लड़ाकू विमानों की कमी पर बोले वायुसेना प्रमुख बीएस धनोआ, यह सात खिलाड़ियों के साथ क्रिकेट खेलने जैसा है

By   |  Updated On : June 19, 2017 10:15 AM
बीएस धनोआ (फाइल फोटो)

बीएस धनोआ (फाइल फोटो)

ख़ास बातें
  •  भारत को चीन और पाकिस्तान के मोर्च पर 42 लड़ाकू विमानों के बेड़े की जरूरत, फिलहाल केवल 32
  •  धनोआ ने कहा, पाकिस्तान के खिलाफ किसी भी समय हवाई ताकत के लिए वायु सेना तैयार

नई दिल्ली:  

भारतीय वायुसेना (IAF) में लड़ाकू विमानों की कमी और दो मोर्चों पर चुनौतियों का जिक्र करते हुए वायुसेना अध्यक्ष बीएस धनोआ ने कहा है कि यह उस क्रिकेट टीम की तरह है जो 11 की जगह सात खिलाड़ियों के साथ मैदान पर है।

वायुसेना अध्यक्ष धनोआ ने साथ ही कहा कि भारतीय वायुसेना किसी भी आतंकी घटना के बाद पाकिस्तान के खिलाफ हवाई ताकत इस्तेमाल करने में सक्षम है लेकिन इस विकल्प पर विचार सरकार को करना है।

अंग्रेजी अखबार इंडियन एक्सप्रेस के साथ इंटरव्यू में धनोआ ने सुनिश्चित किया कि वायुसेना के पास पूरी क्षमता भी है और वह माओवादियों के खिलाफ कार्रवाई के लिए पूरी तरह तैयार भी है। लेकिन यह सब कुछ सरकार को तय करना है। हालांकि, उन्होंने भारतीय क्षेत्र में वायुसेना के हवाई हमले की किसी संभावना पर विचार से इंकार किया।

धनोआ ने कहा कि दो मोर्चों पर दबदबे के लिए भारतीय वायुसेना में कम से कम 42 लड़ाकू विमानों का बेड़ा होना चाहिए। वायुसेना के पास फिलहाल केवल 32 बेड़े ही हैं और यह दो मोर्चों चीन और पाकिस्तान पर चुनौती का सामना कर रही है।

यह भी पढ़ें: दार्जिलिंग हिंसा: बंगाल सरकार और GJM के बीच गतिरोध जारी, हड़ताल का आठवां दिन

धनोआ के मुताबिक, 'यह संख्या कुछ ऐसी ही है कि कोई टीम 11 के स्थान पर सात खलाड़ियों के साथ क्रिकेट खेल रही है। हम चुनौतीपूर्ण परिस्थिति में काम कर रहे हैं, तमाम उपायों पर विचार कर रहे हैं।'

यह पूछे जाने पर कि क्या वायुसेना ने सरकार के सामने पाक अधिकृत कश्मीर में किसी हवाई सर्जिकल स्ट्राइक का विकल्प सुझाया है, वायुसेना अध्यक्ष ने कहा- 'वायुसेना हर परिस्थिति के लिए तैयार है लेकिन इन विकल्पों पर सरकार को विचार करना है।'

यह भी पढ़ें: 1 जुलाई से ही लागू होगी GST, लेकिन रिटर्न दाखिल करने में 2 माह की छूट

माओवादियों के खिलाफ एयर स्ट्राइक की संभावना पर धनोआ ने कहा, 'हमारा रोल निगरानी रखने और इंटेलिजेंट इनपुट देने तक सीमित है। हम ऐसे कामों के लिए आरपीए ( रिमोट पायलेटेड एयरक्राफ्ट) सहित हेलीकॉप्टर का बहुत इस्तेमाल करते हैं। जहां तक आतंकी घटनाओं की आशंका है तो हम अपने क्षेत्र पर एयर अटैक की संभावना पर विचार नहीं करते हैं। लेकिन हम में क्षमता है और अगर सरकार हामी भरती है तो उसके लिए तैयार भी हैं।'

यह भी पढ़ें: 'जब हैरी मेट सेजल' का मिनी ट्रेलर रिलीज, शाहरुख खान ने कहा- मैं लड़कियों को गंदी नजर से देखता हूं

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें

न्यूज़ फीचर

मुख्य ख़बरे