मोदी सरकार के तीन साल: सुषमा ने पाक को सुनाई खरी-खरी, कहा- बातचीत में किसी और का हस्तक्षेप मंजूर नहीं

दूसरे देशों खासकर सउदी अरब और अबु धाबी के साथ रिश्तों पर सुषमा ने कहा कि दोनों देशों के साथ भारत के संबंध सुधरे हैं, जो आमतौर पर पाकिस्तान के ज्यादा करीबी माने जाते हैं।

  |   Updated On : June 05, 2017 05:11 PM

ख़ास बातें
  •  मोदी सरकार के तीन साल के मौके पर सुषमा स्वराज ने गिनाई सरकार की उपलब्धि
  •  सुषमा के मुताबिक, पिछले तीन साल में विदेश में फंसे 80,000 भारतीयों को बचाया गया
  •  सुषमा ने पाकिस्तान पर भी रूख किया साफ- कहा- मध्यस्थता मंजूर नहीं, चीन से भी कर रहे हैं बात

नई दिल्ली :  

नरेंद्र मोदी सरकार के तीन साल पूरे होने के मौके पर सोमवार को आयोजित एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने कहा कि पाकिस्तान के साथ बातचीत पर सरकार को किसी किसी तीसरे पार्टी की मध्यस्थता स्वीकार नहीं है। सुषमा ने साफ किया- 'पाकिस्तान पर हमारी नीतियां साफ हैं, 1) हम सभी मुद्दों का हल बातचीत से चाहते हैं। 2) किसी और का हस्तक्षेप मंजूर नहीं 3) आतंकवाद और बातचीत साथ-साथ नहीं हो सकती।'

सरकार की उपलब्धियों को गिनाते हुए सुषमा ने कहा कि पिछले तीन साल में विदेश में फंसे 80,000 से ज्यादा भारतीयों को बचाया गया है।

साथ ही स्वराज ने कहा कि सरकार ने पासपोर्ट की सेवाओं में भी सुधार किया है। सुषमा ने कहा, 'हमने पासपोर्ट की सेवाओं में सुधार भी किया और विस्तार भी किया। पिछले तीन साल में एफडीआई में 37.5 फीसदी की बढ़ोत्तरी हुई है।'

दूसरे देशों खासकर सउदी अरब और अबु धाबी के साथ रिश्तों पर सुषमा ने कहा कि दोनों देशों के साथ भारत के संबंध सुधरे हैं, जो आमतौर पर पाकिस्तान के ज्यादा करीबी माने जाते हैं। साथ ही सुषमा ने कहा कि सउदी अरब और ईरान के बीच दूरी बढ़ी है लेकिन भारत के दोनों के साथ रिश्ते और बेहतर हुए हैं।

यह भी पढ़ें: NSG में चीन का रोड़ा, कहा अब और जटिल हो गया है भारत की मेंबरशिप का मामला

मोदी सरकार के तीन साल के मौके पर सुषमा के प्रेस कॉन्फ्रेंस की खास बातें-

# पाकिस्तान पर हमारी नीतियां साफ हैं, 1) हम सभी मुद्दों का हल बातचीत से चाहते हैं। 2) किसी और का हस्तक्षेप मंजूर नहीं 3) आतंकवाद और बातचीत साथ-साथ नहीं हो सकती।

# मैं प्रधानमंत्री का धन्यवाद करती हूं। उनकी कोशिशों के कारण दूसरे देश आज भारत के साथ जरूरत पड़ने पर खड़े रहने के इच्छुक हैं।

# पूरी दुनिया में भारत के संबंध दूसरे देशों से सुधरे हैं। हमारे करीब हर देश से आज ज्यादा करीबी संबंध हैं, जितने कि अब से कुछ साल पहले होते थे।

# आज देश से बाहर बसे भारतीय भी गर्व महसूस करते हैं। उनका आत्मविश्वास काफी उंचा है।

यह भी पढ़ें: सुषमा की डोनल्ड ट्रंप को दो टूक, कहा- किसी लालच या दबाव में समझौते से नहीं जुड़े

# आज जो भारतीय बाहरी देशों में यात्रा करते हैं, उन्हें पूरा भरोसा है कि उन देशों में मौजूद भारतीय उच्चायोग जरूरत पड़ने पर या फोन कॉल पर उनकी मदद करेगा।

# ट्रंप के शासन काल में भारत-अमेरिका रिश्ता उसी तेजी से आगे बढ़ रहा है जैसा ओबामा के शासन में था।

# पिछले तीन साल में हमने विदेश में फंसे 80,000 भारतीयों को बचाया।

# हमारे इजरायल और फिलिस्तीन दोनों देशों से अच्छे संबंध हैं। सउदी अरब और ईरान में दूरियां बढ़ी हैं लेकिन हमारे रिश्ते दोनों देशों से अच्छे हैं।

# CPEC पर चीन से बात कर रहे हैं। कश्मीर भारत का अभिन्न अंग हैं। इस पर समझौते का कोई सवाल नहीं है।

# हवाई क्षेत्र के उल्लंघन का मामला हम चीन के सामने उठाएंगे

NSG कहता है कि नॉन एटीपी कंट्री को शामिल करने का विरोध है तो हमने कहा कि फ्रांस भी नॉन एनपीटी कंट्री हूं उसे शामिल किया गया। हम चीन से एनएसजी के मसले पर बात कर रहे हैं, और वो देश भी बात कर रहे है जो हमारे और चीन के मित्र देश है जैसे रूस।

यह भी पढ़ें: सउदी, मिश्र समेत चार देशों ने कतर से तोड़े रिश्ते, एतिहाद और एमिरेट्स ने बंद की उड़ान सेवाएं

First Published: Monday, June 05, 2017 03:46 PM

RELATED TAG: Narendra Modi, Sushma Swaraj,

देश, दुनिया की हर बड़ी ख़बर अब आपके मोबाइल पर, डाउनलोड करें न्यूज़ स्टेट एप IOS और Android यूज़र्स इस लिंक पर क्लिक करें।

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें

न्यूज़ फीचर

मुख्य ख़बरे

वीडियो

फोटो