़न बंद करना चाहिए जहां सेना तैनात है।'

यह भी पढ़ें: 'टाइगर जिंदा है' का पैक-अप, सलमान खान ने शेयर किया 'रेस 3' का फर्स्ट लुक

कारोबार से जुड़ी ख़बरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें 

RELATED TAG: Mirwaiz Umar Farooq, Mohammad Yasin Malik, Jammu Kashmir,

देश, दुनिया की हर बड़ी ख़बर अब आपके मोबाइल पर, डाउनलोड करें न्यूज़ स्टेट एप IOS ओर Android यूज़र्स इस लिंक पर क्लिक करें।

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें

न्यूज़ फीचर

मुख्य ख़बरे

वीडियो

फोटो