हिमाचल चुनाव: वीरभद्र ने हिमाचल में कांग्रेस की हार स्वीकारी

  |   Updated On : December 18, 2017 06:21 PM

नई दिल्ली:  

हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह ने सोमवार को राज्य विधानसभा चुनाव में कांग्रेस पार्टी की हार स्वीकार कर ली। वीरभद्र ने यहां संवाददाताओं से कहा, 'मैं अपनी पार्टी की हार की जिम्मेदारी लेता हूं।'

उन्होंने जनादेश को स्पष्ट रूप से स्वीकार करते हुए कहा, 'किसी को विजयी बनान जनता का निर्णय है। यह उनका अधिकार है।' छह बार मुख्यमंत्री रहे वीरभद्र ने प्रचार अभियान में कमी के लिए पार्टी के केंद्रीय नेतृत्व को दोषी ठहराया। उन्होंने 6,051 वोटों के अंतर से अर्की सीट पर जीत हासिल की।

उन्होंने कहा, 'जो भी त्रुटि रही हो, मैंने अपने संसाधनों के भीतर राज्य में अकेले प्रचार किया और अपना सर्वश्रेष्ठ दिया।' वीरभद्र ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी पर दोष लगाने से इनकार कर दिया और कहा, 'चुनाव मेरे नेतृत्व में हुआ और मैं हार स्वीकार करता हूं।'

उनके पुत्र विक्रमादित्य सिंह ने शिमला (ग्रामीण) सीट से विधानसभा चुनाव में अपनी पहली जीत हासिल की है। कांग्रेस के कैबिनेट मंत्री सुधीर शर्मा, ठाकुर सिंह और प्रकाश चौधरी को भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के हाथों हार का सामना करना पड़ा है।

यह भी पढ़ें: टेनिस खिलाड़ी सानिया मिर्जा ने कहा- विराट-अनुष्का को मीडिया का सामना करना ही होगा

भाजपा 68 में से 36 सीटों पर बढ़त बनाकर सत्ता में आती दिख रही है। पार्टी ने 21 सीटों पर जीत दर्ज कर ली है। मतगणना अभी भी जारी है। हालांकि, भाजपा के राज्य अध्यक्ष सतपाल सिंह सत्ती को अपमानजनक हार का सामना करना पड़ा है, जबकि पार्टी के मुख्यमंत्री उम्मीदवार प्रेम कुमार धूमल भी बहुत पीछे चल रहे हैं।

सत्तारूढ़ कांग्रेस के खाते में अभी 10 सीटें आई हैं।

कारोबार से जुड़ी ख़बरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें  

RELATED TAG: Virbhadra Singh,

देश, दुनिया की हर बड़ी ख़बर अब आपके मोबाइल पर, डाउनलोड करें न्यूज़ स्टेट एप IOS ओर Android यूज़र्स इस लिंक पर क्लिक करें।

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें

न्यूज़ फीचर

मुख्य ख़बरे

वीडियो

फोटो