Breaking
  • कोलकाता के जवाहर लाल नेहरू रोड पर LIC बिल्डिंग में आग, दमकल की 10 गाड़ियां पहुंची
  • झारखंड में 'भूख' से मौत: केंद्र सरकार कराएगी जांच, UIDAI बोली- परिवार के पास था आधार कार्ड -Read More »
  • जम्मू-कश्मीर के गुरेज सेक्टर में पहुंचे पीएम मोदी, जवानों संग मनाएंगे दिवाली

श्रीनगर में जीएसटी परिषद की अहम बैठक, तय होगी भविष्य की रणनीति

By   |  Updated On : May 18, 2017 01:56 PM
अरुण जेटली, वित्त मंत्री (फाइल फोटो)

अरुण जेटली, वित्त मंत्री (फाइल फोटो)

नई दिल्ली:  

वित्त मंत्री अरुण जेटली की अध्यक्षता में वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) परिषद की 14वीं बैठक आज (गुरुवार) श्रीनगर में हो रही है। इस अहम बैठक में राज्यों और केंद्र शासित क्षेत्रों के वित्त मंत्री, वित्त सचिव और कर विभाग के अधिकारी शामिल हुए हैं। 

श्रीनगर में हो रही दो दिवसीय बैठक का आज पहला दिन है। जीएसटी परिषद की बैठक श्रीनगर के शेर-ए-कश्मीर अंतर्राष्ट्रीय कनवेंशन सेंटर में हो रही है। बैठक में यह भी निर्धारित किया जाएगा कि 1 जुलाई से देश में लागू होने वाले देश के सबसे बड़े कर सुधार जीसएटी के तह्त, नमक से लेकर आलीशान कार खरीदने तथा फोनकॉल से लेकर रेस्त्रां में खाना खाने पर किस दर से कर चुकाना होगा। 

श्रीनगर में जीएसटी परिषद की बैठक की शुरुआत में केंद्रीय मंत्री अनिल माधव दवे के निधन पर 1 मिनट का मौन भी रखा गया। वहीं इस बीच कश्मीर घाटी में हालिया प्रदर्शनों को देखते हुए बैठक के लिए सुरक्षा व्यवस्था बेहद कड़ी की गई है।

बैठक सुबह 10.30 बजे शुरू हुई और यह शाम 6.30 बजे तक चलेगी। जीएसटी बैठक में देश में वस्तुओं और सेवाओं पर कर स्लैब को लेकर अंतिम निर्णय लिया जाएगा। 

यह पहली बार है जब इस तरह की महत्वपूर्ण राष्ट्रीय नीति से संबंधित बैठक जम्मू एवं कश्मीर में हो रही है। आधिकारिक सूत्रों के मुताबिक, 'संभव है कि अपने राज्यों से जुड़ी आधिकारिक व्यस्तताओं के चलते त्रिपुरा, सिक्किम और नागालैंड के वित्त मंत्री जीएसटी बैठक में सम्मिलित न हो पाएं।'

बैठक के बारे में वित्त मंत्री शुक्रवार को एक संवाददाता सम्मेलन में बताएंगे। वहीं, जम्मू एवं कश्मीर सरकार ने कहा है कि वह राज्य के हितों की रक्षा के लिए कानून लाने और राज्य के संविधान के अनुरूप राष्ट्रीय जीएसटी नीति लाने के बाद जीएसटी प्रणाली में भागीदारी पर अंतिम फैसला लेगी।

ध्यान देने वाली बात यह है कि देश में जम्मू एवं कश्मीर ही ऐसा राज्य है जिसका अपना अलग संविधान है।

GST: हर तिमाही नहीं भरना होगा टैक्स रिटर्न, अरुण जेटली ने बताया अव्यावहारिक कदम

इससे पहले आज सुबह वित्त मंत्री ने जम्मू कश्मीर की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती से मुलाकात भी की थी। 

बता दें कि जीएसटी के तह्त ज्यादातर वस्तुओं और सेवाओं की कर दरों को 5,12,18 और 28 फीसदी के अंदर वर्गीकृत किया गया है। इससे पहले वित्त मंत्री अरुण जेटली ने इस महीने के शुरु में विश्वास दिखाया था कि 18-19 मई की बैठक में जीएसटी परिषद कर दरों को तय कर लेगी।

(इनपुट IANS से भी)

यह भी पढ़ें: पहला गुजराती वेब सीरीज काचो पापड़, पाको पापड़ 19 मई से शुरू

IPL से जुड़ी ख़बरों को पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें 

RELATED TAG: Gst, Sri Nagar, Arun Jaitley,

देश, दुनिया की हर बड़ी ख़बर अब आपके मोबाइल पर, डाउनलोड करें न्यूज़ स्टेट एप IOS ओर Android यूज़र्स इस लिंक पर क्लिक करें।

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें

न्यूज़ फीचर

मुख्य ख़बरे

वीडियो

फोटो