Breaking
  • जुवेनाइल जस्टिस बोर्ड ने नाबालिग आरोपी की जमानत अर्जी को खारिज किया
  • कांग्रेस को झटका, गुजरात चुनाव की काउंटिंग में SC का दखल से इंकार
  • राज्यसभा दिन भर के लिए स्थगित
  • क्रिकेटर अजिंक्य रहाणे के पिता हिरासत में, कार से महिला को कुचलने का लगा आरोप
  • तीन तलाक: सूत्रों के हवाले से खबर, मोदी कैबिनेट ने बिल पर लगाई मुहर
  • माइक्रोवेव ओवन इंपोर्ट पर कस्टम ड्यूटी 10 प्रतिशत से बढ़कर 20 फीसदी हुई
  • हिमाचल में कांग्रेस का सफाया, गुजरात में फिर BJP सरकार: एग्जिट पोल -Read More »
  • इन मुद्दों पर सरकार को घेरेगा विपक्ष, आक्रामक रहेगी कांग्रेस

गैर-पुरुष के साथ संबंध बनाने पर पत्नी के खिलाफ मामला दर्ज हो या नहीं, SC ने केंद्र को भेजा नोटिस

  |  Reported By  :  Arvind Singh  |  Updated On : December 08, 2017 05:32 PM
सुप्रीम कोर्ट (फाइल फोटो)

सुप्रीम कोर्ट (फाइल फोटो)

नई दिल्ली:  

किसी महिला के गैर मर्द से शारीरिक संबंध बनाने पर सिर्फ उस पुरुष (जिसके साथ महिला से संबंध बनाए हो) के खिलाफ मुकदमा क्यों चले? क्या विवाहित महिला पर मुकदमा नहीं चल सकता?

सुप्रीम कोर्ट अब इससे जुड़े कानून की समीक्षा करेगा। सुप्रीम कोर्ट में दायर याचिका में IPC 497 को चुनौती दी गई है। जस्टिस दीपक मिश्रा की अध्यक्षता वाली बेंच ने केंद्र सरकार को नोटिस जारी कर जवाब मांगा है

क्या है आईपीसी 497

आईपीसी 497 के तहत किसी महिला से अगर गौर मर्द शारीरिक सबन्ध बनाता है तो वो उस पर व्याभिचार का मामला चलता है और पुरुष को पांच साल तक कि सजा हो सकती है, लेकिन सम्बंध बनाने वाली महिला के खिलाफ कोई मामला नहीं बनता।

साथ ही इसके तहत अगर शादीशुदा महिला पति की मंजूरी से गैर मर्द से संबंध बनाये तो वो व्यभिचार का मामला नहीं बनता। 

सुप्रीम कोर्ट का रुख

जोसेफ नाम के शख्स की ओर से दायर याचिका में कहा गया है कि आईपीसी का ये प्रावधान  लैंगिक समानता के बुनियादी सिद्दांत के खिलाफ है और इसे रद्द किया जाना चाहिए।

EC ने सरकार को दिया सुझाव, गुजरात चुनाव में न हो GST कटौती का प्रचार

जस्टिस दीपक मिश्रा की अध्यक्षता वाली बेंच ने आज इस मामले को सुना। कोर्ट ने कहा कि ये प्रावधान महिला की एक्ट में भागीदारी के बावजूद, उसे किसी भी  जिम्मेदारी से मुक्त करता है, उसके खिलाफ कोई मामला नहीं चलता।

भारतीय कानून लैगिंक समानता के बुनियादी सिद्धांत पर आधारित है, लेकिन आईपीसी का यह प्रावधान उसके खिलाफ है। कोर्ट ने कहा कि इस प्रावधान से लगता है कि महिला के पति की सहमति के बाद संबंध बनाने पर व्यभिचार का मामला नहीं बनेगा। 

ऐसा करना भी स्त्री को गुलाम या वस्तु बना देना होगा और यह किसी (महिला) की स्वतंत्र पहचान पर धब्बा है। बहरहाल आज सुनवाई के बाद कोर्ट ने सरकार को नोटिस जारी कर  चार हफ्ते के अंदर जवाब देने को कहा है। 

यह भी पढ़ें: पद्मावती विवाद: बॉम्बे HC ने जाहिर की नाराजगी, कहा- किस देश में कलाकारों को ऐसे दी जाती है धमकियां?

कारोबार से जुड़ी ख़बरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें 

RELATED TAG: Supreme Court, Adultery, Ipc Sec 497,

देश, दुनिया की हर बड़ी ख़बर अब आपके मोबाइल पर, डाउनलोड करें न्यूज़ स्टेट एप IOS ओर Android यूज़र्स इस लिंक पर क्लिक करें।

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें

न्यूज़ फीचर

मुख्य ख़बरे

वीडियो

फोटो