Breaking
  • वायुसेना के लड़ाकू विमानों का लखनऊ-आगरा एक्सप्रेसवे पर अभ्यास शुरू -Read More »
  • खरीददारी के माहौल से चढ़े शेयर बाज़ार, सेंसेक्स करीब 150 अंक उछला, निफ्टी 10,220 स्तर पार -Read More »
  • फडणवीस का शिवसेना पर कटाक्ष, कहा- स्वार्थी दोस्त की तुलना में उदार विपक्ष अच्छा (पढ़ें ख़बर) -Read More »
  • सुशील मोदी के ट्वीट पर भड़के तेजस्वी, निजी हमला कर दी चुनौती (पढ़ें पूरी ख़बर) -Read More »

आरुषि-हेमराज हत्याकांड: सोमवार तक जेल में ही रहेंगे तलवार दंपति

By   |  Updated On : October 13, 2017 11:54 PM
राजेश तलवार और नूपुर तलवार (फाइल फोटो-PTI)

राजेश तलवार और नूपुर तलवार (फाइल फोटो-PTI)

ख़ास बातें
  •  सोमवार तक जेल में ही रहेंगे राजेश और नूपुर तलवार
  •  2008 में आरुषि और हेमराज की हुई थी हत्या, इस मामले में बरी हुए हैं तलवार दंपति

नई दिल्ली:  

नोएडा के बहुचर्चित आरुषि-हेमराज हत्याकांड के मामले में बरी डॉ. राजेश तलवार और नूपुर तलवार को सोमवार तक जेल में ही रहना होगा। तलवार दंपति के वकील ने न्यूज एजेंसी एएनआई से बात करते हुए कहा कि राजेश और नूपुर तलवार डासना जेल से आज (शुक्रवार) रिहा नहीं होंगे।

तलवार के वकील ने कहा, 'हमें इलाहाबाद हाईकोर्ट के फैसले की सर्टीफाइड कॉपी के लिए आवेदन किया है, सर्टीफाइड कॉपी को लेकर गाजियाबाद ट्रायल कोर्ट के जज के पास जायेगे। वहां से रिलीज ऑर्डर जारी लेकर डासना जेल जाना होगा। सोमवार तक ही तलवार दम्पति की रिहाई हो सकेगी।'

आपको बता दें कि गुरुवार को निचली अदालत के फैसले को पलटते हुए इलाहाबाद हाईकोर्ट ने सूबतों के आभाव में डॉ. राजेश तलवार और नूपुर तलवार को बरी कर दिया।

जस्टिस बी.के. नारायण और जस्टिस अरविंद कुमार मिश्र की खंडपीठ ने जांच एजेंसी की जांच में कई खामियां पाईं और राजेश तलवार और नूपुर तलवार को बरी कर दिया।

न्यायालय ने अपनी टिप्पणी में कहा, 'जांच के दौरान सीबीआई तलवार दंपति के खिलाफ ऐसे सबूत पेश नहीं कर पाई, जिसमें उन्हें सीधे दोषी माना जा सके। ऐसे मामलों में तो सर्वोच्च न्यायालय भी बिना पर्याप्त तथ्यों और सबूतों के किसी को इतनी कठोर सजा नहीं सुनाता।'

अदालत ने आगे कहा, 'माता-पिता को सिर्फ इसलिए दोषी नहीं ठहराया जा सकता, क्योंकि वह घटना की रात घर में मौजूद थे। उन्हें इस मामले में संदेह का लाभ मिलना चाहिए। उन्हें इस मामले में बरी किया जाता है।'

गौरतलब है कि इस मामले में आरोपी दंपति डॉ. राजेश तलवार और नूपुर तलवार ने सीबीआई अदालत गाजियाबाद की ओर से आजीवन कारावास की सजा के खिलाफ इलाहाबाद उच्च न्यायालय में अपील दाखिल की थी।

डॉ. तलवार की नाबालिग पुत्री आरुषि की हत्या वर्ष 2008 में 15 मई की रात नोएडा के सेक्टर-25 के जलवायु विहार स्थित घर में ही कर दी गई थी। अगले दिन घर की छत पर उनके घरेलू नौकर हेमराज (नेपाल का रहनेवाला) का शव भी पाया गया था।

और पढ़ें: सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश पर अब संवैधानिक पीठ करेगा फैसला

इस हत्याकांड में नोएडा पुलिस ने 23 मई को डॉ. राजेश तलवार को बेटी आरुषि और नौकर हेमराज की हत्या के आरोप में गिरफ्तार कर लिया था। 1 जून को यह मामला सीबीआई को सौंपा गया था।

सीबीआई की जांच के आधार पर गाजियाबाद सीबीआई कोर्ट ने 26 नवंबर, 2013 को हत्या और सबूत मिटाने का दोषी मानते हुए तलवार दंपति को उम्रकैद की सजा सुनाई थी। तब से तलवार दंपति जेल में बंद हैं।

नौ साल बाद भी सवाल बरकरार है कि चौकीदार की निगरानी और अंदर से बंद फ्लैट में आरुषि और हेमराज की हत्या किसने की? और यह भी कि जब सीबीआई की जांच में कई खामियां पाई जाती हैं, तब भरोसा किस एजेंसी पर क्या जाए?

और पढ़ें: रियल एस्टेट को GST में लाना साबित होगा त्रासदी

RELATED TAG: Aarushi Murder Case, Rajesh Talwar, Nupur Talwar, Dasna Jail,

देश, दुनिया की हर बड़ी ख़बर अब आपके मोबाइल पर, डाउनलोड करें न्यूज़ स्टेट एप IOS ओर Android यूज़र्स इस लिंक पर क्लिक करें।

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें

न्यूज़ फीचर

मुख्य ख़बरे

वीडियो

फोटो