शिवसेना ने नोटबंदी पर BJP पर साधा निशाना, कहा- मूर्खता भरा कदम देशभक्ति नहीं

मौजूदा वित्त वर्ष की पहली तिमाही (अप्रैल से जून) में जीडीपी के आंकड़े जारी किये हैं, जिसमें जबरदस्त उछाल देखने को मिला है।

  |   Updated On : August 31, 2018 10:41 PM
शिवसेना ने नोटबंदी पर बीजेपी पर साधा निशाना

शिवसेना ने नोटबंदी पर बीजेपी पर साधा निशाना

नई दिल्ली :  

मौजूदा वित्त वर्ष की पहली तिमाही (अप्रैल से जून) में जीडीपी के आंकड़े जारी किये, जिसमें जबरदस्त उछाल देखने को मिला है। देश का सकल घरेलू उत्पाद 8.2 प्रतिशत दर्ज किया गया है। सरकार में साझेदार शिवसेना ने केंद्र में सत्तारूढ़ बीजेपी पर 2016 में 500 और 1000 रुपये की नोटबंदी को लेकर निशाना साधा है। शिवसेना ने कहा कि इसने भारतीय अर्थव्यवस्था को बर्बाद किया है और इसे भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) भी स्वीकार करता है। शिवसेना के मुखपत्र 'सामना' और 'दोपहर का सामना' के संपादकीय में कहा गया कि यह त्वरित व मूर्खता भरा कदम देशभक्ति नहीं था, बल्कि इससे देश में 'आर्थिक अराजकता' पैदा हुई, जो नोटबंदी के बाद के परिणामों से साबित होता है।

नोटबंदी की घोषणा करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वादा किया था कि यह भ्रष्टाचार, कालाधन, फर्जी नोटों व आतंकवाद को खत्म कर देगी, लेकिन इसका प्रभाव खास तौर से दो सालों से बिल्कुल उलटा रहा है। शिवसेना ने कहा, 'आरबीआई की हालिया वार्षिक रिपोर्ट में कहा गया कि सभी प्रचलित 1.47 लाख करोड़ रुपये या 99.30 फीसदी नोट वापस लौट आए। करीब 10,000 करोड़ रुपये वापस सर्कुलेशन में नहीं आए। इसका मतलब है कि पहाड़ खोदा गया और एक चुहिया भी नहीं निकली। लेकिन देश की अर्थव्यवस्था को नष्ट कर दी गई।'

और पढ़ें : पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के समय देश की आर्थिक विकास 10% से ज्यादा रही, रिपोर्ट में हुआ खुलासा

शिवसेना ने कहा कि नोटबंदी का परिणाम रहा कि देश की अर्थव्यवस्था गड़बड़ हो गई, सूक्ष्म व मध्यम उद्योग बर्बाद हो गए, सेवा क्षेत्र संकट में हैं। आवास उद्योग में मंदी है और नोटबंदी के बाद बैंक और एटीएम की लाइनों में सैकड़ों लोगों ने जान गंवा दी। सामना में कहा गया कि देश की जीडीपी व विकास दर में गिरावट आई और भारतीय रुपया 70 सालों के अपने न्यूनतम स्तर पर पहुंच गया और आतंकवाद जारी है। इसके अलावा सरकार ने 15,000 करोड़ रुपये नए नोट छापने में और 2000 करोड़ रुपये इनके वितरण में और 700 करोड़ रुपये मौजूदा एटीएम नेटवर्क को बदलने में खर्च कर दिए। यह भारी-भरकम रकम, जो जनता का पैसा था, फिजूल में खर्च किया गया।

और पढ़ें: अर्थव्यवस्था में जबरदस्त उछाल, मोदी सरकार में GDP हुई 8.2 फीसदी

शिवसेना ने कहा, 'भारी आर्थिक नुकसान के बावजूद सरकार का अभी भी विकास की रट लगाना जारी है। नोटबंदी पूरी तरह से नुकसानदेह कदम था।' सामना के संपादकीय में आरबीआई पर निशाना साधते हुए कहा गया है कि यह देश की संपत्ति का संरक्षक है, लेकिन गर्वनर (उर्जित पटेल) ने खजाना लूटे जाने के दौरान इसे बचाने के लिए कुछ नहीं किया। उन्हें तो अदालत के सामने पेश किया जाना चाहिए।

बीजेपी की केंद्र और महाराष्ट्र में सत्ता-सहयोगी ने कहा कि जिन्होंने नोटबंदी का विरोध किया, उनको 'गद्दार' कहा गया और बुरा बर्ताव किया गया, लेकिन आरबीआई की वार्षिक रिपोर्ट (2017-18) के आने के बाद अब सच्चाई सामने आ गई है। एक सबसे बड़े झूठ से पर्दा हट गया है।

First Published: Friday, August 31, 2018 06:36 PM

RELATED TAG: Narendra Modi, Demonetisation, Shivsena, Economy,

देश, दुनिया की हर बड़ी ख़बर अब आपके मोबाइल पर, डाउनलोड करें न्यूज़ स्टेट एप IOS और Android यूज़र्स इस लिंक पर क्लिक करें।

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें

न्यूज़ फीचर

मुख्य ख़बरे

वीडियो

फोटो