Breaking
  • IPL 2018 FINAL: सनराइजर्स हैदराबाद ने चेन्नई सुपर किंग्स को दिया 179 का लक्ष्य
  • चेन्नई सुपर किंग्स के कप्तान एमएस धोनी ने जीता टॉस, पहले फील्डिंग का फैसला किया
  • मुंबई: गोरेगांव (पश्चिम) एसवी रोड पर टेक्निक प्लस वन की बिल्डिंग में आग लगी
  • केरल: निपाह वायरस के कारण एक अन्य की मौत, मरने वालों की संख्या 14 हुई
  • ओमान चांडी को आंध्र प्रदेश का कांग्रेस प्रभारी नियुक्त किया गया, दिग्विजय सिंह की जगह लेंगे
  • पीएम मोदी 44वीं बार करेंगे मन की बात, छात्रों को दिखाएंगे रास्ता पढ़ें पूरी खबर -Read More »
  • पीएम मोदी दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेसवे पर करेंगे रोड शो, सोलर पावर से लैस हाईवे का करेंगे उद्घाटन -Read More »

अयोध्या राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद विवाद में रोजाना सुनवाई होगी या नहीं आज SC करेगा तय

  |   Updated On : March 14, 2018 09:12 AM
सुप्रीम कोर्ट (फाइल फोटो)

सुप्रीम कोर्ट (फाइल फोटो)

नई दिल्ली:  

अयोध्या विवाद को लेकर आज (बुधवार) से सुप्रीम कोर्ट में रोज़ाना सुनवाई शुरू हो सकती है।

इससे पहले कोर्ट ने काग़जी कार्रवाई और अनुवाद का काम पूरा करने को कहा था, ऐसे में अगर आज काग़जी कार्रवाई पूरी हो गई होगी और सभी पक्षकार सुनवाई के लिए तैयार होते है तो कोर्ट सुनवाई की विस्तृत रूपरेखा तय करेगा।

सुप्रीम कोर्ट पहले ही साफ़ कर चुका है कि इस मामले में सुनवाई आस्था के हिसाब से नहीं बल्कि ज़मीनी विवाद के तौर पर होगी।

बता दें कि सुप्रीम कोर्ट में इलाहाबाद हाइकोर्ट के फ़ैसले के ख़िलाफ़ 13 याचिका दायर की गई थी। इस मामले से जुड़ी सभी अपील पर कोर्ट एक ही साथ सुनवाई करेगा, कोर्ट में पहले मुख्य पक्षकारो को जिरह का मौका मिलेगा।

इलाहाबाद हाईकोर्ट ने 30 सितम्बर 2010 को इस मामले में फ़ैसला सुनाते हुए विवादित स्थल को विवाद के तीनों पक्षकार सुन्नी वक्फ बोर्ड, निर्मोही अखाड़ा और भगवान राम लला के बीच बांटने का आदेश दिया था।

इससे पहले सुप्रीम कोर्ट ने अयोध्या राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद विवाद को न्यायिक तरीके से सुलझाने के बजाय मसले का शांतिपूर्ण समाधान निकालने को कहा था लेकिन अब तक कोई सकारात्मक परिणाम सामने नहीं आया है।

और पढ़ें- सोनिया के 'डिनर डिप्लोमेसी' में बोले तेजस्वी यादव- तानाशाह सरकार को उखाड़कर फेंकना है

गौरतलब है कि आर्ट ऑफ लिविंग के संस्थापक श्री श्री रविशंकर ने इस बारे में पहल करते हुए मौलाना धर्मगुरुओं से भी मुलाक़ात की थी। 

श्री श्री रविशंकर ने ऑल इंडिया पर्सनल मुस्लिम लॉ बोर्ड (AIMPLB) के पूर्व सदस्य मौलाना सलमान नदवी से कई दौर की बातचीत की थी लेकिन आगे चलकर उन्हें AIMPLB से बर्खास्त कर दिया गया।

नदवी ने श्री श्री से बेंगलुरू में मुलाकात की थी और मस्जिद को विवादित स्थल से दूर कहीं और बनाने की बात कही थी। इससे बोर्ड के सदस्य नाराज थे। बोर्ड को अदालत के फैसले का इंतजार है।

वहीं बोर्ड की नाराज़गी के बाद मौलाना सलमान नदवी ने अयोध्या विवाद से ख़ुद को अलग कर लिया और कहा कि वह कोर्ट के फ़ैसले का इंतज़ार करेंगे।

और पढ़ें- मौलाना सलमान नदवी ने अयोध्या विवाद से खुद को किया अलग, कहा- कोर्ट के फैसले का इंतज़ार

RELATED TAG: Supreme Court, Ram Janmabhoomi Case, Ayodhya Case,

देश, दुनिया की हर बड़ी ख़बर अब आपके मोबाइल पर, डाउनलोड करें न्यूज़ स्टेट एप IOS ओर Android यूज़र्स इस लिंक पर क्लिक करें।

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें

न्यूज़ फीचर

मुख्य ख़बरे

वीडियो

फोटो