आम लोगों की गुहार, पेट्रोल-डीजल के दामों में बेतहाशा वृद्धि पर रोक लगाए सरकार, मुंबई में पेट्रोल 88 और डीजल 77 के पार

| Last Updated:

नई दिल्ली:

डीजल-पेट्रोल के बढ़ते दामों से देश में हाहाकार मचा हुआ है आम जनता मंहगाई की मार झेल रही है विपक्ष सड़क पर प्रदर्शन कर रहा है और सरकार रुपये की घटती क़ीमत का रोना रोकर अपने हाथ खड़े कर दे रही है। मंगलवार को 15वें दिन भी डीजल-पेट्रोल के दामों में बेतहाशा वृद्धि का दौर जारी है। आज दिल्ली में पेट्रोल 0.14/लीटर की बढ़ोतरी के साथ 80.87/लीटर बिक रहा है वहीं डीजल 0.14/लीटर के साथ 72.97/लीटर।

वहीं मुंबई में पेट्रोल-डीजल के दाम अपने सबसे ऊच्चतम स्तर पर है। मुंबई में पेट्रोल की क़ीमत 88.26/लीटर पर पहुंच गया है, जबकि डीजल की क़ीमत 77.47/लीटर पर।

बढ़ते दामों से परेशान आम लोग अब सरकार से वृद्धि पर अंकुश लगाने की गुहार लगा रहे हैं। मुंबई में आम लोगों ने मीडिया से कहा, 'हर रोज़ डीज़ल-पेट्रोल के दामों में वृद्धि हो रही है। हम सरकार से अनुरोध करते हैं कि वो बढ़ते दामों पर अंकुश लगाएं। अगर वो ऐसा कर पाते हैं तो हम पर थोड़ा कम असर पड़ेगा।' 

Petrol at Rs 88.26/litre (increase by Rs 0.14/litre) and diesel at Rs 77.47/litre (increase by Rs 0.15/litre) in #Mumbai. Locals say, 'Prices are increasing everyday. We appeal to the govt to reduce the prices. We will be less burdened if they do so.' #Maharashtra pic.twitter.com/3ELuGhLnw7

— ANI (@ANI) September 11, 2018

इससे पहले सोमवार को राजधानी दिल्ली में पेट्रोल 0.23/लीटर की बढ़ोतरी के साथ रिकॉर्ड 80.73/लीटर पर पहुंच गया था। जबकि डीजल 0.22/लीटर की बढ़ोतरी के साथ 72.83/लीटर पर। वहीं मुंबई में पेट्रोल की क़ीमत 88.12/लीटर तो डीजल की क़ीमत 77.32/लीटर पर पहुंच गया था।

ज़ाहिर है कि दामों में कटौती को लेकर सरकार ने पहले ही यह कहते हुए हाथ खड़े कर दिए हैं कि डॉलर के खिलाफ रुपये के कमजोर होने तथा आपूर्ति पक्ष की बाधाओं के कारण पेट्रोल-डीजल महंगे हो रहे हैं। और जनता जर रोज़ मंहगाई की मार झेलने को विवश हो रही है।

बढ़ती क़ीमतों को लेकर पेट्रोलिम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने कहा, डॉलर के खिलाफ अन्य मुद्राओं की तुलना में रुपया अधिक मजबूती से टिका हुआ है।

और पढ़ें- राजस्थान के बाद आंध्र सरकार ने आम आदमी को दी बड़ी राहत, दो रुपये सस्ता हुआ पेट्रोल-डीजल

मंत्री ने कहा, 'आज अन्य मुद्राओं की तुलना में भारतीय मुद्रा सबसे अधिक मजबूत है, लेकिन हम तेल की खरीद डॉलर में करते हैं। इसलिए हमारे सामने समस्या पैदा हो रही है।'

First Published: