सरकार का पुराने नोट जमा कराने के लिए और मौका देने से इंकार, सुप्रीम कोर्ट से कहा- मकसद खत्म हो जाएगा

  |  Updated On : July 17, 2017 11:08 PM
नोटबंदी पर सख्त सरकार (फाइल फोटो)

नोटबंदी पर सख्त सरकार (फाइल फोटो)

नई दिल्ली :  

नोटबंदी के बाद जिन लोगों ने साल 2016 के 30 दिसंबर तक अपने पुराने 500 रुपये और 1000 रुपये के नोट नहीं बदलवाए, केंद्र सरकार ने उनके लिए नोट बदलवाने का एक और मौका देने से सोमवार को इनकार कर दिया।

सरकार ने एक सुनवाई में सुप्रीम कोर्ट से कहा कि ऐसा करने से काला धन नष्ट करने का उद्देश्य खत्म हो जाएगा।

सुप्रीम कोर्ट में दाखिल हलफनामे में वित्त मंत्रालय के अंडर सेक्रेटरी टी. नरसिम्हा ने कहा, 'लोगों को पुराने नोट जमा कराने के लिए साल 2016 के 30 दिसंबर तक पर्याप्त वक्त दिया गया। नोटबंदी का मुख्य लक्ष्य काले धन को खत्म करना था। अब अगर इस एक और मौका दिया गया तो इस लक्ष्य को पूरा नहीं किया जा सकेगा।'

यह भी पढ़ें: सिगरेट बनाने वाली कंपनियों को झटका, GST काउंसिल ने सेस में किया इजाफा

उन्होंने कहा कि अगर ऐसी अनुमति दी गई तो कई बेनामी लेनदेन होंगे और प्राक्सी यूजर्स पुराने नोट बदलेंगे और काले धन पर रोक नहीं लग पाएगी। उन्होंने अदालत से उस याचिका को खारिज करने की मांग की, जिसमें नोट जमा करने के लिए समय बढ़ाने की मांग की गई है।

सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार से चार जुलाई को इस मामले में अपना पक्ष रखने को कहा था।

यह भी पढ़ें: NPA मामले में गुजरात हाई कोर्ट से नहीं मिली राहत, कंपनी पर बैंकों का 40,000 करोड़ रुपये का कर्ज

RELATED TAG: Demonetisation, Supreme Court, Narendra Modi,

देश, दुनिया की हर बड़ी ख़बर अब आपके मोबाइल पर, डाउनलोड करें न्यूज़ स्टेट एप IOS ओर Android यूज़र्स इस लिंक पर क्लिक करें।

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें

न्यूज़ फीचर

मुख्य ख़बरे

वीडियो

फोटो