Breaking
  • मुजफ्फरनगर ट्रेन हादसे में दोषियों के खिलाफ होगी सख्त कार्रवाई: ट्रैफिक डीजी -Read More »
  • पाकिस्तान ने पिछले पांच सालों में 298 भारतीयों को दी नागरिकता -Read More »
  • बांग्लादेश की PM शेख हसीना वाजेद की हत्या की कोशिश के मामले में 10 को मौत की सजा
  • उत्कल एक्सप्रेस हादसे को लेकर अज्ञात लोगों के खिलाफ लापरवाही का केस दर्ज
  • उत्कल एक्सप्रेस में घायलों की संख्या बढ़कर हुई 156
  • सुरेश प्रभु ने मुजफ्फरनगर ट्रेन हादसे को लेकर CRB से शाम तक मांगी रिपोर्ट -Read More »
  • चीन से सीमा विवाद के बीच सेना प्रमुख बिपिन रावत तीन दिनों के लद्दाख दौरे पर -Read More »
  • बिहार में बाढ़ से 18 जिलों के 1.20 करोड़ से ज्यादा लोग प्रभावित, पिछले 24 घंटे में 49 मौतें -Read More »
  • टेस्ट सीरीज में क्लीन स्वीप के बाद आज पहले वनडे में श्रीलंका से भिड़ेगी टीम इंडिया -Read More »
  • उत्कल एक्सप्रेस हादसे की वजह से मेरठ रुट में बदलाव, कई ट्रेन कैसिंल

गायत्री प्रजापति को जमानत देने के लिए हुई थी 10 करोड़ रुपये की डील, इलाहाबाद हाई कोर्ट की रिपोर्ट

By   |  Updated On : June 19, 2017 09:33 AM
उत्तर प्रदेश के पूर्व मंत्री गायत्री प्रजापति (फाइल फोटो)

उत्तर प्रदेश के पूर्व मंत्री गायत्री प्रजापति (फाइल फोटो)

ख़ास बातें
  •  इलाहाबाद हाई कोर्ट की रिपोर्ट में हुआ खुलासा
  •  गायत्री प्रजापति को जमानत देने के लिए हुई थी 10 करोड़ रुपये की डील

नई दिल्ली:  

अखिलेश यादव की सरकार में उत्तर प्रदेश के पूर्व मंत्री और बहुचर्चित गैंगरेप मामले के आरोपी गायत्री प्रजापति को पॉक्सो कोर्ट से मिली जमानत पर चौंकाने वाला खुलासा हुआ है।

एक हिंदी अखबार की रिपोर्ट के मुताबिक इलाहाबाद हाईकोर्ट की जांच में यह बात सामने आई है कि गायत्री प्रजापति को साजिश के तहत जमानत दी गई और इसके लिए करीब 10 करोड़ रुपये की डील हुई थी।

इतना ही नहीं इस रकम में से पांच करोड़ रुपये उन तीन वकीलों को भी दिए गए थे जो बिचौलिए की भूमिका में थे जबकि पांच करोड़ रुपये की रकम पोक्सो जज ओ पी मिश्रा और जिला जज राजेंद्र सिंह को दिए गए थे।

गायत्री प्रजापति को 25 अप्रैल को अतिरिक्त जिला सत्र न्यायधीश ओ पी मिश्रा ने गैंगरेप मामले में जमानत दी थी। प्रजापति को जमानत मिलने के बाद ओ पी मिश्रा को सस्पेंड करते हुए इलाहाबाद हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस दिलीप बी भोंसले ने मामले की जांच के आदेश दिए थे।

इसे भी पढ़ेंः मुलायम सिंह ने एनडीए को समर्थन देने का किया ऐलान, समाजवादी पार्टी में पड़ सकती है फूट

अखबार की रिपोर्ट के मुताबिक हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस दिलीप बी भोंसले ने अपनी गोपनीय रिपोर्ट में कई सवाल उठाए हैं।

रिपोर्ट में ओ पी मिश्रा को जज के रूप में तैनात किए जाने को लेकर भी सवाल उठाए गए हैं। रिपोर्ट में कहा गया है, '18 जुलाई 2016 को पोक्सो जज के रूप में लक्ष्मी कांत राठौर की तैनाती की गई थी और वह बेहतरीन काम कर रहे थे। उन्हें अचानक से हटाने और उनके स्थान 7 अप्रैल 2017 को ओपी मिश्रा की पोस्को जज के रूप में तैनाती के पीछे कोई औचित्य या उपयुक्त कारण नहीं था। मिश्रा की तैनाती तब की गई जब उनके रिटायर होने में मुश्किल से तीन सप्ताह का समय था।'

बता दें कि राज्य के पूर्व मंत्री गायत्री प्रजापति को 15 मार्च को गिरफ्तार किया गया था और 24 अप्रैल को जस्टिस ओ पी मिश्रा ने उन्हें जमानत दे दी थी।

इसे भी पढ़ेंः राजनाथ सिंह के पैर में आया फ्रैक्चर, एम्स में चढ़ा प्लास्टर

प्रजापति को जमानत दिए जाने के बाद हाईकोर्ट की प्रशासनिक समिति ने कार्रवाई करते हुए जज ओ पी मिश्रा को सस्पेंड कर दिया था। इसके साथ ही जांच के घेरे में आए जिला जज राजेंद्र सिंह से भी पूछताछ की गई थी।

सभी राज्यों की खबरों को पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें

न्यूज़ फीचर

मुख्य ख़बरे

वीडियो

फोटो