Breaking
  • कमल हसन ने किया अपने राजनीतिक पार्टी के नाम का ऐलान- 'मक्कल नीधी मैय्यम'
  • PNB घोटाला: जांच की मांग वाली याचिका का सरकार ने SC में किया विरोध -Read More »
  • प्रिया प्रकाश वारियर को सुप्रीम कोर्ट से राहत, एक्ट्रेस के खिलाफ दर्ज हुए मामलों पर लगाई रोक
  • CBI रोटोमेक के मालिक विक्रम कोठारी और उनके बेटे से दिल्ली हेडक्वार्टर में कर रही है पूछताछ
  • यूपी: पीएम मोदी करेंगे इन्वेस्टर्स समिट का आग़ाज़, सीएम योगी को व्यापार में बढ़ोतरी की उम्मीद -Read More »
  • फिल्म अभिनेता कमल हासन आज अपनी पार्टी करेंगे लांच, कहा- गांव के विकास पर होगी नज़र -Read More »
  • पीएनबी फर्जीवाड़ा: 11 हज़ार करोड़ नहीं 280 करोड़ रुपये का लिया था लोन- नीरव के वकील -Read More »
  • पीएनबी घोटाला: सीबीआई ने जनरल मैनेजर रैंक के अधिकारी को किया गिरफ्तार

ये क्या? बिहार शिक्षा विभाग ने कश्मीर को बताया अलग 'देश'!

  |  Updated On : October 11, 2017 02:58 PM
प्रश्नपत्र में कश्मीर को बताया अलग देश

प्रश्नपत्र में कश्मीर को बताया अलग देश

नई दिल्ली:  

बिहार सरकार राज्य में भले ही शिक्षा के क्षेत्र में लाख सुधार के दावे कर ले, परंतु शिक्षा विभाग के कारनामे सरकार के इन दावों की पोल खोलते रहे हैं।

इस बार एक नया मामला प्रकाश में आया है, जब राज्य सरकार की ओर से संचालित सातवीं कक्षा के छात्रों के लिए अंग्रेजी के प्रश्न पत्र में कश्मीर को अलग 'देश' बताया गया है।

बिहार शिक्षा परियोजना परिषद की ओर से संचालित अद्र्घवार्षिक परीक्षा 2017 के अंग्रेजी के प्रश्नपत्र में छात्रों से चीन, नेपाल, इंग्लैंड और भारत की तरह 'कश्मीर' को एक अलग देश के रूप बताते हुए इससे संबंधित एक प्रश्न पूछा गया है।

प्रश्न में अन्य देशों की तरह कश्मीर को भी अलग देश बताते हुए छात्रों से इस देश के निवासियों के नाम बताने के विषय में प्रश्न किया गया है।

और पढ़ें: SC का फैसला- नाबालिग पत्नी से यौन संबंध 'रेप', जानें कोर्ट ने क्या कहा

अंग्रेजी के इस प्रश्न पत्र में चीन के नागरिकों को 'चाईनीज' कहे जाने का उदाहरण देते हुए छात्रों को नेपाल, इंग्लैंड और भारत की तरह ही 'कश्मीर' के निवासियों को लेकर रिक्त स्थान भरने को दिया गया है। इस प्रश्न पत्र के बारे में वैशाली जिले के एक स्कूल में छात्रों ने शिकायत की, तब यह मामला प्रकाश में आया।

शिक्षा विभाग अब इसे मुद्रण त्रुटि बता रहा है। बिहार के सभी सरकारी स्कूलों में यह परीक्षा बिहार शिक्षा परिषद आयोजित करता है।

शिक्षा विभाग के एक अधिकारी ने इसके लिए सवाल छापने वाले प्रिंटर को दोषी ठहराया है। हालांकि, उनका कहना है कि यह एक बड़ी गलती है, जो नहीं होनी चाहिए।

और पढ़ें: अनुपम खेर को FTII की कमान, गजेंद्र चौहान की नियुक्ति पर हुआ था विवाद

RELATED TAG: Bihar, State Board, Kashmir, Country,

देश, दुनिया की हर बड़ी ख़बर अब आपके मोबाइल पर, डाउनलोड करें न्यूज़ स्टेट एप IOS ओर Android यूज़र्स इस लिंक पर क्लिक करें।

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें

न्यूज़ फीचर

मुख्य ख़बरे

वीडियो

फोटो