Breaking
  • गृह मंत्री राजनाथ सिंह के बेटे पंकज सिंह को व्हाट्सएप पर मिली जान से मारने की धमकी
  • जम्मू-कश्मीर: अनंतनाग में दो पुलिसकर्मियों के दो सर्विस राइफल के साथ आतंकी भागे
  • जम्मू-कश्मीर: कुलगाम में आर्मी कैंप पर आतंकियों का हमला, सर्च ऑपरेशन जारी
  • तेलंगाना में सड़क दुर्घटना में दो बच्चों सहित 10 लोगों की मौत, 15 घायल
  • कटक में प्रधानमत्री मोदी ने कहा, यूपीए सरकार ने देश की साख को कम किया

कर्नाटक चुनाव: कांग्रेस का लिंगायत कार्ड पड़ा उल्टा, बीजेपी के खाते में गई अधिकतर सीटें

  |   Updated On : May 15, 2018 05:59 PM
सिद्धारमैया (फोटो: IANS)

सिद्धारमैया (फोटो: IANS)

ख़ास बातें
  •  कांग्रेस ने चुनाव से पहले लिंगायत को अलग धर्म का दर्जा दिया था
  •  224 विधानसभा में करीब 100 सीटों पर लिंगायत समुदाय का प्रभाव है
  •  2013 में कांग्रेस ने लिंगायत समुदाय के प्रभाव वाले क्षेत्रों में 67 फीसदी सीटें जीती थीं

बेंगलुरु:  

कर्नाटक विधानसभा चुनाव में कांग्रेस पार्टी की हार पर कई सवाल खड़े किए जा रहे हैं। जिसमें सबसे अहम मुद्दा लिंगायत समुदाय को अलग धर्म का दर्जा दिए जाने का था।

चुनाव की तारीखों की घोषणा से ठीक पहले लिंगायत को अलग धर्म का दर्जा देकर राज्य के 17 फीसदी आबादी को कांग्रेस ने साधने की कोशिश की थी लेकिन राज्य चुनाव का परिणाम बता रहे हैं कि कांग्रेस का यह दांव उल्टा पड़ गया है।

कर्नाटक चुनाव में भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी है। उम्मीद है कि कांग्रेस हार के बावजूद जनता दल (सेक्युलर) (जेडीएस) के साथ मिलकर सरकार बना ले। इसके लिए बकायदा तैयारी भी शुरू हो गई है।

बता दें कि कर्नाटक के 224 विधानसभा में करीब 100 सीटों पर लिंगायत समुदाय का प्रभाव है। चुनाव से पहले भी कांग्रेस के इस समुदाय को अलग धर्म का दर्जा दिए जाने को लोगों ने खारिज किया है।

लिंगायतों के एक समूह वीरशैव ने कांग्रेस के लिंगायत और वीरशैव के बीच मतभेद पैदा करने की कोशिश बताई थी। वीरशैव समुदाय ने कहा था कि कांग्रेस चुनाव को ध्यान में रखते हुए अलगाववाद की राजनीति कर रही है।

बीजेपी ने भी पूरे चुनाव प्रचार के दौरान कांग्रेस के इस फैसले की आलोचना कर फायदा लेती रही। बीजेपी के मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार और लिंगायत नेता बी एस येदियुरप्पा ने लोगों को साधने में सफल रहे।

बता दें कि राज्य के लिंगायत प्रभाव वाले अधिकतर क्षेत्र में बीजेपी को जीत मिली है। वहीं 2013 के चुनाव में येदियुरप्पा के मुख्यमंत्री पद से हटने के कारण इन क्षेत्रों में बीजेपी को बहुत कम सीटें मिली थी।

2013 में कांग्रेस ने लिंगायत समुदाय के प्रभाव वाले क्षेत्रों में 67 फीसदी सीटें जीती थीं। वहीं बीजेपी ने उत्तर-मध्य कर्नाटक के 62 लिंगायत बहुल क्षेत्रों में 29 सीटों में जीत दर्ज की थी जिसकी संख्या 2018 में 40 के करीब जा रही है।

चुनाव से पहले बीजेपी ने कांग्रेस पर लिंगायत को लेकर कहा था कि राज्य सरकार लिंगायत को अलग धर्म का दर्जा देकर वोटों का ध्रुवीकरण कर रही है।

और पढ़ें: कर्नाटक: सिद्धारमैया ने बादामी सीट जीता, येदियुरप्पा का शिकारीपुरा

RELATED TAG: Karnataka Election, Karnataka Election Results, Lingayat, Lingayat Community, Congress, Bjp,

देश, दुनिया की हर बड़ी ख़बर अब आपके मोबाइल पर, डाउनलोड करें न्यूज़ स्टेट एप IOS ओर Android यूज़र्स इस लिंक पर क्लिक करें।

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें

न्यूज़ फीचर

मुख्य ख़बरे

वीडियो

फोटो