Breaking
  • इंफोसिस के शेयरों की जबरदस्त पिटाई से लुढ़का सेंसेक्स और निफ्टी, सिक्का के इस्तीफे ने बिगाड़ी इं -Read More »
  • विमान रद्द किए जाने की ख़बर को इंडिगो ने किया ख़ारिज़
  • इंजन खराबी को लेकर इंडिगो ने रद्द किए 84 फ्लाइट्स -Read More »
  • गोरखपुर हादसे पर इलाहाबाद हाई कोर्ट में 29 अगस्त को होगी अगली सुनवाई
  • सुप्रीम कोर्ट ने दिया कार्ति चिदंबरम को CBI के समक्ष पेश होने का आदेश -Read More »
  • नारायणमूर्ति को जिम्मेदार बताते हुए सिक्का ने इंफोसिस से दिया इस्तीफा, पढ़ें पूरा लेटर -Read More »
  • जन्मदिन विशेष: 'गुलज़ार', ज़िंदगी के एहसास को नज़्मों में पिरोने वाला शख़्स -Read More »
  • इंफोसिस के सीईओ और एमडी पद से विशाल सिक्का का इस्तीफा -Read More »
  • स्पेन: बार्सिलोना आतंकी हमले में 13 लोगों की मौत, जवाबी कार्रवाई में 4 आतंकी ढेर, ISIS ने ली जिम्मेदारी

SGM मीटिंग में शामिल होने पर BCCI के पूर्व अध्यक्ष श्रीनिवासन और निरंजन शाह को सुप्रीम कोर्ट का नोटिस

By   |  Updated On : July 14, 2017 05:28 PM
श्रीनिवासन को सुप्रीम कोर्ट ने भेजा नोटिस (फाइल फोटो)

श्रीनिवासन को सुप्रीम कोर्ट ने भेजा नोटिस (फाइल फोटो)

ख़ास बातें
  •  श्रीनिवासन को सुप्रीम कोर्ट ने भेजा नोटिस, एसजीएम बैठक में शामिल हुए थे पूर्व अध्यक्ष
  •  सीओए ने अपने स्टेट्स रिपोर्ट में श्रीनिवासन पर लगाए कई आरोप

नई दिल्ली:  

भारत में क्रिकेट को नियंत्रित करने वाली संस्था बीसीसीआई में सुप्रीम कोर्ट के नियुक्त किए गए क्रिकेट प्रशासक समिति (सीओए) ने पूर्व अध्यक्ष एन श्रीनिवासन पर पारदर्शिता में बाधा डाला का आरोप लगाया है।

सीओए ने सुप्रीम कोर्ट में स्टेटस रिपोर्ट दायर कर एन श्रीनिवासन पर पारदर्शिता बनाए रखने में खलल डालने का आरोप लगाया। इसके बाद सुप्रीम कोर्ट ने श्रीनिवासन और निरंजन शाह को नोटिस जारी किया है।

सुप्रीम कोर्ट को सौंपे रिपोर्ट में सीओए ने कहा पूर्व बीसीसीआई अध्यक्ष श्रीनिवासन ने एसजीएम बैठक का में एक तिहाई समय बर्बाद कर दिया। इसके साथ ही रिपोर्ट में आरोप लगाया गया है कि श्रीनिवासन ने पारदर्शिता लाने वाले प्रस्ताव का विरोध करने के लिए भी दूसरे लोगों को उकसाया। सीओए के रिपोर्ट के मुताबिक श्रीनिवासन ने निरंजन शाह के साथ मिलकर बैठक में अराजक स्थिति पैदा करने की भी कोशिश की।

ये भी पढ़ें: शिवराज के मंत्री नरोत्तम मिश्रा को झटका, दिल्ली हाईकोर्ट ने याचिका खारिज की

गौरतलब है कि बीसीसीआई के पूर्व अध्यक्ष एन श्रीनिवासन किसी भी राज्य असोसिएशन के सदस्य नहीं बन सकते लेकिन फिर भी उन्होंने तमिलनाडु क्रिकेट एशोसिएशन के प्रतिनिधि के तौर पर बोर्ड की एसजीएम (स्पेशल जनरल मीटिंग) में हिस्सा लिया था।

सीओए की रिपोर्ट के बाद सुप्रीम कोर्ट ने आश्चर्य व्यक्त किया कि जब श्रीनिवासन किसी भी राज्य असोसिएशन के सदस्य बनने के लिए अयोग्य घोषित हो चुके हैं तो ऐसा शख्स तमिलनाडु क्रिकेट बोर्ड का प्रतिनिधि कैसे बन सकता है। इसपर अब सुप्रीम कोर्ट 24 जुलाई को अपना फैसला सुनाएगा।

ये भी पढें: मोदी के मंत्री रामदास अठावले ने कहा, बीफ खाने का अधिकार सबको है

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें

न्यूज़ फीचर

मुख्य ख़बरे

वीडियो

फोटो