Breaking
  • उन्नाव रेप केस: आरोपी बीजेपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर 3 दिन की सीबीआई हिरासत में
  • LIVE RR Vs KKR : एलिमिनेटर में राजस्थान रॉयल्स और कोलकाता नाइट राइडर्स आमने-सामने -Read More »
  • कुमारस्वामी ने ली सीएम पद की शपथ, विपक्ष का शक्ति प्रदर्शन -Read More »
  • SSC पेपर लीक मामला: सीबीआई ने दर्ज़ किया एफआईआर, देश के 12 अलग-अलग जगहों पर चल रहा है सर्च ऑपरेशन
  • एबी डिविलियर्स ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से लिया संन्यास
  • कांग्रेस के जी परमेश्वर ने कर्नाटक के उपमुख्यमंत्री के तौर पर ली शपथ
  • कर्नाटक: एच डी कुमारस्वामी ने ली सीएम पद की शपथ, सोनिया-राहुल भी मौजूद
  • दिल्ली: तैमूर नगर के एक ईमारत में लगी आग, 22 दमकल गाड़ियां मौक़े पर
  • भारतीय वायुसेना का चीता हेलिकॉप्टर हुआ क्रैश, कोई हताहत नहीं
  • दिल्ली: मोदी सरकार के 4 साल पूरे होने पर कांग्रेस ने जारी किया पोस्टर, लिखा- 'विश्वासघात'
  • जम्मू-कश्मीर: अनंतनाग के बिजबेहरा में ग्रेनेड अटैक, 6 लोग घायल
  • जम्मू-कश्मीर में पाकिस्तानी गोलीबारी में मंगलवार रात से अब तक चार लोगों की मौत
  • तमिलनाडु: मद्रास हाई कोर्ट ने स्टरलाइट कंपनी के कॉपर स्मेलटर निर्माण पर लगाई रोक
  • गृह मंत्रालय ने तूतिकोरिन घटना को लेकर तमिलनाडु सरकार से मांगी रिपोर्ट
  • जम्मू-कश्मीर: पाकिस्तान की भारी गोलीबारी से कठुआ में एक की मौत, दो घायल
  • कर्नाटक में कुमारस्वामी का शपथ ग्रहण समारोह शुरू

जीएसआई के वैज्ञानिकों ने भारतीय समुद्र में खोजे लाखों टन कीमती धातु और खनिज

  |   Updated On : July 17, 2017 02:41 PM

नई दिल्ली:  

जिऑलजिकल सर्वे ऑफ इंडिया के वैज्ञानिकों ने भारत को घेरे हुए समुद्र में पानी के नीचे लाखों टन कीमती धातुओं और खनिजों खोज निकाला है।

इसती भार में पहली बार 2014 में जीएसईआई के वैज्ञानिकों ने मंगलुरु, चेन्नई, मन्नार बेसीन, अंडमान-निकोबार द्वीप समूह और लक्षद्वीप में खोजा था।

वैज्ञानिकों ने जिस मात्रा में लाइम मड, फोसफेट, कच्ची धातु के अयस्क और हाइड्रोकार्बन्स जैसी चीजें खोजी हैं। इस खोज से अनुमान लगाया जा रहा है कि गहरे पानी के अंदर वैज्ञानिकों को और बड़ी सफलता हासिल हो सकती है।

3 साल की खोज और अनुसंधान के बाद जीएसआई ने भारत के अक्सक्लूज़िव इकनॉमिक ज़ोन 181,025 वर्ग किमी का हाई रेज़ोल्यूशन सीबेड मोरफोलॉजिकल डेटा तैयार किया है और 10 हजार मिलियन टन लाइम मड के होने की बात कही है।

करवार, मैंगलुरू और चे्नई के सीमा वाले क्षेत्र में फॉस्फेट, गैस हाइड्रेट, कोबाल्ट मिश्रित फेरो मैंगनीज़ की भी मात्रा मिली है।

तीन अत्याधुनिक जहाज समुद्र रत्नाकर, समुद्र कौस्तुभ और समुद्र सौदीकामा को इस खोज में लगाया गया है। जीएसआई के सुपरिंटेंडेंट जिऑलजिस्ट आशीष नाथ ने कहा कि इन खोजों का मुख्य मकसद मिनरलाइजेशन के संभावित इलाकों की पहचान करना और मरीन मिनरल सांसधनों का आकलन करना है।

RELATED TAG: Gsi, Precious Metals,

देश, दुनिया की हर बड़ी ख़बर अब आपके मोबाइल पर, डाउनलोड करें न्यूज़ स्टेट एप IOS ओर Android यूज़र्स इस लिंक पर क्लिक करें।

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें

न्यूज़ फीचर

मुख्य ख़बरे

वीडियो

फोटो