Breaking
  • टेरर फंडिग मामले में हाफिज सईद और सयैद सलाहुद्दीन के खिलाफ NIA की चार्जशीट
  • त्रिपुरा में 18 फरवरी, मेघायल-नागालैंड में 27 फरवरी को चुनाव, मतगणना 3 मार्च को
  • INX मीडिया केस में ईडी के समक्ष पेश हुए कार्ति चिदंबरम
  • 'पद्मावत' पर राज्यों के बैन लगाने के नोटिफिकेशन पर SC की अंतरिम रोक
  • भारत ने परमाणु हथियार से लैस अग्नि-5 का सफल परीक्षण किया
  • हरियाणा: 20 साल की लड़की के साथ गैंगरेप, दो आरोपियों के खिलाफ केस दर्ज
  • शेयर बाज़ार में गुरुवार को भी छाई तेज़ी, सेंसेक्स 350 अंक ऊपर निफ्टी 10800 स्तर चढ़ा
  • बजट से पहले आज GST काउंसिल की बैठक में किसानों को मिल सकती है बड़ी राहत -Read More »
  • पीएम नेतन्याहू 26/11 हमले में मारे गए लोगों को देंगे श्रद्धांजलि -Read More »
  • त्रिपुरा, मेघालय, नागालैंड चुनाव: आयोग आज करेगा चुनाव शेड्यूल की घोषणा
  • सुप्रीम कोर्ट में आधार मामले में आज दूसरे दिन होगी सुनवाई
  • दिल्ली में आज होगी GST काउंसिल की 25वीं बैठक, वित्तमंत्री अरुण जेटली करेंगे अध्यक्षता
  • दिल्ली-एनसीआर में कोहरे का कहर, कई उड़ानें प्रभावित, ट्रेनें कैंसिल

शोध के अनुसार, आंख के रोगों का पता लगाएगा स्मार्टफोन

  |  Updated On : January 10, 2017 11:26 PM

नई दिल्ली:  

इजरायली शोधकर्ताओं ने स्मार्टफोन आधारित एक प्रणाली 'ऑब्सट्रक्टिव स्लीप एपनिया' (ओएसए) विकसित की है। इससे मरीज के सोने और जागने की गतिविधि का विश्लेषण किया जा सकता है। वर्तमान में मरीजों का निदान पॉलीसोम्नोग्राफी (पीएसजी) के जरिए पूरी रात दिमाग की तरंगों, खून में ऑक्सीजन के स्तर, दिल की धड़कन, श्वसन और आंख और पांव की गतिविधि को रिकॉर्ड कर किया जाता है।

नई प्रणाली में संपर्क सेंसर के इस्तेमाल की जरूरत नहीं होती। इसे स्मार्टफोन या दूसरे उपकरण में लगाया जा सकता है और इसमें परिवेश माइक्रोफोन लगा रहता है।

नेगेव के बेन-गुरियन विश्वविद्यालय (बीजीयू) की टीम का कहना है कि यह उपयोगकर्ता के जगे होने पर बातों और पूरी रात के श्वसन की प्रक्रिया दोनों को रिकॉर्ड और मूल्यांकन का कार्य करता है। इस नई प्रौद्योगिकी के पीएसजी की तुलना में कम खर्चीली व सरल है।

बीयूजी के बायोमेडिकल सिग्नल प्रोसेसिंग रिसर्च लैब के प्रमुख डॉ. यानिव जिगेल ने कहा, 'हमने ओएसए और नींद से जुड़ी दिक्कतों के सहजता से निदान के लिए एक प्रौद्योगिकी विकसित की है।'

इसमें शोधकर्ताओं ने 350 से ज्यादा विषयों पर बोली और सांस लेने में ध्वनि विश्लेषण प्रणालियों का परीक्षण किया है। इसमें प्रयोगशाला के पीएसजी और घर में रिकॉर्ड की गई गतिविधियों को शामिल किया गया है।

तरासिउक ने कहा,'हम इस गैर संपर्क नींद ट्रैकिंग प्रणाली को लेकर उत्साहित हैं, जिसे मरीज की निगरानी के लिए उसे पहनाए जाने की की जरूरत नहीं है।'

यह प्रयोग सीपीएपी (निरंतर सकारात्मक वायुमार्ग दबाव) मशीन के उपयोगकर्ताओं के लिए महत्वपूर्ण है, इससे स्लीप एपनिया उपचार के प्रभाव को जांचने में मदद मिलेगी।

RELATED TAG: Smartphone App Can Reveal Eye Disease,

देश, दुनिया की हर बड़ी ख़बर अब आपके मोबाइल पर, डाउनलोड करें न्यूज़ स्टेट एप IOS ओर Android यूज़र्स इस लिंक पर क्लिक करें।

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें

न्यूज़ फीचर

मुख्य ख़बरे

वीडियो

फोटो