Breaking
  • जुवेनाइल जस्टिस बोर्ड ने नाबालिग आरोपी की जमानत अर्जी को खारिज किया
  • कांग्रेस को झटका, गुजरात चुनाव की काउंटिंग में SC का दखल से इंकार
  • राज्यसभा दिन भर के लिए स्थगित
  • क्रिकेटर अजिंक्य रहाणे के पिता हिरासत में, कार से महिला को कुचलने का लगा आरोप
  • तीन तलाक: सूत्रों के हवाले से खबर, मोदी कैबिनेट ने बिल पर लगाई मुहर
  • माइक्रोवेव ओवन इंपोर्ट पर कस्टम ड्यूटी 10 प्रतिशत से बढ़कर 20 फीसदी हुई
  • हिमाचल में कांग्रेस का सफाया, गुजरात में फिर BJP सरकार: एग्जिट पोल -Read More »
  • इन मुद्दों पर सरकार को घेरेगा विपक्ष, आक्रामक रहेगी कांग्रेस

सस्ता नहीं होगा आपका लोन, RBI ने 6 फीसदी रेपो रेट दर को रखा बरकरार

  |  Updated On : December 06, 2017 05:49 PM
भारतीय रिजर्व बैंक (फाइल फोटो)

भारतीय रिजर्व बैंक (फाइल फोटो)

ख़ास बातें
  •  रेपो रेट को 6 फीसदी और रिवर्स रेपो रेट को 5.75 फीसदी पर बरकरार रखा है
  •  अगली दो तिमाही में मुद्रास्फीति अनुमान 4.2- 4.6 से बढ़ाकर 4.3- 4.7 रखा गया है

नई दिल्ली:  

भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने बुधवार को जारी वित्त वर्ष 2017-18 की अपनी पांचवीं द्विमासिक मौद्रिक समीक्षा में प्रमुख ब्याज दरों में कोई बदलाव नहीं किया है। इसका मतलब यह हुआ कि अगर आपने बैंक से होम लोन या फिर कोई और लोन लिया है तो अभी आपकी ईमाई कम होने की उम्मीद नहीं है।

आरबीआई गवर्नर उर्जित पटेल की अध्यक्षता वाली 6 सदस्यों की मौद्रिक नीति समिति (एमपीसी) ने रेपो रेट को 6 फीसदी और रिवर्स रेपो रेट को 5.75 फीसदी पर बरकरार रखा है।

इसके अलावा आरबीआई ने मार्जिनल स्टैंडिंग फैसिलिटी दर (एमएसएफ) को भी 6.25 फीसदी पर बरकरार रखा है।

कच्चे तेल और सब्जी की दामों में उछाल के कारण अगली दो तिमाही में मुद्रास्फीति अनुमान 4.2- 4.6 से बढ़ाकर 4.3- 4.7 रखा गया है।

आरबीआई ने जीवीए ग्रोथ का अनुमान 6.7 फासदी पर बरकरार रखा गया है।

एमपीसी समिति के 6 सदस्यों में 5 ने रेपो रेट में बदलाव नहीं करने का फैसला लिया था, वहीं रविंद्र ढोलकिया ने दरों में 0.25 फीसदी की कटौती करने का सुझाव दिया था।

आरबीआई ने वित्तवर्ष 2017-18 के लिए जीडीपी (सकल घरेलू उत्पाद) के वृद्धि दर अनुमान को 'जोखिम के साथ समान रूप से संतुलित' बताते हुए 6.7 फीसदी पर रखा है। 

क्या है रेपो रेट

बैंकों को भी अपने काम के लिए कर्ज लेना पड़ता है। ऐसे में सभी बैंक देश के केंद्रीय बैंक भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) से कर्ज लेते हैं। रिजर्व बैंक जिस दर से उनसे ब्याज लेता है उसे रेपो रेट कहते हैं। अगर बैंकों को सस्ते ब्याज पर पैसा मिलेगा तो वह लोगों को भी सस्ता लोन दे सकेगा जिसकी ब्याज दर कम होंगी।

क्या है रिवर्स रेपो रेट

जब बैंक के पास पैसा ज्यादा होता है तो वह रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया के पास अपना पैसा रख देता है। इसपर आरबीआई उन्हें ब्याज देता है। यानि जो ब्याज आरबीआई द्वारा दिया जाता है उसको रिवर्स रेपो रेट कहते हैं।

और पढ़ें: जेटली का कांग्रेस को जवाब, कहा- आंकड़े बताते हैं कि महंगाई में गिरावट आई है

RELATED TAG: Rbi, Rbi Monetary Policy, Repo Rate, Reverse Repo Rate, Urjit Patel, Reserve Bank Of India, Rbi Policy, Economy,

देश, दुनिया की हर बड़ी ख़बर अब आपके मोबाइल पर, डाउनलोड करें न्यूज़ स्टेट एप IOS ओर Android यूज़र्स इस लिंक पर क्लिक करें।

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें

न्यूज़ फीचर

मुख्य ख़बरे

वीडियो

फोटो