SBI ग्राहकों पर नोटबंदी की मार, बदल गए नकदी जमा करने के नियम

| Last Updated:

नई दिल्‍ली:

लोगों को जालसाजी से बचाने के लिए भारतीय स्टेट बैंक (SBI) ने कैश जमा कराने के नियमों में बदलाव कर दिया है। अब आपके खाते में कोई दूसरा व्‍यक्‍ति पैसे जमा नहीं करा सकता है। नियम इतना सख्‍त है कि आपकी पत्‍नी या पापा भ्‍ाी आपके खाते नकद जमा नहीं कर सकेंगे। नोटबंदी के दौरान इस सुविधा के दुरुप्रयोग होने की शिकायतों के बाद SBI ने यह कदम उठाया है।

ये है नियम
अब आप स्‍वयं अपने खाते में नकद जमा कर सकेंगे। कोई भी दूसरा व्‍यक्‍ति किसी के खाते में नकद जमा नहीं कर सकेगा। हालांकि ऑनलाइन या चेक से जमा पर यह नियम लागू नहीं होगा।

सिर्फ एक तरह से मिलेगी छूट
अगर आप चाहते हैं कि आपके अकाउंट में कोई दूसरा नकद जमा करें तो इसके लिए आपको लिखित में ऐसी अनुमति देनी होगी। इसके लिए जमा पर्ची पर साइन करके देना होगा, जिस पर डिटेल भर कर दूसरा व्‍यक्‍ति आपके खाते में पैसा जमा कर सकेगा।

और पढ़े : 2 लाख रुपए सस्‍ती पड़ेगी कार, लोन भी नहीं लेना होगा

आयकर विभाग की सलाह पर बना है नियम 

नोटबंदी के दौरान कई बैंक खातों में बड़ी संख्या में हजार और पांच सौ नोट जमा किए गए थे। अब जांच के बाद जब लोगों से इतने सारे नोटों के बारे में पूछा जा रहा है तो उनका कहना है कि किसी अनजान शख्स ने उनके बैंक खातों में पैसे जमा करा दिए हैं। उनका उससे कोई लेना-देना नहीं है। ऐसी स्‍थिति में आयकर विभाग ने सरकारी बैंकों से कहा था कि वे ऐसे नियम बनाएं कि कोई दूसरा शख्स किसी के बैंक खाते में नकद रुपए नहीं जमा करा पाए। 

First Published: