JNU एकेडिमक काउंसिल ने 'इस्लामिक आतंकवाद' कोर्स का प्रस्ताव पारित किया, छात्र संगठन ने किया विरोध

शुक्रवार को जेएनयू अकादमिक परिषद की 145वीं बैठक में राष्ट्रीय सुरक्षा अध्ययन केंद्र की स्थापना का प्रस्ताव पारित किया जिसमें 'इस्लामिक आतंकवाद' कोर्स भी शामिल है।

  |   Updated On : May 19, 2018 01:12 PM
जवाहरलाल नेहरु विश्वविद्यालय, दिल्ली (फाइल फोटो)

जवाहरलाल नेहरु विश्वविद्यालय, दिल्ली (फाइल फोटो)

ख़ास बातें
  •  JNU में राष्ट्रीय सुरक्षा अध्ययन केंद्र की स्थापना का प्रस्ताव पारित
  •  राष्ट्रीय सुरक्षा अध्ययन केंद्र में ही 'इस्लामिक आतंकवाद' कोर्स भी शामिल
  •  जेएनयू छात्र संघ ने प्रशासन के इस प्रस्ताव को RSS-BJP का एजेंडा बताया

नई दिल्ली:  

जवाहरलाल नेहरु विश्वविद्यालय (जेएनयू) के अकादमिक परिषद ने शुक्रवार को 'इस्लामिक आतंकवाद' नाम के कोर्स का प्रस्ताव 'पारित' किया।

शुक्रवार को जेएनयू अकादमिक परिषद की 145वीं बैठक में राष्ट्रीय सुरक्षा अध्ययन केंद्र की स्थापना का प्रस्ताव पारित किया जिसमें 'इस्लामिक आतंकवाद' कोर्स भी शामिल है।

जेएनयू शिक्षक संघ के एक सदस्य सुधीर कुमार सुथर ने कहा कि 'इस्लामिक आतंकवाद' कोर्स को लेकर कई सदस्यों ने आपत्ति जताई और कहा कि यह अपने आप में सांप्रदायिक है।

सुथर ने कहा, 'कई सदस्यों ने 'इस्लामिक आतंकवाद' विषय का विरोध किया और कहा कि आतंकवाद को किसी धर्म के साथ नहीं जोड़ा जाना चाहिए। उन्होंने सुझाव दिया कि इसे 'धार्मिक आतंकवाद' कहा जाय।'

सुथर ने कहा कि प्रस्ताव को पारित कर दिया गया है और आपत्तियों पर भी विचार किया जाएगा।

मीटिंग में शामिल एक अन्य सदस्य ने कहा, 'कई सदस्यों ने समर्थन देकर मीटिंग में इस मुद्दे पर डिबेट किया और कहा कि यह वैश्विक स्वीकार्य प्रक्रिया है और आतंक के अधिकतर मामले धर्म से जुड़े हुए हैं।'

इस प्रस्ताव का ड्राफ्ट अफ्रीकन अध्ययन केंद्र के प्रोफेसर अजय कुमार दुबे की अध्यक्षता में चार सदस्यों की कमेटी ने की थी।

जेएनयू छात्र संघ ने प्रशासन के इस प्रस्ताव का विरोध किया है।

जेएनयू छात्र संघ की अध्यक्ष गीता कुमारी ने कहा, 'जेएनयू वीसी ने राष्ट्रीय सुरक्षा अध्ययन केंद्र के अंदर 'इस्लामिक आतंकवाद' विषय का आदेश दिया जो कि बहुत ही अचंभित और समस्या पैदा करने वाला है।'

गीता कुमारी ने कहा, 'इस्लामोफोबिया का यह विकृत प्रोपेगैंडा एकेडेमिक कोर्स के नाम पर लाना गहरी समस्या पैदा करने जैसा है। सामान्य तौर पर आतंकवाद को पढ़ाने के बदले ऐसा लगता है कि इन विषयों के जरिये आरएसएस-बीजेपी चुनावी एजेंडा तैयार कर रही है।'

और पढ़ें: गडकरी की ठेकेदारों को चेतावनी, कहा- बुलडोजर के नीचे डाल दूंगा

First Published: Saturday, May 19, 2018 12:57 PM

RELATED TAG: Jnu, Jawaharlal Nehru University, Islamic Terrorism, Jnu Academic Council, Jnusu,

देश, दुनिया की हर बड़ी ख़बर अब आपके मोबाइल पर, डाउनलोड करें न्यूज़ स्टेट एप IOS और Android यूज़र्स इस लिंक पर क्लिक करें।

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें

न्यूज़ फीचर

मुख्य ख़बरे

वीडियो

फोटो