Breaking
  • कोलकाता से आतंकी संगठन अल-कायदा के तीन संदिग्ध आतंकी गिरफ्तार, पूरी खबर पढ़ें -Read More »
  • बगदाद में कार विस्फोट, 21 की मौत

प्रदूषण स्तर पर लगाम लगाने की कवायद, 'ऑड-ईवन स्कीम' के यह है फायदे, पर यह सवाल बरकरार

  |  Updated On : November 09, 2017 05:41 PM
दिल्ली: 'ऑड-ईवन स्कीम' (फाइल फोटो)

दिल्ली: 'ऑड-ईवन स्कीम' (फाइल फोटो)

नई दिल्ली:  

प्रदूषण पर घिरी एनजीटी की कड़ी फटकार के बाद इस समस्या का समाधान निकालने की कवायद शुरू हो गई है। इस बीच, दिल्ली सरकार एक बार फिर ऑड-ईवन फार्मूले को राष्ट्रीय राजधानी में लागू करने की तैयारी में है।

इसके लिए दिल्ली सरकार ने 13-17 नवंबर तक ऑड-ईवन फॉर्मूला लागू करने का ऐलान कर दिया है। परिवहन मंत्री कैलाश गहलोत ने इस बात का ऐलान किया है। इससे पहले दिल्ली हाई कोर्ट ने प्रदूषण पर लगाम लगानी की दिल्ली सरकार की कोशिश 'ऑड-ईवन फॉर्मूले' की तारीफ भी की थी।

क्या होंगे ऑड-ईवन के फायदे? 

प्रदूषण स्तर में आएगी कमी

सबसे बड़ा फायदा तो यह होगा कि प्रदूषण स्तर में कमी आएगी। प्रदूषण के बढ़ते स्तर को देखते हुए एनजीटी ने भी इस पर चिंता जताते हुए सरकारों को फटकार लगाई थी।

RBI चलाएगा जागरूकता अभियान, ग्राहकों को देगा निवेश संबंधी जानकारी

एनजीटी ने कहा, 'केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) के आंकड़े बता रहे हैं कि दिल्ली और एनसीआर की हवा में मौत छिपी है। बुधवार के आंकड़े के मुताबिक हवा में घुले खतरनाक सूक्ष्म कण पीएम 2.5 और पीएम 10 की मात्रा काफी बढ़ गई है। पीएम 10 जो कि आमतौर पर वातावरण में 100 तक होता है लगभग 10 गुणा ज़्यादा बढ़कर 986 पर पहुंच गया है। वहीं 2.5 लेवल के पीएम जो कि आमतौर पर 60 होता है लगभग 8 गुणा बढ़कर 420 पर पहुंच गया है। ये हालात लगभग पिछले एक सप्ताह से है।'

ईंधन का कम होगा इस्तेमाल

गाड़ियों को ऑड-ईवन फार्मूले के तह्त चलाने पर गाड़ियों का इस्तेमाल कम होगा जिससे ईंधन की बचत होगी। ईंधन ऐसा स्रोत है, जो समय के साथ खत्म हो जाएगा। ऐसे में इसकी बचत कर सरकार के साथ ही आमजनता को भी फायदा होगा।

वैसे भी सरकार समय-समय पर ईंधन की बचत के लिए कैंपेन चलाती रहती है ऐसे में सरकार के इस उपाय से एक तीर में दो शिकार हो सकेंगे और व्यापक बचत संभव हो सकेगी।

कार पूलिंग को मिलेगा बढ़ावा

एक ही रास्ते पर जाने वाले पड़ोसी, दोस्त और रिश्तेदार कार पूलिंग का सहारा लेने में हिचकिचाएंगे नहीं और इसके इस्तेमाल से ईंधन खर्च बचाना, ट्रैफिक कम होना जैसे कई फायदे शामिल होंगे।

ट्रैफिक से मिलेगी निजात

ऑड-ईवन स्कीम का एक यह भी फायदा है कि इससे सड़कों पर बढ़ते गाड़ियों का बोझ भी कुछ हल्का होगा जिसका असर ट्रैफिक कंडीशन पर होगा और ट्रैफिक कम होने में मदद मिलेगी।

नोटबंदी के बाद ईडी ने 9000 करोड़ रु. का कालाधन किया जब्त

एक अनुमान के मुताबिक दिल्ली की आबादी लगभग एक करोड़ 70 लाख है, जबकि वाहनो की संख्या है करीब एक करोड़ है। यहीं नहीं, एनसीआर और अन्य राज्यों से हर दिन लाखों गाड़ियां दिल्ली में प्रवेश करती हैं। इससे ट्रैफिक समस्या में कुछ तो राहत होगी।

कुछ नुकसान भी हैं साथ

1. कार पूलिंग एक अच्छा विकल्प है लेकिन कानून-व्यवस्था को देखते हुए यह कितना सुरक्षित है यह कह पाना मुश्किल हैं। जहां राजधानी दिल्ली-एनसीआर में रेप जैसे मामलों में कोई ख़ास कमी नहीं आई है ऐसे में कार-पूलिंग विकल्प पर कुछ संशय तो रहेगा ही।

2. ऑड-ईवन को भले ही दिल्ली हाई कोर्ट ने भी सराहा हो बावजूद इसके यह तत्कालिक उपाय ही है इससे लॉन्ग टर्म के लिए प्रदूषण समस्या से निजात मिलेगी ऐसा कह पाना मुश्किल है।

3. पराली जलाने से उठे प्रदूषण स्तर की समस्या ऑड-ईवन फॉर्मूला लागू करने के बाद भी जारी रहेगी। इस समस्या का लॉन्ग टर्म उपाय निकालना अभी बाकी है।

यह भी पढ़ें: पद्मावती विवाद: बीजेपी विधायक ने कहा- ऐतिहासिक तथ्यों के साथ छेड़छाड़ बर्दाश्त नहीं होगी

कारोबार से जुड़ी ख़बरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें 

RELATED TAG: Kejriwal Govt, Delhi, Odd Even Formula,

देश, दुनिया की हर बड़ी ख़बर अब आपके मोबाइल पर, डाउनलोड करें न्यूज़ स्टेट एप IOS ओर Android यूज़र्स इस लिंक पर क्लिक करें।

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें

न्यूज़ फीचर

मुख्य ख़बरे

वीडियो

फोटो