Breaking
  • कर्नाटक विधानसभा चुनाव: बीजेपी-कांग्रेस ने जारी की स्टार कैंपेनर्स की लिस्ट
  • कर्नाटक सीएम सिद्धारमैया दो जगह से लड़ेंगे चुनाव, बदामी से भी नामांकन दाखिल करेंगे
  • IPL 2018 DD vs RCB: आरसीबी ने टॉस जीता, पहले गेंदबाजी का फैसला
  • पॉक्सो एक्ट में संशोधन के बाद स्वाति मालीवाल ने कल अनशन तोड़ने का किया ऐलान
  • पश्चिम बंगाल: पंचायत चुनाव के लिए नई नामांकन तिथि घोषित करेगा चुनाव आयोग: सूत्र
  • IPL 2018: कोलकाता ने किंग्स इलेवन पंजाब को दिया 192 रनों का लक्ष्य
  • कर्नाटक विधानसभा चुनाव: AIADMK ने उतारे 3 उम्मीदवार
  • 2002 हिट एंड रन केस: मुंबई सेशन कोर्ट ने सलमान खान के खिलाफ जमानती वॉरंट को रद्द किया
  • POCSO एक्ट में संशोधन को कैबिनेट की मंजूरी, 12 साल के छोटे बच्चों से रेप पर होगी फांसी
  • दिल्ली पुलिस स्पेशल सेल ने बिटकॉइन रैकेट का किया पर्दाफाश, दो गिरफ्तार
  • चार दिवसीय यात्रा पर चीन और मंगोलिया जाएंगी विदेश मंत्री सुषमा स्वराज
  • आसाराम रेप केस: 25 अप्रैल को आएगा फैसला, 30 अप्रैल तक जोधपुर में 144 धारा होगी लागू

सिगरेट बनाने वाली कंपनियों को झटका, GST काउंसिल ने सेस में किया इजाफा

  |   Updated On : July 17, 2017 09:14 PM

ख़ास बातें
  •  जीएसटी परिषध की बैठक में सिगरेट पर लगने वाले सेस में बढ़ोतरी कर दी गई है
  •  65 मिमी तक लंबी सिगरेट पर लगने वाले सेस को बढ़ाकर 485 रुपये कर दिया है
  •  65 मिमी से लंबी सिगरेट पर लगने वाले सेस की दर को बढ़ाकर 792 रुपये कर दिया गया है

नई दिल्ली :  

गुड्स एंड सर्विस टैक्स (जीएसटी) लागू होने के बाद पहली बार हुई जीएसटी परिषद की बैठक में सिगरेट पर लगने वाले सेस में बढ़ोतरी कर दी गई है। सरकार के इस फैसले सिगरेट की खुदरा कीमतों में बढ़ोतरी नहीं होगी।

65 मिमी तक लंबी सिगरेट पर लगने वाले सेस को बढ़ाकर 485 रुपये कर दिया है। सेस की यह रकम प्रति 1,000 सिगरेट पर वसूली जाएंगी। वहीं 65 मिमी से लंबी सिगरेट पर लगने वाले सेस की दर को बढ़ाकर 792 रुपये कर दिया गया है। नई दरें सोमवार को आधी रात से लागू हो जाएंगी।

काउंसिल की बैठक में सिगरेट पर लगने वाले सेस को बढ़ाने का फैसला अतिरिक्त राजस्व की उगाही के मकसद से लिया गया है। सेस की बढ़ोतरी से सरकार की नजर अतिरिक्त 5 हजार करोड़ रुपये का राजस्व जुटाने पर है।

जीएसटी दर के लागू होने की वजह से मैन्युफैक्चरर्स को होने वाले उम्मीद से अधिक फायदे के देखते हुए सरकार ने सिगरेट पर लगने वाले सेस को बढ़ा दिया है।

सरकार ने सिगरेट पर लगने वाले जीसएटी की दर को 28 फीसदी और वैलोरम को 5 फीसदी की दर पर बरकरार रखा है। लेकिन फिक्स सेस की दर को 485 रुपये से बढ़ाकर 792 रुपये कर दिया गया है।

सेस में होने वाली बढ़ोतरी से सरकार को अतिरिक्त कर के तौर पर 5,000 करोड़ रुपये मिलेंगे जो अभी तक मैन्युफैक्चरर्स के खाते में जा रहे थे। जीएसटी काउंसिल ने सिगरेट के लिए 28 फीसदी की दर तय की थी।

सेस की दरों में बढ़ोतरी से हालांकि उपभोक्ताओं को ज्यादा कीमत का भुगतान नहीं करना चाहिए। बल्कि इस फैसले से मैन्युफैक्चर्स को होने वाले मुनाफे का बड़ा हिस्सा सरकार के खाते में जाएगा।

जीएसटी काउंसिल की अगली बैठक अगस्त महीने के पहले हफ्ते में होगी। 

जीएसटी को देश में एक जुलाई को लागू किया गया था। जीएसटी ने देश में पहले से मौजूद 16 अप्रत्यक्ष करों की जगह ली है।

जीएसटी और नोटबंदी मोदी सरकार का सबसे बड़ा घोटाला: ममता बनर्जी

RELATED TAG: Gst, Gst Council, Cess On Cigarettes, Arun Jaitley,

देश, दुनिया की हर बड़ी ख़बर अब आपके मोबाइल पर, डाउनलोड करें न्यूज़ स्टेट एप IOS ओर Android यूज़र्स इस लिंक पर क्लिक करें।

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें

न्यूज़ फीचर

मुख्य ख़बरे

वीडियो

फोटो