Breaking
  • उन्नाव रेप केस: आरोपी बीजेपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर 3 दिन की सीबीआई हिरासत में
  • LIVE RR Vs KKR : एलिमिनेटर में राजस्थान रॉयल्स और कोलकाता नाइट राइडर्स आमने-सामने -Read More »
  • कुमारस्वामी ने ली सीएम पद की शपथ, विपक्ष का शक्ति प्रदर्शन -Read More »
  • SSC पेपर लीक मामला: सीबीआई ने दर्ज़ किया एफआईआर, देश के 12 अलग-अलग जगहों पर चल रहा है सर्च ऑपरेशन
  • एबी डिविलियर्स ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से लिया संन्यास
  • कांग्रेस के जी परमेश्वर ने कर्नाटक के उपमुख्यमंत्री के तौर पर ली शपथ
  • कर्नाटक: एच डी कुमारस्वामी ने ली सीएम पद की शपथ, सोनिया-राहुल भी मौजूद
  • दिल्ली: तैमूर नगर के एक ईमारत में लगी आग, 22 दमकल गाड़ियां मौक़े पर
  • भारतीय वायुसेना का चीता हेलिकॉप्टर हुआ क्रैश, कोई हताहत नहीं
  • दिल्ली: मोदी सरकार के 4 साल पूरे होने पर कांग्रेस ने जारी किया पोस्टर, लिखा- 'विश्वासघात'
  • जम्मू-कश्मीर: अनंतनाग के बिजबेहरा में ग्रेनेड अटैक, 6 लोग घायल
  • जम्मू-कश्मीर में पाकिस्तानी गोलीबारी में मंगलवार रात से अब तक चार लोगों की मौत
  • तमिलनाडु: मद्रास हाई कोर्ट ने स्टरलाइट कंपनी के कॉपर स्मेलटर निर्माण पर लगाई रोक
  • गृह मंत्रालय ने तूतिकोरिन घटना को लेकर तमिलनाडु सरकार से मांगी रिपोर्ट
  • जम्मू-कश्मीर: पाकिस्तान की भारी गोलीबारी से कठुआ में एक की मौत, दो घायल
  • कर्नाटक में कुमारस्वामी का शपथ ग्रहण समारोह शुरू

अफ्रीका के जिबूती में चीन ने अपने बेस कैंप में सैनिक भेजने शुरू किए, बढ़ सकती है भारत की चिंता

  |   Updated On : July 13, 2017 12:01 AM

ख़ास बातें
  •  चीन ने अफ्रीका के जिबूती बेस कैंप ने सैनिक भेजने शुरू किए
  •  चीन के अपने पहले विदेशी बेस कैंप में सैनिक भेजने से बढ़ सकती है भारत की चिंता

नई दिल्ली:  

एक तरफ बंगाल की खाड़ी में भारत, अमेरिका और जापान की सेना संयुक्त युद्धाभ्यास में लगी हुई है तो वहीं दूसरी तरफ चीन ने अफ्रीकी क्षेत्र जिबूती में अपने पहले विदेशी बेस कैंप में सैनिकों को भेजना शुरू कर दिया है।

पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए) के सैन्य अड्डे के प्रभारी के विदाई समारोह के बाद सैनिकों और सैन्य उपकरणों को लेकर दो जहाज दक्षिणी बंदरगाह झानजियांग से मंगलवार को रवाना हुआ है।

चीन वैश्विक मंच पर अपनी पैठ बनाने के लिए वहां अपना बेस कैंप बना रहा है। हालांकि चीन ऐसा करने वाले पहला देश नहीं है। इससे पहले अमेरिका, फ्रांस, जापान और इटली भी लहां कई छोटे सैनिक ठिकाने बना चुके हैं। अमेरिकी सेना के तो करीब 4000 जवान वहां बेस कैंप में रहते हैं।

इन सभी देशों की सेना क्षेत्र के अलग-अलग देशों में मानवीय सहायता के लिए आने वाले जहाजों के रास्ते को सुरक्षित करने में मदद करती है और समुद्री डाकुओं से सुरक्षा प्रदान करती है।

हालांकि चीन इस सैन्य बेस को हमेशा लॉजिस्टिक बेस बताता रहा है और दावा करता है कि सोमालिया और यमन में मानवीय मदद और शांति के काम में लगे नौसैनिकों की मदद के लिए बेस बना रहा है लेकिन ये चीन के सामरिक रणनीति का हिस्सा रहा है।

ये भी पढ़ें: सजायाफ्ता MLA और MP के आजीवन चुनाव लड़ने की पाबंदी पर रुख साफ करे EC: SC

जिबूती को दुनिया के सबसे व्यस्तम ट्रेड रूटों में से एक माना जाता है। यहां ना तो प्राकृतिक संसाधन है और ना ही रोजगार है फिर भी ये वैश्विक मंच पर काफी महत्व रखता है। इस इलाके में सोमिलियाई डाकू और अस शबाब के आतंकवादियों का बेहद प्रभाव माना जाता है।

चीन के इस कदम से वैश्विक चिंता उभर रही है। माना जा रहा है कि अमेरिका और भारत की गहरी दोस्ती को देखते हुए चीन इस इलाके में दूसरे देशों की सेना से गठजोड़ भी कर सकता है जो भारत के लिए खतरा बन सकता है। अफ्रीकी देशों में चीन ने भारी निवेश कर रखा है।

ये भी पढ़ें: तेजस्वी यादव का दावा- महागठबंधन नहीं टूटेगा, मेरे खिलाफ शाह और पीएम मोदी कर रहे हैं साजिश

RELATED TAG: Indo-china Relation, Djibouti, Chinese Army,

देश, दुनिया की हर बड़ी ख़बर अब आपके मोबाइल पर, डाउनलोड करें न्यूज़ स्टेट एप IOS ओर Android यूज़र्स इस लिंक पर क्लिक करें।

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें

न्यूज़ फीचर

मुख्य ख़बरे

वीडियो

फोटो