Breaking
  • विमान रद्द किए जाने की ख़बर को इंडिगो ने किया ख़ारिज़
  • इंजन खराबी को लेकर इंडिगो ने रद्द किए 84 फ्लाइट्स -Read More »
  • गोरखपुर हादसे पर इलाहाबाद हाई कोर्ट में 29 अगस्त को होगी अगली सुनवाई
  • सुप्रीम कोर्ट ने दिया कार्ति चिदंबरम को CBI के समक्ष पेश होने का आदेश -Read More »
  • नारायणमूर्ति को जिम्मेदार बताते हुए सिक्का ने इंफोसिस से दिया इस्तीफा, पढ़ें पूरा लेटर -Read More »
  • जन्मदिन विशेष: 'गुलज़ार', ज़िंदगी के एहसास को नज़्मों में पिरोने वाला शख़्स -Read More »
  • अखिलेश यादव बोले, सीबीआई केंद्र सरकार के अधीन, उनकी भी होनी चाहिए जांच
  • देहरादून: क्लोरीन गैस लीक से 24 लोग बीमार, काबू में हालात -Read More »
  • इंफोसिस के सीईओ और एमडी पद से विशाल सिक्का का इस्तीफा -Read More »
  • स्पेन: बार्सिलोना आतंकी हमले में 13 लोगों की मौत, जवाबी कार्रवाई में 4 आतंकी ढेर, ISIS ने ली जिम्मेदारी

कपिल सिब्बल ने कहा, राम की तरह ट्रिपल तलाक आस्था से जुड़ा मामला, कोर्ट को नहीं देना चाहिए इसमें दखल

By   |  Updated On : May 16, 2017 11:50 PM
सुप्रीम कोर्ट में ट्रिपल तलाक पर सुनवाई जारी (फाइल फोटो)

सुप्रीम कोर्ट में ट्रिपल तलाक पर सुनवाई जारी (फाइल फोटो)

ख़ास बातें
  •  सिब्बल ने कहा कि ट्रिपल तलाक आस्था से जुड़ा मसला है और इसमें सुप्रीम कोर्ट को दखल नहीं देना चाहिए
  •  कपिल सिब्बल ट्रिपल तलाक पर ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड की तरफ से दलील दे रहे थे

New Delhi:  

ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड (एआईएमपीएलबी) के वकील और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल ने ट्रिपल तलाक की तुलना अयोध्या में जन्मे राम से कर डाली। सुप्रीम कोर्ट में आज चौथे दिन ट्रिपल तलाक पर सुनवाई हुई।

सिब्बल ने कहा कि ट्रिपल तलाक आस्था से जुड़ा मसला है और इसमें सुप्रीम कोर्ट को दखल नहीं देना चाहिए। सिब्बल ने कहा कि ट्रिपल तलाक आस्था से वैसे ही जुड़ा मामला है जैसे कि अगर मेरी आस्था राम में है तो मैं मानूंगा कि राम अयोध्या में पैदा हुए थे।

सिब्बल ने कहा, ' अगर उस पर सवाल नहीं तो तीन तलाक पर क्यों?' उन्होंने दलील दी कि हम यह नहीं कह रहे ट्रिपल तलाक कोई अच्छी परंपरा है और उसे हमेशा के लिए जारी रखना चाहिए। हम बदलाव चाहते हैं लेकिन हमारा मानना है कि बदलाव के लिए किसी को बाध्य नहीं किया जाना चाहिए। किसी दूसरे को इसमें दखल देने से बचना चाहिए।

और पढ़ें: सुप्रीम कोर्ट में AIMPLB ने कहा, तीन तलाक आस्था का विषय है, संवैधानिक नैतिकता का नहीं

सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट ने कपिल सिब्बल को टोकते हुए कहा कि कोर्ट में उन्हें राजनीतिक बात करने से बचना चाहिए। इसके बाद सिब्बल ने कहा कि मैं कोर्ट में कभी ऐसा नहीं करता।

लेकिन जज ने टिप्पणी करते हुए कहा, 'ये आपके खून में हैं और आदत आसानी से नहीं जाती।'

सिब्बल ने कहा कि शरीयत पर्सनल लॉ का हिस्सा हैं, इसे मूल अधिकारों के साथ जोड़कर नहीं देख सकते। उन्होंने कहा कि पर्सनल लॉ को संविधान के आधार पर नहीं परख सकते।

उन्होंने कहा कि जहां मुस्लिम देश में हिन्दू विश्वास का संरक्षण होना चाहिए, वही हिन्दू बहुल देश में मुस्लिम परंपराओं का संरक्षण जरूरी हैं। सुनवाई के दौरान जस्टिस नरीमन ने कपिल सिब्बल से सवाल किया कि क्या आप ये कहना चाहते हैं कि हमें इस मामले को नहीं सुनना चाहिए। सिब्बल ने जवाब दिया, 'हां, आपको( कोर्ट को) इसे नहीं सुनना चाहिए।'

और पढ़ें: अटॉर्नी जनरल मुकुल रोहतगी ने कहा, अगर सुप्रीम कोर्ट तीन तलाक़ खत्म कर देता है, तो सरकार लाएगी नया कानून

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें

न्यूज़ फीचर

मुख्य ख़बरे

वीडियो

फोटो