Breaking
  • कोलकाता टेस्ट: श्रीलंका के खिलाफ टीम इंडिया पहली पारी में 172 रनों पर ऑलआउट
  • अरुणाचल प्रदेश में भारत-चीन सीमा के पास भूकंप, रिक्टर स्केल पर 6.4 तीव्रता

रुपाणी की कंपनी पर ट्रेडिंग में 'हेरा-फेरी' का आरोप, राहुल ने कहा-मोदी 'चुप्पी' तोड CM को पद से हटाएं

  |  Reported By  :  News State Bureau  |  Updated On : November 10, 2017 07:41 AM
कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी (फाइल फोटो)

कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी (फाइल फोटो)

ख़ास बातें
  •  गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रुपाणी की कंपनी के कथित फ्रॉड पर राहुल का हमला
  •  राहुल ने कहा, 'यही है न खाऊंगा और खाने दूंगा' की हकीकत

नई दिल्ली :  

सारंग केमिकल्स कंपनी के शेयरों की ट्रेडिंग में कथित हेरा-फेरी के मामले में गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रुपाणी की कंपनी हिंदू अनडिवाइडेड फैमिली (एचयूएफ) पर सेबी (सिक्योरिटी एक्सचेंज बोर्ड ऑफ इंडिया) के जुर्माना लगाए जाने के बाद कांग्रेस के वाइस प्रेसिडेंट राहुल गांधी ने एक बार फिर से भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के भ्रष्टाचार विरोधी मुहिम के दावे पर सवाल उठाया है।

राहुल ने ट्वीट कर कहा, यही है 'न खाऊंगा, न खाने दूंगा की कहानी।'

राहुल ने गुरुवार को कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपने नेताओं के भ्रष्टाचार पर 'चुप्पी' तोडें और गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रुपानी को पद से हटाएं। 

गौरतलब है कि बाजार नियामक संस्था सिक्योरिटी एक्सचेंज बोर्ड ऑफ इंडिया (सेबी) ने सारंग केमिकल्स कंपनी के शेयरों की ट्रेडिंग में कथित हेरा-फेरी के मामले में रुपाणी की कंपनी हिंदू अनडिवाइडेड फैमिली (एचयूएफ) समेत 22 अन्य कंपनियों पर जुर्माना लगाया है।

अंग्रेजी बिजनेस अखबार बिजनेस स्टैंडर्ड में छपी खबर के मुताबिक रुपाणी की कंपनी समेत 22 कंपनियों पर सेबी 6.9 करोड़ रुपये का जुर्माना लगाया है।

रुपाणी की कंपनी पर सेबी ने 15 लाख रुपये का जुर्माना लगाया है।

और पढ़ें: रुपाणी की कंपनी पर ट्रेडिंग में 'हेरा-फेरी' पर SEBI ने लगाया जुर्माना

वहीं तीन अन्य लोगों पर 70 लाख रुपये से अधिक का जुर्माना लगाया गया है।

सेबी ने कहा कि इन कंपनियों पर लगाया गया जुर्माना इनके किए गए 'उल्लंघन के अनुपात' में है। 22 कंपनियों में दो ब्रोकर भी शामिल हैं, जिनके जरिये ट्रेडकिया गया। इन्हें 8-8 लाख रुपये का जुर्माना भरने को कहा गया है।

इस मामले में सफाई देते हुए रुपाणी ने कहा कि कथित फर्जीवाड़ा मामले में जांच के दौरान उन्हें अपना पक्ष रखने का मौका नहीं दिया गया।

ट्विटर पर जारी बयान में सफाई में उन्होंने कहा है कि सिक्योरिटीज एपिलेट ट्रिब्यूनल (सैट) ने सेबी के आदेश को रद्द कर दिया है। जारी बयान में उन्होंने कहा है कि सारंग केमिकल्स की शेयर ट्रेडिंग उनकी एचयूएफ को कोई बड़ा मुनाफा नहीं हुआ।

उन्होंने कहा कि 'जिस आदेश के आधार पर बिजनेस स्टैंडर्ड ने खबर छापी है, उसे सेबी ट्रिब्यूनल पहले ही खारिज कर चुका है।'

और पढ़ें: गुजरात चुनाव 2017: शिवसेना बीजेपी से अलग अपने दम पर लड़ेगी चुनाव

RELATED TAG: Gujarat Cm, Vijay Rupani, Sebi, Sat, Rahul Gandhi,

देश, दुनिया की हर बड़ी ख़बर अब आपके मोबाइल पर, डाउनलोड करें न्यूज़ स्टेट एप IOS ओर Android यूज़र्स इस लिंक पर क्लिक करें।

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें

न्यूज़ फीचर

मुख्य ख़बरे

वीडियो

फोटो