Breaking
  • पी वी सिंधु दुबई वर्ल्ड सुपर सीरीज के फाइनल में पहुंची
  • H-1B वीजा में मिली छूट को ख़त्म करेगा ट्रंप प्रशासन (पढ़ें खबर) -Read More »
  • अगड़ी जाति के गरीबों को भी आरक्षण देने पर करें विचार: HC (पढ़ें खबर) -Read More »
  • यौन अपराध रोकने के लिए महिलाओं को गैजेट्स दिलाए सरकार: मद्रास HC (पढ़ें खबर) -Read More »
  • लश्कर प्रमुख हाफिज सईद ने फिर उगली आग, बोला- भारत से लेंगे पूर्वी पाकिस्तान का बदला
  • गुजरात चुनाव से पहले डरे हार्दिक, बोले- EVM पर सौ फीसदी है शक (पढ़ें खबर) -Read More »
  • जीएसटी परिषद ने ई-वे बिल को लागू करने की दी मंजूरी

मैं वास्तविकता को जटिलता संग कैमरे में कैद कर रहा हूं: अनुराग कश्यप

  |  Updated On : December 08, 2017 12:20 AM
फिल्मकार अनुराग कश्यप (फाईल फोटो)

फिल्मकार अनुराग कश्यप (फाईल फोटो)

नई दिल्ली:  

फिल्मकार अनुराग कश्यप अपनी फिल्मों के जरिए समाज की वास्तविकता को पर्दे पर पेश करने के लिए जाने जाते हैं। अनुराग की अगली फिल्म 'मुक्काबाज' भी समाज में मौजूद 'उलट जातिवाद' व खराब आधारभूत ढांचे जैसे समाज के 'जटिल मुद्दों' पर बात करती है।

अपनी फिल्म के बारे में अनुराग ने यहां कहा, 'मेरी फिल्म की पृष्ठभूमि उत्तर प्रदेश की है जिस राज्य से मैं आया हूं। जो जातिवाद आप फिल्म में देख रहे हैं वह उतना ही वास्तविक है जितना लगता है। यह उस समाज की वास्तविकता है।'

उन्होंने कहा, 'जब हम जातिवाद के बारे में बात करते हैं तो हम केवल यह सोचते हैं कि निम्न जाति के साथ उच्च जाति कैसे भेदभाव कर रही है। लेकिन वास्तविकता यह भी है कि इससे उलट जातिवाद भी मौजूद है जहां निम्न जाति के लोग प्रशासन में उच्च पद पर पहुंचकर सालों के बाद उच्च जाति के लोगों के साथ बदला लेते हैं जिन्होंने उनसे पहले भेदभाव किया था।'

क्या उनकी फिल्म में राजनीति को जानबूझकर शामिल करने की कोशिश की गई है जो मूल रूप से बॉक्सिंग के बारे में है? इस सवाल पर उन्होंने कहा, 'मैं मुक्केबाजी पर आधारित एक खेल फिल्म बना रहा हूं। फिल्म के माध्यम से मैं मुक्केबाजी के खेल की वास्तविक स्थिति और उन खिलाड़ियों की सामाजिक पृष्ठभूमि दिखा रहा हूं जो इससे जुड़ रहे हैं। इसलिए फिल्म की साम्रागी की विभिन्न परतें मूल रूप से इसकी आसपास की चीजों पर घूमती हैं।'

और पढ़ें: 'न्यू दिल्ली टाईम्स' के संपादक को मिला था नेशनल अवॉर्ड

फिल्म का नायक राष्ट्रीय चैंपियन बनने के अपने सपने को पूरा करने के लिए संघर्ष करता है। यह फिल्म देश के खेल परिदृश्य में त्रुटिपूर्ण बुनियादी ढांचे की वास्तविकता को उजागर करती है जो भारत को एथलेटिक्स में एक वैश्विक पहचान बनाने में सबसे बड़ी बाधा है।

विनीत कुमार सिंह और जिम्मी शेरगिल अभिनीत फिल्म 'मुक्काबाज' 12 जनवरी को रिलीज होगी।

और पढ़ें: यरुशलम विवाद: हमास का 'जन विद्रोह' का आह्वान

RELATED TAG: Anurag Kashyap,

देश, दुनिया की हर बड़ी ख़बर अब आपके मोबाइल पर, डाउनलोड करें न्यूज़ स्टेट एप IOS ओर Android यूज़र्स इस लिंक पर क्लिक करें।

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें

न्यूज़ फीचर

मुख्य ख़बरे

वीडियो

फोटो