Breaking
  • इंफोसिस के शेयरों की जबरदस्त पिटाई से लुढ़का सेंसेक्स और निफ्टी, सिक्का के इस्तीफे ने बिगाड़ी इं -Read More »
  • विमान रद्द किए जाने की ख़बर को इंडिगो ने किया ख़ारिज़
  • इंजन खराबी को लेकर इंडिगो ने रद्द किए 84 फ्लाइट्स -Read More »
  • गोरखपुर हादसे पर इलाहाबाद हाई कोर्ट में 29 अगस्त को होगी अगली सुनवाई
  • सुप्रीम कोर्ट ने दिया कार्ति चिदंबरम को CBI के समक्ष पेश होने का आदेश -Read More »
  • नारायणमूर्ति को जिम्मेदार बताते हुए सिक्का ने इंफोसिस से दिया इस्तीफा, पढ़ें पूरा लेटर -Read More »
  • जन्मदिन विशेष: 'गुलज़ार', ज़िंदगी के एहसास को नज़्मों में पिरोने वाला शख़्स -Read More »
  • इंफोसिस के सीईओ और एमडी पद से विशाल सिक्का का इस्तीफा -Read More »
  • स्पेन: बार्सिलोना आतंकी हमले में 13 लोगों की मौत, जवाबी कार्रवाई में 4 आतंकी ढेर, ISIS ने ली जिम्मेदारी

मध्यप्रदेश और उत्तराखंड में आफत की बारिश, जनजीवन अस्त-व्यस्त

By   |  Updated On : July 12, 2017 11:05 AM
मध्यप्रदेश में भारी बारिश से मार्केट बंद

मध्यप्रदेश में भारी बारिश से मार्केट बंद

नई दिल्ली:  

मध्यप्रदेश और उत्तराखंड में भारी बारिश के चलते जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया है। लगातार हो रही बारिश के चलते मध्यप्रदेश की बीहर बिछिया और टमस नदी उफान पर हैं वहीं उत्तराखंड में कोसी, सुयाल और टेहरी नदी खतरे के निशान पर बह रही हैं।

बारिश के चलते स्थानीय इलाकों में जनजीवन पूरी तरह से ठप हो गया है। यहां पर जल भराव के कारण कई पुलों पर पानी आ गया है जिसकी वजह से वाहनों की आवाजाही भी बाधित हो गई है।

उत्तराखंड में रिषिकेश-चंबा रूट पर बेमुंडा नाले के ऊपर से पानी बह रहा है, जिसकी वजह से यहां पर वाहनों की लंबी कतार लग गई है। वहीं टेहरी नदी में बारिश के चलते अचानक से जल स्तर बढ़ गया है।

और पढ़ें: भारी बारिश से कई नदियां खतरे के निशान से ऊपर, गंगा भी उफान पर

मध्यप्रदेश के रीवा जिले में पिछले चार दिन से लगातार बारिश के चलते मोहल्लों में जलजमाव होने लगा है। मंगलवार सुबह शुरू हुई बारिश अभी तक जारी है। बारिश के चलते पहाड़ी नदियों के साथ ही पड़ोसी राज्य उत्तर प्रदेश की नदियों में जलस्तर बढ़ गया है।

जिला प्रशासन ने ऐहतियातन जिले में अगले 24 घंटे के लिए हाई अलर्ट जारी कर दिया है। मंगलवार को 32.2 मिमी बारिश रिकॉर्ड की गई है। अब तक 306.2 मिमी बारिश हो चुकी है। मौसम वैज्ञानिकों ने विंध्य क्षेत्र में 17 जुलाई तक बारिश की संभावना जताई है।

और पढ़ें: उत्तराखंड में भारी बारिश के बाद भूकंप के झटके, जान माल की कोई क्षति नहीं

बीहर, बिछिया और टमस नदी का जलस्तर सामान्य से कई गुना अधिक बढ़ गया है। बीहर नदी में विक्रम पुल के पास शाम को 291.60 मीटर जलस्तर रहा। ये सभी नदियां खतरे के निशान के ऊपर बह रही हैं।

जिला प्रशासन ने नगर निगम क्षेत्र में 17 राहत शिविर और जवा, त्योंथर में 114 बाढ़ प्रभावित जगहों के लिए 22 राहत शिविर बनाए हैं।

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें

न्यूज़ फीचर

मुख्य ख़बरे

वीडियो

फोटो