Breaking
  • कुम्मानम राजशेखरन मिजोरम के नए राज्यपाल के रूप में नियुक्त किये गए
  • जम्मू-कश्मीर: कुलगाम जिले में आतंकियों ने पुलिस पोस्ट पर की फायरिंग
  • IPL 2018: सनराइजर्स हैदराबाद ने कोलकाता को दिया 175 रनों का लक्ष्य
  • केरल में 27 मई से लेकर 29 मई तक भारी बारिश की संभावना
  • IPL 2018: कोलकाता ने टॉस जीतकर पहले गेंदबाजी करने का फैसला किया
  • CBSE 12th Result 2018: कल 12वीं के नतीजे होंगे घोषित, ऐसे करें चेक -Read More »
  • बिग बी ने 'कौन बनेगा करोड़पति' की रिकॉर्डिग शुरू की, शो में ऐसे करें रजिस्ट्रेशन -Read More »
  • कर्नाटक फ्लोर टेस्ट: कुमारस्वामी ने 117 वोटों के साथ जीता विश्वासमत -Read More »
  • होटल विवाद मामले में सेना ने मेजर गोगोई के खिलाफ कोर्ट ऑफ इंक्वायरी के दिये आदेश -Read More »
  • सीबीएसई कक्षा 12 का परीक्षा परिणाम कल घोषित किया जाएगा

रेनसमवेयर वानाक्राई का भारत बना तीसरा सबसे बड़ा शिकार, 48,000 कंप्यूटर बने निशाना

  |   Updated On : May 17, 2017 09:51 AM
भारत भी बना रैंसमवेयर अटैक (सांकेतिक फोटो)

भारत भी बना रैंसमवेयर अटैक (सांकेतिक फोटो)

नई दिल्ली:  

दुनिया के 150 देश रेनसमवेयर वानाक्राई का शिकार हुए हैं और भारत के भी करीब 40 हज़ार से ज़्यादा कंप्यूटर वायरस का शिकार हुए हैं। हालांकि आईटी मंत्री रविशंकर प्रसाद भारत के प्रभावित न होने की बात कह रहे हैं लेकिन साइबर एक्सपर्ट्स की मानें तो स्थिति बिल्कुल उल्टी है।

जानकारों के मुताबिक भारत इस साइबर अटैक से बुरी तरह प्रभावित हुआ है। एक्सपर्ट्स की मानें तो भारत इस अटैक का तीसरा सबसे बड़ा शिकार देश बना हैं।

डीएसके लीगल के पार्टनर तुषार अजिंक्य ने कहा, 'भारत में पारदर्शिता नहीं है। बैंकों और लिस्टेड कंपनियों के लिए अनिवार्य नियम है कि वे किसी भी साइबर अटैक का खुलासा करेंगी, लेकिन कुछ ही बैंक और कंपनियां ऐसा करती हैं।' उन्होंने कहा, 'हमने पहले देखा है कि ऐसे अटैकर्स इंडियन वेबसाइट्स को मुख्य तौर पर डीफेस कर देते थे, लेकिन अब मकसद पैसा हो गया है।'

रैंनसम साइबर अटैक का भारत पर खास असर नहीं: रवि शंकर प्रसाद

बता दें कि वानाक्राई रेनसमवेयर के कारण ब्रिटेन में हेल्थकेयर सिस्टम और फ्रांस की कार कंपनी रेनॉ का कामकाज प्रभावित हुआ था।

ऐसे में भारतीय कंपनियों के कामकाज पर इसके असर की आशंकाएं जताई गई है लेकिन किसी बड़ी घटना के सामने आने की ख़बर नहीं है। बावजूद इसके एक्सपर्ट्स मानते हैं कि इसका मतलब यह नहीं है कि भविष्य में किसी हमले के लिहाज से सभी सिस्टम्स सुरक्षित हैं।

कैस्परस्काई लैब के मैनेजिंग डायरेक्टर (साउथ एशिया) अलताफ हालदे ने कहा, 'रिसर्च में हमने पाया कि वानाक्राई के ग्लोबल लेवल पर हुए हमलों का बड़ा हिस्सा इंडिया में हुआ और हमलों की कुल संख्या के लिहाज से भारत तीसरे नंबर पर रहा।'

रैंसमवेयर सायबर हमला: गृहमंत्रालय ने जारी किया अलर्ट, एटीम बंद रखने के आदेश

उन्होंने कहा, 'ज्यादातर इंडियन ऑर्गनाइजेशंस पर ऐसे हमलों का खतरा बना हुआ है क्योंकि ऐसे साइबर अटैक्स में चतुराई बढ़ती जा रही है और कई सरकारी और प्राइवेट भारतीय संगठन अब भी आउटडेटेड ऑपरेटिंग सिस्टम्स यूज कर रहे हैं।'

दूसरी और साइबर सिक्यॉरिटी फर्म क्विक हील टेक्नोलॉजीज की रिसर्च रिपोर्ट में पाया गया कि रैंसमवेयर वानाक्राई ने करीब 48000 कंप्यूटरों को निशाना बनाया और ज्यादातर घटनाएं पश्चिम बंगाल में हुईं। 

आंध्र प्रदेश पुलिस भी बनी साइबर हमले का शिकार, लगभग 100 देशों पर हो चुका है हमला

रैंसमवेयर की घटना पिछले साल भी भारत में हुई थी जब कई कंपनियों और बैंकों पर कम से कम तीन रैंसवमेयर अटैक्स हुए थे।

पहला हमला पिछले साल लुसिफर अटैक के रूप में हुआ, जिसमें बैंकों और दवा कंपनियों के कंप्यूटर लॉक हो गए थे। जानकारों के मुताबकि कम से कम तीन कंपनियों और बैंकों ने अपने सिस्टम्स को अनलॉक करने के लिए बिटकॉइन में पेमेंट किया था।

इस साल जनवरी में लजारस नाम के रैंसमवेयर ने भारतीय कंपनियों पर हमला किया था।

यह भी पढ़ें: Sunny Leone Birthday: सनी लियोनी की इन हॉट फोटोज को देखकर हर कोई हो जाएगा दीवाना

IPL से जुड़ी ख़बरों को पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें 

RELATED TAG: Ransomware, Cyber Attack,

देश, दुनिया की हर बड़ी ख़बर अब आपके मोबाइल पर, डाउनलोड करें न्यूज़ स्टेट एप IOS ओर Android यूज़र्स इस लिंक पर क्लिक करें।

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें

न्यूज़ फीचर

मुख्य ख़बरे

वीडियो

फोटो