ICC Champions Trophy: पाकिस्तान के खिलाफ फाइनल में ट्यूबलाइट बनें अश्विन-बुमराह, जाने कहां की गलतियां

By   |  Updated On : June 19, 2017 12:10 AM
चैम्पियन्स ट्रॉफी 2017: फाइनल में ट्यूबलाइट बनें भारतीय गेंदबाज

चैम्पियन्स ट्रॉफी 2017: फाइनल में ट्यूबलाइट बनें भारतीय गेंदबाज

नई दिल्ली:  

आईसीसी चैंपियंस ट्रॉफी में भारत-पाकिस्तान के महामुकाबले पर आम से लेकर खास लोगों की निगाहें रहीं। यहां तक की पूरे देश ने भारत और पाकिस्तान के फाइनल में उतरने तक की दुआएं मांगी। लेकिन किसी ने भी ये नहीं सोचा था कि ग्रुप मैच में पाकिस्तान को 124 रन से शिकस्त देने वाली भारतीय टीम को अपनी खराब गेंदबाजी के चलते मुंह की खानी पड़ेगी।

भारत के दिग्गज गेंदबाज उम्मीदों पर खरे उतरने पर नाकामयाब रहे। उनकी खामियों की वजह से भारतीय टीम पाकिस्तान से बहुत बड़े से अंतर 180 रन से हार गई। इसमें केवल हार्दिक पांड्या ही पाकिस्तान का सामना कर पाए, जिनके रन किसी काम नहीं आए।

पाकिस्तान के 338 रन के जवाब में भारतीय खिलाड़ी 158 रन पर ही सिमट गए। टीम इंडिया के धुरंधर इस कदर धुल जाएंगे, किसी ने ख्वाब में भी नहीं सोचा होगा। चैम्पियंस ट्रॉफी के फाइनल में आर अश्विन सबसे महंगे गेंदबाज साबित हुए। वहीं बुमराह ने नोबॉल डालकर पाकिस्तानी खिलाड़ियों को एक के बाद एक जीवनदान देते गए।

आइए आपको बताते हैं भारतीय टीम से कहां हुई चूक और किन कारणों के चलते देखना पड़ा हार ​का मुं​ह। 

और पढ़ें: भारत को 180 रनों से हराकर पाकिस्तान पहली बार बना चैम्पियन

1. चैम्पियन्स ट्रॉफी के फाइनल में आर अश्विन सबसे महंगे गेंदबाज बनें। उन्होंने 10 ओवर 70 रन देकर प्रतिद्वंद्वि टीम को मजबूत स्कोर बनाने का मौका दिया।

2. बुमराह नो बॉल देकर पाकिस्तानी खिलाड़ी फखर जमान को जीवन देकर टीम के पैरों पर खुद ही कुल्हारी मार दी। वहीं फखर जमान ने 114 रन के साथ पहली बार अपने करियर का शतक जड़ा।

3. टीम इंडिया की ओर से अतिरिक्त 25 रन गए हैं। उसमें 13 वाइड और 3 नो बॉल और पाकिस्तान की ओर से 30 ओवर में एक ही वाइड गई।

और पढ़ें: ICC Champions Trophy 2017: विराट की इन गलतियों की वजह से भारत को मिली हार

4. एक खास बात और भी है कि आज खेल के मैदान में पाकिस्तान के सितारे उनके साथ रहे। पाकिस्तानी खिलाड़ियों की किस्मत ने उनका काफी साथ दिया, जिससे वह भारत को शिकस्त देने मे कामयाब रहे।

5. वहीं दूसरा हार का सबसे बड़ा कारण टीम का सलेक्शन रहा। जी हां, विराट कोहली के टीम सलेक्शन की बात करें तो उन्होंने ग्रुप मैच में पांच मुख्य गेंदबाजों को खिलाया था, वहीं पाकिस्तान के फाइनल में केवल 4 ही मुख्य गेंदबाज रखे।

6. पाकिस्तान के खिलाफ 2 स्पिनर के लिए जगह नहीं बन रही थी, इसलिए अश्विन की जगह उमेश यादव को भी खिलाया जा सकता था।

7. टॉस जीतकर पहले गेंदबाजी करने का फैसला नहीं लेना चाहिए था। हार्दिक पांड्या की जगह की उमेश यादव या फिर मोहम्म्द शमी को लिया जाता तो शायद ये मैच हमारे पक्ष में जाता।

8. केदार जाधव को इस मैच में अाखिरी में मौका दिया गया, जबकि इससे पहले वह बांग्लादेश के खिलाफ काफी अच्छा प्रदर्शन कर चुके थे।

और पढ़ें: पाकिस्तान ने भारत को दी पटखनी, ट्विटर पर नाराज हुए फैंस

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें

न्यूज़ फीचर

मुख्य ख़बरे