सीएम योगी ने कहा- यूपी-उत्तराखंड संपत्ति मसला दो महीने में सुलझा लेंगे

| Last Updated:

नई दिल्ली :

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि उत्तराखंड के साथ 17-18 साल के लंबित संपत्ति के बंटवारे को जल्द ही सुलझा लिया जाएगा।

उन्होंने कहा, 'हाल ही में हुई दोनों राज्यों के मुख्य सचिवों के बीच हुए चर्चा के दौरान दोनों राज्य लंबित पड़े मामलों को सुलझाने पर सहमत हुए हैं और इन्हें 2 महीनों में सुलझा लिया जाएगा।'

सीएम योगी हरिद्वार में 100 कमरों के एक गेस्ट हाउस का उद्घाटन करने गए हुए थे। ये गेस्ट हाउस उत्तर प्रदेश सरकार का मालिकाना हक है।

सीएम ने कहा कि अलकनंदा होटल जिस पर दोनों राज्य अपना अधिकार जता रहे थे उस पर उत्तराखंड का ही दावा होगा।

जिस टूरिस्ट गेस्ट हाउस का उद्घाटन सीएम ने किया वो अलकनंदा होटल के बगल ही स्थित है। उन्होंने कहा कि उनकी योजना है कि बद्रीनाथ में भी श्रद्धालुओं के लिये एक गेस्ट हाउस बनवाएं।

उन्होंने कहा कि सत्ता में आने के बाद दोनों राज्यों के बीच लंबित पड़े संपत्तियों के बंटवारे का मामला जब मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत के पास गया तो उन्होंने सकारात्मक कदम उठाने शुरू किये।

और पढ़ें: दिल्ली मेट्रो की मजेंटा लाइन को CM केजरीवाल ने दिखाई हरी झंडी

उन्होंने कहा कि दोनों राज्य मिलकर पर्यटक स्थलों के विकास का काम करेंगे।

इसके साथ ही उन्होंने सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत से कहा कि वो अगले साल कुंभ के मेले के लिये गंगा में ज्यादा पानी रिलीज़ करें। साथ ही उन्होंने साधु संतों के साथ ही सीएम रावत और उनके मंत्रिमंडल के सदस्यों को इलाहाबाद आने का निमंत्रण भी दिया।

उन्होंने कहा कि गंगनहर के साथ वाली कांवर मेला रोड को गाजियाबाद तक ले जाया जाएगा।

और पढ़ें: वेदांता समूह को झटका, तमिलनाडु में स्टरलाइट प्लांट को बंद करने का आदेश

First Published: