RSS चीफ मोहन भागवत को आतंकियों की सूची में डालना चाहती थी मनमोहन सरकार, निजी चैनल का दावा

  |  Updated On : July 15, 2017 07:41 AM
आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत (फाइल फोटो)

आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत (फाइल फोटो)

नई दिल्ली:  

मॉनसून सत्र शुरू होने से पहले एक बड़ा खुलासा सामने आया है। इस खुलासे से पता चला है कि कांग्रेस की अगुवाई वाली यूपीए की सरकार अपने अंतिम दिनों में आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत को आतंकवादियों की सूची में डालना चाहती थी।

निजी अंग्रेजी टीवी चैनल टाइम्स नाउ के पास मौजूद दस्तावेजों की माने तो भागवत को फंसाने के लिए यूपीए सरकार कोशिश में जुड़े हुए थे। बता दें कि अजमेर के दरगाह और मालेगांव में हुए ब्लास्ट के बाद यूपीए की सरकार भागवत को फंसाना चाहती थी।

खबरों की माने तो इस काम के लिए राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) के बड़े अधिकारियों पर दबाव डाला जा रहा था।

इसे भी पढ़ेंः महागठबंधन टूटने की अटकलों के बीच लालू ने किया साफ, इस्तीफा नहीं देंगे तेजस्वी

अंग्रेजी चैनल को फाइल नोटिंग्स से इस बात की जानकारी मिली है कि जांच अधिकारी और कुछ आला ऑफिसर अजमेर और कई अन्य बम विस्फोट मामले में तथाकथित भूमिका के लिए भागवत से पूछताछ करना चाहते थे।

खबरों की माने ते ये सभी अधिकारी यूपीए के मंत्रियों के आदेश पर काम कर रहे थे। ये अधिकारी भागवत को पूछताछ के लिए उन्हें हिरासत में लेना चाहते थे।

सभी राज्यों की खबरों को पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

RELATED TAG: Upa Government, Terror List, Rss, Mohan Bhagwat,

देश, दुनिया की हर बड़ी ख़बर अब आपके मोबाइल पर, डाउनलोड करें न्यूज़ स्टेट एप IOS ओर Android यूज़र्स इस लिंक पर क्लिक करें।

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें

न्यूज़ फीचर

मुख्य ख़बरे

वीडियो

फोटो