जीएसटी लगाने के विरोध में महिलाओं ने वित्तमंत्री जेटली को भेजा सैनेटरी नैपकिन

By   |  Updated On : July 11, 2017 10:14 PM
सेनेटरी नेपकिन (फाइल फोटो)

सेनेटरी नेपकिन (फाइल फोटो)

नई दिल्ली:  

महिलाओं के स्वच्छता प्रोडक्ट्स पर जीएसटी को तत्काल वापस लेने की मांग को लेकर एसएफआई कार्यकर्ताओं ने वित्त मंत्री अरुण जेटली के कार्यालय में सेनेटरी नेपकिन पोस्ट किया। इस मुद्दे पर बना एक वीडियो भी सोशल मीडिया पर खूब वायरल हुआ। एसएफआई और ऑल इंडिया डेमोक्रेटिक विमेंस एसोसिएशन (एआईडवाए) के कार्यकर्ताओं ने नैपकिन पर 'ब्लीड विदआउट फीयर' (bleedwithoutfear) लिख कर भेजा।

सोशल मीडिया पर वायरल हुए वीडियो में दिल्ली विश्वविद्यालय के छात्र और एसएफआई कार्यकर्ता अनुराधा कुमारी ने देशभर की महिलाओं से आग्रह करते हुए कहा कि बेवजह लगाए गए टैक्स से लड़ने के लिए केंद्रीय मंत्री के कार्यालय में सैनिटरी पैड पोस्ट करें। वीडियो में अनुराधा कुमारी ने सवाल किया कि, 'अगर कंडोम और गर्भ-निरोधक टैक्स फ्री हो सकती है तो सैनिटरी पैड क्यों नहीं?'

और पढ़ें: तेजस्वी को JDU के 4 दिनों के अल्टीमेटम के बाद लालू ने बुलाई RJD नेताओं की बैठक

बता दें कि सेनेटरी नैपकिन पर 12 फीसदी जीएसटी लगाया गया है। जीएसटी के पहले सेनेटरी नैपकिन पर करीब 13.68 प्रतिशत कर लगता था। सेनेटरी पैड को लक्जरी वस्तुओं के रूप में माना जाता है और इसी अनुसार इस पर टैक्स लगाया गया है। 

स्टूडेंट फेडरेशन ऑफ इंडिया के अध्यक्ष विकास भदौरिए ने कहा, 'सेनेटरी पैड को लक्जरी वस्तुओं के रूप में माना जाता है और इसी अनुसार इस पर टैक्स लगाया गया है।'

और पढ़ें: पाकिस्तानी आतंकी संगठन लश्कर-ए-तैयबा ने कराया अमरनाथ यात्रियों पर हमला, इस्माइल है मास्टरमाइंड

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें

न्यूज़ फीचर

मुख्य ख़बरे

वीडियो

फोटो