Breaking
  • दावोस रवाना होने के लिए पीएम मोदी ज्यूरिख पहुंचे, कल बैठक को करेंगे संबोधित
  • नेपाल में अमेरिकी दूतावास अस्थाई तौर पर बंद
  • दावोस बैठक से पहले WEF की रिपोर्ट जारी, चीन-पाक से नीचे फिसला भारत, पढ़ें पूरी खबर -Read More »
  • हाई कोर्ट से AAP के 20 MLAs ने वापस ली याचिका, 20 मार्च को होगी सुनवाई, पढ़ें पूरी खबर -Read More »
  • 20 आप विधायकों ने दिल्ली हाई कोर्ट में अयोग्यता पर रोक लगाने के लिए दाखिल किए आवेदन को वापस लिया
  • दिल्ली पुलिस ने इंडियन मुजाहिद्दीन के संदिग्ध आतंकी अब्दुल सुबहान कुरैशी को गिरफ्तार किया
  • पीएम नरेंद्र मोदी दावोस में होने वाले वर्ल्ड इकनॉमिक फोरम में हिस्सा लेने के लिए हुए रवाना
  • जम्मू-कश्मीरः आरएस पुरा, अर्निया और रामगढ़ में क्रॉस बॉर्डर फायरिंग रुकी

के सी पलानीस्वामी ने अपोलो अस्पताल से मांगा जयललिता के वीडियो क्लिप का स्पष्टीकरण

  |  Updated On : December 20, 2017 06:27 PM

चेन्नई:  

अखिल भारतीय अन्ना द्रमुक मुनेत्र कड़गम (एआईएडीएमके) के पूर्व सांसद के. सी. पलानीस्वामी ने अपोलो अस्पताल से पूर्व मुख्यमंत्री जे.जयललिता के वीडियो पर स्पष्टीकरण देने को कहा है। इस वीडियो में जयललिता अपोलो अस्पताल के एक कमरे में नजर आ रही हैं।

उन्होंने अस्पताल से स्पष्टीकरण मांगा है कि वह बताएं कि क्या यह वीडियो वास्तविक है या नहीं।

पलानीस्वामी ने जयललिता के इस वीडियो पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा, 'यह अपोलो अस्पताल को स्पष्ट करना है कि क्या इस तरह का कोई कमरा है भी नहीं और इस वीडियो क्लिप में कितनी सच्चाई है।'

जयललिता के निधन के लगभग एक वर्ष बाद पार्टी से किनारे किए गए टी.टी.वी. दिनाकरन गुट के पी.वेट्रिवेल ने बुधवार को यह वीडियो जारी किया।

वेट्रिवेल ने पत्रकारों का बताया, 'इस वीडियो को वी.के.शशिकला ने जयललिता के आईसीयू से अस्पताल के जनरल वार्ड में शिफ्ट करने के बाद बनाया था।'

शशिकला फिलहाल, भ्रष्टाचार के आरोप में जेल में बंद हैं।

और पढ़ेंः आतंकी सईद को पाक आर्मी चीफ बाजवा का मिला समर्थन, कहा कश्मीर मुद्दे के लिए लड़ रहा है हाफिज

इस वीडियो क्लिप को राधाकृष्णन नगर विधानसभा सीट पर होने जा रहे उपचुनाव से ठीक एक दिन पहले जारी किया गया है। इस निर्वाचन क्षेत्र से दिनाकरन निर्दलीय उम्मीदवार हैं। यह सीट जयललिता के निधन के बाद खाली हुई थी।

इस बयान में अपोलो अस्पताल समूह के संस्थापक और कार्यकारी अध्यक्ष प्रताप सी. रेड्डी का उल्लेख करते हुए कहा गया है कि डॉक्टरों को जयललिता की गंभीर हालत के बारे में नहीं बताने को कहा गया था।

बयान में पलानीस्वामी ने मांग की है कि डॉक्टरों को ऐसा करने के निर्देश किसने दिए।?

जयललिता को 11 सितंबर, 2016 को अपोलो अस्पताल में भर्ती कराया गया था और यहां पांच दिसंबर को उनका निधन हो गया था। अस्पताल ने कहा था कि उन्हें बुखार व शरीर में कम पानी (डिहाइड्रेशन) की समस्या के बाद भर्ती कराया गया था।

रेड्डी ने कहा था कि डॉक्टरों को जयललिता के गंभीर स्वास्थ्य के बारे में जानकारी नहीं देने के लिए कहा गया था क्योंकि इससे लोगों की भावनाओं पर काबू पाना मुश्किल हो जाता। हालांकि, रेड्डी ने यह नहीं बताया कि उन्हें यह सलाह किसने दी थी।

जयललीता की दोस्त के.सी गीता ने एक टेलीविजन चैनल को बताया कि वीडियो देखकर लगता है कि यह वीडियो फर्जी है।

इससे पहले, दिनाकरन ने कहा था कि वह अस्पताल में जयललिता का वीडियो क्लिप उचित समय पर जारी करेंगे। इस वीडियो क्लिप पर टिप्पणी करने के लिए अपोलो अस्पताल के अधिकारी मौजूद नहीं थे।

और पढ़ेंः कांग्रेस के विश्वसनीयता पर सवाल उठाए जाने पर पीएम मोदी का जवाब, विचलित न हों बीजेपी कार्यकर्ता

RELATED TAG: K C Palani Swami, Apollo Hospital, Former Chief Minister J Jayalalitha, Clarify On The Video, News In Hindi,

देश, दुनिया की हर बड़ी ख़बर अब आपके मोबाइल पर, डाउनलोड करें न्यूज़ स्टेट एप IOS ओर Android यूज़र्स इस लिंक पर क्लिक करें।

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें

न्यूज़ फीचर

मुख्य ख़बरे

वीडियो

फोटो