केयर्न पर आयकर विभाग का शिकंजा, पुराने सौदे पर 10 हज़ार करोड़ रुपये टैक्स चुकाने का आदेश

By   |  Updated On : June 19, 2017 03:58 PM
केयर्न पीएलसी पर आयकर विभाग का शिकंजा (फाइल फोटो)

केयर्न पीएलसी पर आयकर विभाग का शिकंजा (फाइल फोटो)

नई दिल्ली:  

आयकर विभाग ने केयर्न एनर्जी पीएलसी को पुराने सौदे के मामले में 10,247 करोड़ रुपये का कर लगाया है। आयकर विभाग ने यह पूर्ववर्ती टैक्स (रेट्रोस्पेक्टिव) अंतर्राष्ट्रीय तेल कंपनी ब्रिटिश ऑयल फर्म के इंटरनेशनल ऑब्रिट्रेशन पैनल का रुख करने की चुनौती हारने के बाद लगाया है।

सूत्रों के मुताबिक, विभाग ने इसके लिए पुरानी सब्सिडियरी कंपनी केयर्न इंडिया (जोकि अब वेदांता लिमिटेड है) में अपनी शेष हिस्सेदारी से 10.4 करोड़ डॉलर का लाभांश निकालने और इसकी वजह से एक अन्य 1500 करोड़ रुपये टैक्स रिटर्न के लिए लगाया है।

यह कदम तब लिया गया है जब पिछले हफ्ते इंटरनेश्नल ऑब्रिट्रेशन पैनल ने फैसला लिया था कि केर्यन एनर्जी की पुराने सौदे पर कर न चुकाने की मांग वाली याचिका दायर पर सुनवाई न करने का फैसला किया था।

GST की आधी-अधूरी तैयारियों से खफा स्वामी, कहा-बर्खास्त किया जाए GSTN चेयरमैन

सूत्रों के मुताबिक इसके बाद आयकर विभाग को अब केयर्न इंडिया में केयर्न एनर्जी की 9.8 प्रतिशत हिस्सेदारी को अधिग्रहित करना होगा। केयर्न एनर्जी ने कर विभाग के कदम के बारे में पुष्टि की है। 

16 जून 2017 को आयकर विभाग ने वेदांता इंडिया लिमिटेड को नोटिस जारी कर केयर्न के कारण किसी भी राशि का भुगतान करने का निर्देश दिया है। केयर्न और वेदांता लिमिटेड की वजह से कुल 10.4 करोड़ डॉलर और 5.3 करोड़ डॉलर के ऐतिहासिक लाभांश और सीआईएल और वीएल के विलय के बाद 5.1 करोड़ डॉलर का लाभांश शामिल हैं। 

कंपनी ने कहा कि हालांकि वो इंटरनेश्नल ऑर्बिट्रेशन में पुराने सौदे पर लगाए गए टैक्स के खिलाफ कानूनी कार्रवाई जारी रखेगी।

एसोचैम की जीएसटी को टालने की मांग, अरुण जेटली को लिखा खत

कंपनी ने कहा कि अपने इस मामले पर पूरा भरोसा है कि संधि के तह्त पुराने सौदों पर लगने वाले टैक्स मामले में कंपनी, कैर्न इंडिया में ग्रुप की अतिरिक्त हिस्सेदारी के मूल्य के बराबर नुकसान की मांग करता है, जो कि 1 अरब डॉलर था जिस समय कंपनी केयर्न इंडिया से जुड़ी हुई थी।

मनोरंजन: ट्विटर पर 10 करोड़ फॉलोअर्स वाली पहली हस्ती बनी केटी पेरी

कारोबार से जुड़ी ख़बरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें 

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें

न्यूज़ फीचर

मुख्य ख़बरे