जम्मू-कश्मीर में RSS पहली बार करेगा समीक्षा बैठक, अशांति और अलगाववादियों पर होगी चर्चा

By   |  Updated On : May 17, 2017 07:55 AM
जुलाई में होगी RSS की वाषिर्क समीक्षा बैठक

जुलाई में होगी RSS की वाषिर्क समीक्षा बैठक

नई दिल्ली:  

आरएसएस जम्मू में इस साल जुलाई में अपनी वाषिर्क समीक्षा बैठक का आयोजन करेगा। हाल के दिनों में कश्मीर में जिस तरह की अशांति देखने को मिली है ऐसे में बैठक के आयोजन का मकसद अलगाववादियों को यह संदेश देना है कि कश्मीर भारत का अभिन्न हिस्सा है।

संघ के सूत्रों के अनुसार राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के प्रमुख मोहन भागवत, भाजपा अध्यक्ष अमित शाह और विश्व हिंदू परिषद (विहिप) के नेता तीन दिनों की बैठक में शामिल होंगे जिसका आयोजन 18 से 20 जुलाई के बीच होगा।

उन्होंने कहा, 'कश्मीर घाटी में अलगाववादियों को यह संदेश देने के लिए कि क्षेत्र भारत का अभिन्न हिस्सा है और संघ उसकी एकता के लिए प्रतिबद्ध है, बैठक का समय एवं जगह तय किए गए।'

ये भी पढ़ें- मोदी के खिलाफ महागठबंधन पर सवाल, लालू ने ट्वीट कर कहा- बीजेपी को नया गठबंधन पार्टनर हो मुबारक

सूत्रों ने संकेत दिए हैं कि बैठक में पथराव और सीआरपीएफ जवानों पर हमले की घटनाओं पर चर्चा हो सकती है। आरएसएस के अखिल भारतीय प्रचार प्रमुख मनमोहन वैद्य ने भी बैठक की पुष्टि की है।

वैद्य ने कहा कि बैठक में ग्रीष्म प्रशिक्षण शिविरों की समीक्षा की जाएगी जिसका आरएसएस हर साल आयोजन करता है। उन्होंने कहा कि जम्मू स्थित क्षेत्रीय कार्यालय के बैठक का आयोजन करने के लिए आगे आने पर बैठक वहां आयोजित करने का फैसला किया गया।

और पढ़ें:लालू ने ट्वीट कर बीजेपी पर बोला हमला, कहा- नए गठबंधन सहयोगी मुबारक हों, मैं डरने वाला नहीं

उन्होंने कहा, 'यह गुजरे साल की घटनाओं एवं गतिविधियों का जायजा लेने और साथ ही आने वाले समय के लिए कार्य योजना का मसौदा तैयार करने के उद्देश्य से की जाने वाली प्रांत प्रचारकों की वाषिर्क समीक्षा बैठक है।'

प्रचार प्रमुख ने कहा कि बैठक में कोई बड़ा फैसला नहीं लिया जाएगा लेकिन देश के सामने मौजूद विभिन्न मुद्दों पर चर्चा की जा सकती है।

आईपीएल से जुड़ी ख़बरों के लिए यहां क्लिक करें

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें

न्यूज़ फीचर

मुख्य ख़बरे

वीडियो

फोटो