Breaking
  • आरजेडी कार्यकर्ताओं के हंगामे के बाद सीएम नीतीश के आवास पर बढ़ाई गई सुरक्षा व्यवस्था
  • NDA में शामिल हुई जेडी-यू, 'बागी' शरद यादव के खिलाफ नहीं हुई कार्रवाई -Read More »
  • शुक्रवार की क्लोजिंग के मुकाबले 25 फीसदी प्रीमियम पर बायबैक करेगी इंफोसिस
  • यूपी में ख़राब कानून व्यवस्था को लेकर समाजवादी पार्टी के नेताओं ने राज्यपाल से की मुलाक़ात
  • इंफोसिस के बोर्ड ने 13,000 करोड़ रुपये के बायबैक को दी मंजूरी -Read More »
  • उत्तर प्रदेश के गोरखपुर पहुंचे कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी
  • जम्मू-कश्मीर: शोपियां ज़िले के 9 गांवो में सुरक्षाकर्मियों ने शुरु किया सर्च ऑपरेशन

पुराने गहनों और व्यक्तिगत कारों की बिक्री पर नहीं लगेगा जीएसटी

By   |  Updated On : July 13, 2017 11:17 PM
पुराने गहनों और वाहनों की बिक्री पर नहीं लगेगा GST

पुराने गहनों और वाहनों की बिक्री पर नहीं लगेगा GST

नई दिल्ली :  

राजस्व विभाग ने गुरुवार को स्पष्ट किया कि लोगों की ओर से पुराने गहनों और वाहनों की बिक्री पर जीएसटी नहीं लगेगा। क्योंकि इस तरह की बिक्री किसी कारोबारी मकसद से नहीं की जाती है।

विभाग ने राजस्व सचिव हसमुख अधिया की ओर से बुधवार को की गई टिप्पणी पर यह स्पष्टीकरण दिया है। विभाग की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि जीएसटी मास्टर क्लास में बुधवार को सूचित किया गया था कि सर्राफा कारोबारी द्वारा किसी उपभोक्ता से पुराने गहने खरीदने पर केंद्रीय जीएसटी कानून, 2017 की धारा 9 (4) के प्रावधानों के तहत उलट शुल्क व्यवस्था में तीन फीसदी की दर से जीएसटी लगेगा।

बयान में कहा गया है कि इस धारा को एक अन्य धारा के साथ पढ़ा जाना चाहिए, जो कहती है कि किसी व्यक्ति द्वारा पुराने सोने की बिक्री अपने कारोबार के लिए नहीं की जा रही है और ऐसे में इसे आपूर्ति नहीं माना जा सकता। इसी के अनुरूप जौहरी या सर्राफा कारोबारी को इस तरह की खरीद पर उलट शुल्क व्यवस्था (आरसीएम) के तहत कर नहीं देना होगा। 

जीएसटी: सालाना 20 लाख से कम टर्नओवर वाले कारोबारी को कराना होगा रजिस्ट्रेशन

राजस्व विभाग के अधिकारियों ने कहा कि यह नियम पुरानी कार या दोपहिया वाहनो की बिक्री पर भी लागू होगा। इस पर भी जीएसटी नहीं लगेगा।

विभाग ने आगे कहा है कि यदि कोई गैर पंजीकृत इकाई किसी पंजीकृत आपूर्तिकर्ता को पुराने सोने के आभूषण बेचती है, तो उस पर कर लगेगा। इसी तरह कोई सोने के आभूषण की आपूर्ति करने वाला गैर पंजीकृत व्यक्ति यदि इसे किसी पंजीकत आपूतर्किर्ता को बेचता है, तो आरसीएम के तहत इस पर कर लगेगा।

छूट प्राप्त वस्तुओं के कारोबारियों को जीएसटीआईएन जरूरी नहीं।

और पढ़े: शेयर बाज़ार में रौनक: ऑल टाइम पहुंचा सेंसेक्स, निफ्टी 9880 पार

 

ये भी पढ़ें: TCS अपनी लखनऊ यूनिट करेगा बंद, नहीं जाएगी किसी की नौकरी

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें

न्यूज़ फीचर

मुख्य ख़बरे

वीडियो

फोटो