Breaking
  • मुजफ्फरनगर ट्रेन हादसे में दोषियों के खिलाफ होगी सख्त कार्रवाई: ट्रैफिक डीजी -Read More »
  • पाकिस्तान ने पिछले पांच सालों में 298 भारतीयों को दी नागरिकता -Read More »
  • बांग्लादेश की PM शेख हसीना वाजेद की हत्या की कोशिश के मामले में 10 को मौत की सजा
  • उत्कल एक्सप्रेस हादसे को लेकर अज्ञात लोगों के खिलाफ लापरवाही का केस दर्ज
  • उत्कल एक्सप्रेस में घायलों की संख्या बढ़कर हुई 156
  • सुरेश प्रभु ने मुजफ्फरनगर ट्रेन हादसे को लेकर CRB से शाम तक मांगी रिपोर्ट -Read More »
  • चीन से सीमा विवाद के बीच सेना प्रमुख बिपिन रावत तीन दिनों के लद्दाख दौरे पर -Read More »
  • बिहार में बाढ़ से 18 जिलों के 1.20 करोड़ से ज्यादा लोग प्रभावित, पिछले 24 घंटे में 49 मौतें -Read More »
  • टेस्ट सीरीज में क्लीन स्वीप के बाद आज पहले वनडे में श्रीलंका से भिड़ेगी टीम इंडिया -Read More »
  • उत्कल एक्सप्रेस हादसे की वजह से मेरठ रुट में बदलाव, कई ट्रेन कैसिंल

दार्जिलिंग हिंसा: ममता सरकार ने केंद्र से कहा- स्थानीय चुनाव, पूर्वोत्तर के आतंकी संगठन हैं जिम्मेदार

By   |  Updated On : June 21, 2017 12:13 AM
दार्जिलिंग में हिंसा (फोटो-PTI)

दार्जिलिंग में हिंसा (फोटो-PTI)

नई दिल्ली :  

दार्जिलिंग में हो रही हिंसा के पीछे आगामी पर्वतीय परिषद के लिये चुनाव और पूर्वोत्तर राज्यों के उग्रवादियों पश्चिम बंगाल सरकार ने मुख्य वजह बताया है। राज्य सरकार की तरफ से केंद्रीय गृह मंत्रालय को भेजी गई रिपोर्ट इन्हें ही मुख्य कारण बताया गया है।

गृह मंत्रालय के सूत्रों के का कहना है कि राज्य सरकार की तरफ से 17 जून को रिपोर्ट भेजी गई थी।

रिपोर्ट के अनुसार दार्जिलिंग जिले में गोरखा जनमुक्ति मोर्चा (जीजेएम) के पांच जून को आयोजित विरोध प्रदर्शन के ककारण इलाके में हिंसा भड़की थी। जिसके बाद रास्ते अवरुद्ध हो गए।

लेकिन 8 जून से स्थिति और ज्यादा खराब हुई जीजेएम की तरफ से निकाला गया जुलूस राजभवन से कुछ दूरी पर ही आयोजित किया गया।

और पढ़ें: दार्जिलिंग में इंटरनेट सेवाएं बंद, जीजेएम के समर्थकों का प्रदर्शन जारी

रिपोर्ट में कहा गया है कि इस प्रदर्शन के दौरान प्रदर्शनकारियों ने पुलिस पर पथराव किया और दो घंटे तक चले इस हिंसक प्रदर्शन में बमबारी भी की गई।

इस हिंसा में एक सरकारी बस, पुलिस के आठ वाहन और एक पुलिस सहायता केंद्र जला दिये गए थे।

जीजेएम के कार्यकर्ता अलग गोरखालैंड राज्य की मांग कर रहे हैं। सूत्रों का कहना है कि राज्य सरकार की रिपोर्ट में दार्जिलिंग और आसपास के कुछ अन्य इलाकों में गोरखालैंड क्षेत्रीय प्रशासन का चुनाव भी एक बड़ा कारण माना गया है।

रिपोर्ट में इस हिंसा के भारी मात्रा में हथियार और नकदी भी जब्त की गई। इसको कारण तथ्य मानते हुए रिपोर्ट में दार्जिलिंग हिंसा में पूर्वोत्तर के उग्रवादियों की मौजूदगी की बात कही है।

और पढ़ें: कुंबले ने इस्तीफे पर दिया बयान- कोहली नहीं चाहते थे पद पर बना रहूं

राज्य सरकार की तरफ से 17 जून को भेजी गई रिपोर्ट में 13 जून तक की स्थिति के बारे में जानकारी दी गई है। इस हिंसक आंदोलन के दौरान पुलिस ने कुल 24 मामले दर्ज करने की बात कही है।

इस हिंसा में सुरक्षा बल के 49 जवानों के घायल होने की पुष्टि की है साथ ही इलाके में स्थिति को तनावपूर्ण लेकिन नियंत्रण में बताई गई है।

और पढ़ें: इंटरनेशनल योग दिवस: पीएम मोदी 55,000 लोगों के साथ करेंगे आसन

केंद्र सरकार ने इलाके में शांति और कानून व्यवस्था बहाल करने में मदद करने और स्थिति को सामान्य करने के लिये सुरक्षा बलों की 11 कंपनियां (1375 जवान) वहां मौजूद हैं। इनमें एक कंपनी महिला जवानों की भी शामिल है।

और पढ़ें: US दौरे पर पीएम मोदी उठा सकते हैं एच-1बी वीजा का मुद्दा

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें

न्यूज़ फीचर

मुख्य ख़बरे

वीडियो

फोटो