Breaking
  • यूपी: पीएम मोदी करेंगे इन्वेस्टर्स समिट का आग़ाज़, सीएम योगी को व्यापार में बढ़ोतरी की उम्मीद -Read More »
  • फिल्म अभिनेता कमल हासन आज अपनी पार्टी करेंगे लांच, कहा- गांव के विकास पर होगी नज़र -Read More »
  • पीएनबी फर्जीवाड़ा: 11 हज़ार करोड़ नहीं 280 करोड़ रुपये का लिया था लोन- नीरव के वकील -Read More »
  • पीएनबी घोटाला: सीबीआई ने जनरल मैनेजर रैंक के अधिकारी को किया गिरफ्तार

डाकोला विवाद: भारत-चीन के बीच मेजर जनरल स्तर की फ्लैग मीटिंग बेनतीजा

  |  Updated On : August 12, 2017 05:47 AM
भारत-चीन के बीच मेजर जनरल स्तर की फ्लैग मीटिंग बेनतीजा (फाइल फोटो)

भारत-चीन के बीच मेजर जनरल स्तर की फ्लैग मीटिंग बेनतीजा (फाइल फोटो)

ख़ास बातें
  •  डाकोला में जारी विवाद के बीच भारत और चीन के सेना के बीच नाथूला में हुई फ्लैग मीटिंग
  •  बैठक से नहीं निकला नतीजा, चीन ने कहा- डाकोला से पहले भारत हटाये सैनिक
  •  भारत ने कहा, चीन सड़क बनाने का उपकरण पहले हटाये

नई दिल्ली:  

सिक्किम के डाकोला (डोकलाम) में जारी विवाद के बीच शुक्रवार को भारत और चीन की सेना के बीच नाथूला में मेजर जनरल स्तर की फ्लैग मीटिंग हुई। हालांकि यह बैठक बेनतीजा रहा।

सूत्रों के अनुसार, बैठक में चीन ने जोर डाला कि भारत डाकोला से अपने सैनिकों को पहले हटाये। वहीं भारत ने कहा कि चीन जब तक सड़क बनाने का उपकरण नहीं हटाता वो अपनी सेना नहीं हटाएगा। भारत ने डाकोला से दोनों देशों की सेनाएं एकसाथ वापस बुलाने का प्रस्ताव रखा है।

8 अगस्त को भी नाथूला में ब्रिगेडियर स्तर की दोनों देशों के सेनाओं के बीच बातचीत हुई थी लेकिन कोई नतीजा नहीं निकला था।

सूत्रों के मुताबिक, 'दोनों देशों के मेजर जनरल स्तर के अधिकारियों की बॉर्डर पर्सनल मीटिंग (बीपीएम) में भारत ने इस बात पर जोर दिया कि दोनों देशों द्वारा एक साथ सैनिकों की वापसे से टकराव सुलझाया जा सकता है।

और पढ़ें: सिक्किम और अरुणाचल में चीन से सटी पूरी सीमा रेखा पर भारत ने तैनात किए सैनिक

आपको बता दें की भारत चीन ने स्थानीय मुद्दों के समाधान, संवेदनशील सीमा पर अमन-शांति बनाए रखने के लिए बीपीएम व्यवस्था शुरू की थी।

एक वरिष्ठ भारतीय अधिकारी ने कहा, 'बैठक बेनतीजा रही क्योंकि चीनी पक्ष ने डाकोला से भारतीय सैनिकों की तत्काल वापसी पर जोर डाला।'

कैसे शुरू हुआ विवाद

भारत और चीन के बीच पिछले करीब 50 दिनों से सिक्किम सेक्टर में स्थित डाकोला को लेकर तनाव की स्थिति चल रही है और चीन लगातार भारत को 1962 जैसी हालत करने की धमकी दे रहा है। वहीं भारत ने बातचीत पर जोर दिया है। साथ ही यह साफ कर दिया है कि वह भूटान की हर संभव मदद करेगा।

भारत का कहना है कि डाकोला उसके पड़ोसी देश भूटान का है। चीन डोकलाम को अपना बताता है और उसने भारत को भूटान के साथ उसके विवाद से दूर रहने को कहा है।

और पढ़ें: भूटान के विदेश मंत्री से मिली सुषमा स्वराज, डाकोला विवाद पर हुई चर्चा

यह संकट मध्य जून में तब शुरू हुआ जब भारतीय सेना ने चीनी जवानों को डाकोला में सड़क निर्माण करने से रोका। तब से चीनी मीडिया लगातार भड़काऊ लेखों के जरिए भारत को उकसाने और धमकाने में लगा हुआ है। डाकोला में दोनों देशों के जवान आमने-सामने खड़े हैं।

जून के मध्य से चीनी मीडिया लगातार भड़काऊ लेखों के जरिए भारत को उकसाने और धमकाने में लगा हुआ है।

RELATED TAG: Doklam Standoff, India, China, Army, Flag Meeting,

देश, दुनिया की हर बड़ी ख़बर अब आपके मोबाइल पर, डाउनलोड करें न्यूज़ स्टेट एप IOS ओर Android यूज़र्स इस लिंक पर क्लिक करें।

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें

न्यूज़ फीचर

मुख्य ख़बरे

वीडियो

फोटो