केंद्र सरकार ने बासवान समिति पर किया विचार, सिविल सेवा परीक्षा में करेगी बदलाव

  |  Updated On : November 15, 2017 08:36 PM
सिविल सेवा परीक्षा में केंद्र सरकार करेगी बदलाव

सिविल सेवा परीक्षा में केंद्र सरकार करेगी बदलाव

नई दिल्ली:  

केंद्र सरकार सिविल सेवा परीक्षा के पैटर्न और अधिकतम उम्र सीमा में बदलाव करने की सोच रही है। दरअसल, केंद्र सरकार यूपीएससी द्वारा गठित बासवान समिति की रिपोर्ट की जांच पड़ताल कर रही है।

यूपीएससी ने अपनी बासवान समिति की रिपोर्ट में सिविल सेवा परीक्षा के पैटर्न को बदलने और अधिकतम उम्र सीमा 32 को कम करने की सिफारिशें की थी।

विभाग ने बताया कि बासवान समिति की रिपोर्ट और उस पर यूपीएससी की सिफारिशें 20 मार्च, 2017 को सरकार को सौंपी गई थी। फिलहाल इस पर विचार किया जा रहा है।

सिविल सेवा परीक्षा को लेकर विवाद होने और व्यापक पैमाने पर छात्रों के विरोध के बाद यूपीएससी ने मानव संसाधन मंत्रालय के पूर्व सचिव और आइएएस अधिकारी बीएस बासवान की अध्यक्षता में अगस्त, 2015 में समिति का गठन किया था।

कार्मिक राज्य मंत्री जितेंद्र सिंह ने पिछले साल नवंबर में राज्यसभा में एक लिखित बयान में समिति की रिपोर्ट की यूपीएससी द्वारा पड़ताल करने की बात कही थी। सिविल सेवा परीक्षा तीन चरणों (प्रारंभिक, मुख्य और व्यक्तित्व परीक्षण या साक्षात्कार) में संपन्न होती है। इसके जरिये ही आइएएस, आइपीएस, आइआरएस और आइएफएस अधिकारियों का चयन किया जाता है।

और पढ़ेंः NTA लेगी हर तरह की प्रवेश परीक्षा, नेशनल टेस्टिंग एजेंसी को कैबिनेट की मंजूरी

RELATED TAG: Central Government, Baswan Committee, Upsc, Age Limit, Civil Services Exam, News In Hindi,

देश, दुनिया की हर बड़ी ख़बर अब आपके मोबाइल पर, डाउनलोड करें न्यूज़ स्टेट एप IOS ओर Android यूज़र्स इस लिंक पर क्लिक करें।

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें

न्यूज़ फीचर

मुख्य ख़बरे

वीडियो

फोटो